Assembly Banner 2021

सेना की 3 दिनी कंबाइंड कमांडर कॉन्‍फ्रेंस आज से, PM मोदी करेंगे संबोधित

पीएम मोदी कॉन्‍फ्रेंस को करेंगे संबोधित. (File pic)

पीएम मोदी कॉन्‍फ्रेंस को करेंगे संबोधित. (File pic)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) इस कान्‍फ्रेंस को 6 मार्च को संबोधित करेंगे. ऐसा पहली बार होगा कि इस कंबाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में जेसीओ और जवान भी शामिल होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 4, 2021, 11:40 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. तीनों सेनाओं (Indian Army) के कमांडर्स की कंबाइंड कमांडर कॉन्‍फ्रेंस (Combined Commander Conference) गुरुवार से गुजरात के केवडि़या में शुरू हो रही है. तीन दिन चलने वाली इस कॉन्‍फ्रेंस के आखिरी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) इसे संबोधित करेंगे. इस कॉन्‍फ्रेंस में पहली बार जेसीओ और जवान भी शामिल हो रहे हैं. भारतीय सेना लगातार पड़ोसियों के नापाक इरादों को नाकाम करने में जुटी है. भारत के सामने दुनिया में अपने को सबसे ताकतवर मुल्क बताने वाले चीन को घुटने टेकने पड़े तो पाकिस्तान के तेवर नर्म हो गए. लेकिन इन सबसे भारतीय सेना की तैयारियों मे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ा.

थलसेना, वायुसेना और नौसेना तीनों अपने आपको भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार करने में जुटी हैं और इन्हीं तैयारियों का जायजा लिया जाएगा गुजरात के केवड़िया में होने वाले कंबाइंड कमांडर्स कांफ्रेंस में. साल में इस तरह की कांफ्रेंस एक बार आयोजित की जाती है. खास बात को ये है कि इस कांफ्रेंस को प्रधानमंत्री नरेंद मोदी 6 मार्च को संबोधित करेंगे. केवडिया में 4 मार्च से 6 मार्च तक चलने वाले इस कांफ्रेंस में 6 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी भी शामिल होंगे और सेना के तीनो अंगों के कमांडरो को संबोधित करेंगे.

ऐसा पहली बार होगा कि इस कंबाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में जेसीओ और जवान भी शामिल होंगे. सूत्रों के मुताबिक पहली बार तीनों सेना के एक एक जेसीओ और जवान कांफ्रेंस के आखिरी दिन इसमें शामिल होंगे. इसमें जिस तरह से चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में भारतीय सैनिकों ने मुकाबला किया और एलओसी पर पाकिस्तान को लगातार मुंह तोड़ जवाब दिया उसके बाद यह तय किया गया कि कंबाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में जवानों और जेसीओ को भी एक सेशन में शामिल किया जाए. इस कॉन्फ्रेंस में कमांडर्स अलग अलग मसलों पर प्रजेंटेशन देंगे.



इसमें ऑपरेशनल मसलों के साथ साथ सेना के आधुनिकीकरण और वेलफ़ेयर के मुद्दे भी शामिल होंगे. चीन के साथ लद्दाख के लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) की स्थित और पाकिस्तान के साथ लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) के मौजूदा हालात, रणनीति तैयारियों पर भी चर्चा होगी. आत्मनिर्भर भारत की मुहिम पर सबसे पहले कार्रवाई करने वाले सेना के तीनों अंगों के कामकाज और भविष्य की ज़रूरतों को आत्मनिर्भरता से कैसे पूरा किया जाए इस पर भी चर्चा होगी.

डिपार्टमेंट ऑफ़ मिलेट्री अफ़ेयर्स के गठन के बाद ये पहली कंबाइंड कमॉडर कांफ्रेंस है. माना जा रहा है कि ज्वाइंटनेस , थियेटर कमांड और एक दूसरे के संसाधनों के साझा इस्तेमाल को लेकर अब तक हुए काम पर भी मंथन होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज