गुजरात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दो दिन रहे खासे व्यस्त

पीएम ने कल से लेकर अब तक केवड़िया में जंगल सफारी, एकता मॉल, चिल्ड्रन न्यूट्रिशन पार्क जैसे अनेक नए स्थलों का लोकार्पण किया.
पीएम ने कल से लेकर अब तक केवड़िया में जंगल सफारी, एकता मॉल, चिल्ड्रन न्यूट्रिशन पार्क जैसे अनेक नए स्थलों का लोकार्पण किया.

पीएम मोदी ने एक बार फिर केवडिया को ले कर अपना विज़न बताया जिस से यहां ज्यादा से ज्यादा दुनिया भर से सैलानी आए और स्थानीय लोगों की ज़िन्दगी भी बदल जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 2:01 PM IST
  • Share this:
वैसे तो पीएम मोदी के अपने गृह राज्य गुजरत के दौरे खासे व्यस्त रहते हैं लेकिन उनका अक्टूबर 30 से 31 तक का दौरा इतना व्यस्त रहा की अक्टूबर 30 को दिल्ली में सुबह 5 बजे उठने के बाद उन्हें वापस आराम करने का मौका 31 अक्टूबर को रात 1 बजे मिला. गुजरात दौरे के पहले दिन ही पीएम मोदी के एक के बाद एक कार्यक्रम लगे हुए थे. पीएम ने भी बिना रुके और बिना थके सभी कार्यक्रमों में हिस्सा लिया और लोगों से मिलते भी रहे.

दरअसल पहले के तय कार्यक्रम के मुताबिक पीएम मोदी को अपनी गुजरात यात्रा अक्टूबर 30 की दोपहर को शुरू करनी थी. लेकिन पूर्व सीएम केशुभाई पटेल और गुजरात के दो बीजेपी नेता और सितारे कनोडिया बन्धु के देहांत के कारण पीएम के कार्यक्रम बदलने पड़े. पीएम मोदी सुबह सुबह 7.30 बजे अपने आवास से निकल गांधीनगर रवाना हो गए. गांधीनगर पहुंचने के बाद वो सीधा केशुभाई के घर रवाना हुए. उसके बाद उन्होंने नरेश और महेश कनोडिया के परिजनों से मुलाकात की. पीएमओ के सूत्र बताते हैं कि दोनों के परिजनों ने पीएम मोदी का इस शोक की घड़ी में आने और साथ ही उनकी बीमारी के दौरान पीएम द्वारा हमेशा उनका हाल जानने की बात पर भी आभार जताया.

पीएम मोदी का केवडिया का कार्यक्रम दोपहर में ही शुरू हो सका, जहां उन्होंने कई योजनाओं की शुरुआत भी की और कई योजनाओं का रिव्यू भी किया. इन प्रोजेक्ट में शामिल हैं आरोग्य वन यानी भारत की पौधों की विविधता, एकता मॉल यानी कपड़ा और हथकरघा क्षेत्र कि विविधता और बच्चों के न्युट्रिशन पार्क यानी तकनीकी से चलने वाला पार्क जो न्युट्रिशन और गुड हेल्थ का संदेश देता है. शाम का समय था जंगल सफारी के साथ एकता क्रूज के उद्घाटन का. देर शाम लाइटिंग और केक्टस गार्डन का भी उद्घाटन हुआ. ये सभी तैयारियां है पीएम मोदी के सपने को पूरा करने के लिए जिसके तहत केवड़िया गतिविधियों से भरे एक ऐसे पर्यटन क्षेत्र के रुप मैं हो जहां सब के लिए कुछ न कुछ रहे.



रात को ही स्टेचू ऑफ यूनिटी जाने का फैसला लिया
पीएम मोदी अपने गेस्ट हाउस में रात सवा 10 बजे पहुंचे. लेकिन अभी भी कई काम बाकी थे. उन्होंने रात को ही स्टेचू ऑफ यूनिटी जाने का फैसला ले लिया. अपने अधिकारियों के साथ पीएम वहां पहुंचे और फिर रात 11 बजे फिर से एक बैठक शुरू हुई जो डेढ़ घंटे चली. इसमे गुजरात के राज्यपाल, मुख्यमंत्री और शीर्ष अधिकारी शामिल थे. पीएम मोदी ने एक बार फिर केवडिया को ले कर अपना विज़न बताया जिस से यहां ज्यादा से ज्यादा दुनिया भर से सैलानी आए और स्थानीय लोगों की ज़िन्दगी भी बदल जाए.

पीएम मोदी जब अपने कमरे में पहुंचे तो रात का एक बज चुका था. लेकिन अपने कमरे में भी वो अक्टूबर 31 की सुबह होने वाले कार्यक्रमों की तैयारी करते रहे. जाहिर है इसी लगन की जरूरत देश को है जहा पीएम सुबह 5 बजे उठने के बाद भी थोड़े आराम की चिंता छोड़ सिर्फ देश हित के कामों में जुटा रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज