लाइव टीवी

OPINION: PM नरेंद्र मोदी का सऊदी अरब दौरा, एक तीर से लगेंगे कई निशाने

Anil Rai | News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 12:31 PM IST
OPINION: PM नरेंद्र मोदी का सऊदी अरब दौरा, एक तीर से लगेंगे कई निशाने
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सऊदी अरब दौरे से भारत को कई फायदे होंगे

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अपने सऊदी अरब दौरे में एक तीर से कई निशाने लगाए हैं. प्रधानमंत्री के इस दौरे से जहां भारत उर्जा (Energy) क्षेत्र में मजबूत होगा, वहीं भारत में विदेशी निवेश भी बढ़ेगा

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 12:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अपने सऊदी अरब (Saudi Arab) दौरे में एक तीर से कई निशाने लगाए हैं. प्रधानमंत्री के इस दौरे से जहां भारत उर्जा क्षेत्र (Energy) में मजबूत होगा. वहीं भारत में विदेशी निवेश भी बढ़ेगा और इसके साथ ही धारा 370 की समाप्ति के बाद मुस्लिम देशों के बीच भारत के खिलाफ पाकिस्तान के एजेंडे की हवा निकल जाएगी. भारत और सऊदी अरब के मजबूत होते रिश्तों का असर वहां रह रहे 26 लाख भारतीयों और काम की तलाश में सऊदी जाने की कोशिश कर रहे लोगों पर भी पड़ेगा.

मुस्लिम देशों के बीच अलग-थलग पड़ जाएगा पाकिस्तान

प्रधानमंत्री नेरन्द्र मोदी के इस सऊदी अरब दौरे के बाद हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान की बेचैनी सबसे ज्यादा बढ़ेगी. जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाने के बाद पाकिस्तान ने पूरी दुनिया में भारत के खिलाफ अपना एजेंडा चलाने की कोशिश की, लेकिन मोदी सरकार के मजबूत विदेश नीति के कारण उसे दुनिया में किसी देश का साथ नहीं मिला. ऐसे में पाकिस्तान ने दुनिया भर के मुश्लिम देशों के कश्मीर के मुसलमानों के उत्पीड़न के नाम पर एक करने की कोशिश में लग गया.

Narendra Modi
प्रधानमंत्री नेरन्द्र मोदी के इस सऊदी अरब दौरे के बाद हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान की बेचैनी सबसे ज्यादा बढ़ेगी.


हालांकि जिस तरह सऊदी अरब में भारतीय प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत हुआ, वह ये बताने के लिए काफी है कि सिर्फ सऊदी अरब ही नहीं, दुनिया के करीब-करीब सभी मुस्लिम देश भारत के साथ हैं, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि सऊदी अरब का मुस्लिम देशों में ख़ासा महत्व है और उसकी बात कोई भी देश नहीं काटता है. ऐसे में जम्मू-कश्मीर के दो अलग-अलग केन्द्र शासित राज्य बनने के ठीक दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी के इस दौरे ने पाकिस्तानी प्रोपोगेंडा की हवा निकाल दी है.

उर्जा क्षेत्र में मजबूत होगा भारत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की इस यात्रा के बाद सऊदी अरब भारत में 100 अरब डॉलर का निवेश करेगा जो 2017-2018 के 27.48 अरब डॉलर के द्विपक्षीय व्यापार से करीब चार गुना है. सऊदी अरब का ये निवेश विशेष कर उर्जा क्षेत्र में होगा. इस निवेश से भारत में रिफायनरी, पेट्रोकेमिकल क्षेत्र मजबूत होगा. इसके साथ ही इस विदेशी निवेश का एक बड़ा हिस्सा कृषि और खनन में क्षेत्र में भी लगेगा. यह साफ है कि इस विदेशी निवेश से एक ओर जहां भारत उर्जा और पेट्रोलियम क्षेत्र में मजबूत होगा. वहीं कृषि और खनन जैसे क्षेत्रों में भी साकारात्मक बदलाव दिखेगा भारत और सऊदी अरब के रिश्ते का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाने के दो हफ्ते के भीतर सऊदी अरब ने भारत में निवेश करने का ऐलान किया था.
Loading...

बढेगें रोजगार के अवसर

सऊदी अरब इस समय करीब 26 लाख भारतीय काम कर रहे हैं और वहां अब भी रोजगार की अपार संभावनाए हैं. ऐसे में यदि भारत और सउदी अरब के रिश्ते और मजबूत होगें तो भारत से और लोग काम की तलाश में सऊदी अरब जा सकते हैं. यह साफ है कि प्रधानमंत्री के इस दौरे में किए गए समझौते से जहां उर्जा, पेट्रोलियम, खनन और कृषि क्षेत्र में रोजगार की संभावनाएं बढ़ेगी. वहीं तकनीकी शिक्षा पाकर विदेश में रोजगार की तलाश कर रहे लोगों की राह भी थोड़ी आसान होगी.

यह भी पढ़ें: 2050 तक समुद्र में इतनी डूब जाएगी मुंबई, पहली बार सामने आई सेटेलाइट इमेज

सिग्नेचर की कार्बन कॉपी भी असली दस्‍तावेज के तौर पर होगी मान्‍य: सुप्रीम कोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 12:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...