ट्रंप के दावे की खुलेगी पोल! कश्मीर पर मध्यस्थता के बयान के बाद फ्रांस में PM मोदी से होगा सामना

G-7 समूह दुनिया की सात सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं का समूह है जिसमें फ्रांस, कनाडा, इटली, जर्मनी, जापान, यूके और अमेरिका शामिल हैं.

Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 7:56 PM IST
ट्रंप के दावे की खुलेगी पोल! कश्मीर पर मध्यस्थता के बयान के बाद फ्रांस में PM मोदी से होगा सामना
पीएम नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रम्प फ्रांस में अगले महीने आमने-सामने होंगे. (फाइल फोटो)
Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 7:56 PM IST
पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मौजूदगी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सफेद झूठ बोलने से बड़ा विवाद खड़ा हो गया है. जानकार मानते हैं कि इसका सीधा असर भारत-अमेरिका रिश्तों पर भी पड़ सकता है.

कश्मीर पर अमेरिकी मध्यस्थता वाले बयान के बाद पहली बार पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप फ्रांस के शहर बियारित्ज़ में अगले महीने आमने-सामने होंगे. G-7 के शिखर सम्मेलन में शामिल होने पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति 24 से 26 अगस्त बियारित्ज़ में मौजूद रहेंगे.

भारत समेत 4 देशों को मिला न्‍यौता

भारत समेत 4 देशों को इस शिखर सम्मेलन के लिए विशेष अतिथि के तौर पर न्यौता भेजा गया है. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने पीएम मोदी को इस सम्मेलन में शामिल होने के लिए निजी न्यौता भेजा है. जबकि अमेरिका G-7 देशों का सदस्य देश है. भारत के अलावा दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और चीले को भी न्यौता भेजा गया है.

हालांकि इस सम्मेलन के दौरान पीएम मोदी और ट्रंप की द्विपक्षीय मुलाकात होगी या नहीं, यह अभी स्पष्ट नहीं है. जबकि दोनों कई बार आमने-सामने होंगे.

ट्रम्‍प के बयान से रिश्‍तों में आएगी खटास
सवाल है कि क्या ट्रंप के बयान के बाद रिश्तों में खटास आएगी? सूत्रों ने बताया कि इस विवाद पर पीएम का संसद में खुद बयान न देना इस और इशारा करता है कि भारत इस विवाद को और हवा नहीं देना चाहता. हालांकि विदेश मंत्रालय ने कड़े शब्दों में ट्रंप के बयान का खंडन किया था.
Loading...

आपको बता दें कि मोदी-ट्रंप की आखिरी मुलाकात जापान के शहर ओसाका में G-20 शिखर सम्मेलन के दौरान पिछले महीने हुई थी.

क्या है G-7 समूह?
G-7 समूह दुनिया की सात सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं का समूह है जिसमें फ्रांस, कनाडा, इटली, जर्मनी, जापान, यूके और अमेरिका शामिल हैं. पहले यह समूह G-8 के नाम से जाना जाता था, लेकिन रूस के 2018 में बाहर होने से यह समूह 7 देशों का रह गया.

ये भी पढ़ें-बालाकोट: पाकिस्‍तान को भारत के बदले का था अंदेशा, पहले से कर रखी थी तैयारी!

औवेसी का कांग्रेस पर प्रहार, सत्ता से बाहर होते ही मुसलमानों की ‘बिग ब्रदर’ बन जाती है ये पार्टी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 24, 2019, 7:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...