Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे PM मोदी, भारत से विवाद के बीच चीन भी करेगा शिरकत

    पीएम मोदी मंगलवार को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शिरकत करेंगे. (फाइल फोटो)
    पीएम मोदी मंगलवार को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शिरकत करेंगे. (फाइल फोटो)

    BRICS Summit: ब्रिक्स शिखर सम्मेलन ऐसे समय में आयोजित किया जा रहा है जबकि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच मई से तनाव जारी है. भारत और चीन दोनों ही ब्रिक्स संगठन में शामिल हैं.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 16, 2020, 5:20 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) मंगलवार को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन (Brics Summit) के 12वें संस्करण में हिस्सा लेंगे. भारतीय विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) ने सोमवार को ये जानकारी दी. मंत्रालय के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Russian Prime Minister Vladimir Putin) के न्योते पर 17 नवंबर को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाली इस बैठक की थीम वैश्विक स्थिरता, साझा सुरक्षा और नवोन्मेष प्रगति है. ब्रिक्स देशों के संगठन में तेज गति से उभर रही अर्थव्यवस्थाओं वाले पांच देश हैं. इन देशों में ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं.

    विदेश मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ और कोविड-19 महामारी के बीच में आयोजित हो रहे 12वें शिखर सम्मेलन में, इंट्रा-ब्रिक्स सहयोग और वैश्विक संदर्भ के प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की जाएगी. इसके अलावा सम्मेलन में वर्तमान में चल रहे कोविड-19 (Covid-19) के असर को कम करने के बहुपक्षीय प्रणाली के सुधारों पर भी चर्चा की जाएगी. इसके अलावा इस सम्मेलन में आतंकवाद को जवाब देने के तरीकों, व्यापार, स्वास्थ्य, ऊर्जा और लोगों से लोगों के बीच आदान-प्रदान में सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर भी चर्चा होगी.

    ये भी पढ़ें- राहुल गांधी पर बोलने से पहले सोचें RJD नेता, राजद नहीं है कांग्रेस -तारिक अनवर





    यह बैठक ऐसे समय में हो रही है जबकि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच मई से तनाव जारी है. भारत और चीन दोनों ही ब्रिक्स संगठन में शामिल हैं. पूर्वी लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के बीच गत छह महीने से गतिरोध बना हुआ है और अब दोनों पक्ष ऊंचाई वाले इलाकों से सैनिकों को पीछे हटाने के प्रस्ताव पर काम कर रहे हैं.

    ये भी पढ़ें- दिल्‍ली: कोरोना से निपटने को आ रहे 75 पैरामिलिट्री डॉक्‍टर, 350 हेल्‍थ वर्कर

    दोनों देशों के प्रयासों के बीच ही हाल ही में शंघाई सहयोग संगठन की वार्ता (Shanghai Cooperation Organization) सम्पन्न हुई है. इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की उपस्थिति में सख्त संदेश देते हुए कहा था कि शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सभी सदस्य राष्ट्रों को एक-दूसरे की सार्वभौमिकता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करना चाहिए.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज