Assembly Banner 2021

ओडिशा इतिहास के हिंदी संस्करण का विमोचन करेंगे PM मोदी, 9 अप्रैल को होगा कार्यक्रम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PTI)

Odisha History: ओडिशा इतिहास को हरेकृष्ण महताब ने स्वतंत्रता संग्राम में अपनी कारावास के दौरान लिखी थी. 1942 से 1946 तक हरेकृष्ण महताब अहमदनगर फोर्ट में बंद थे और उन्होंने वही पर इसे लिखा. इसे लिखने के लिए उन्होंने 2 साल तक प्रत्येक दिन लगभग 12 घंटे की कड़ी मेहनत की.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 9 अप्रैल को ओडिशा इतिहास (Odisha History) के हिंदी संस्करण का विमोचन दिल्ली के अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर में करेंगे. ओडिशा इतिहास के मूल संस्करण को प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हरे कृष्ण महताब ने लिखा है. यह पुस्तक मूल रूप से उड़िया भाषा में लिखी गई थी.

ओडिशा इतिहास हरेकृष्ण महताब ने स्वतंत्रता संग्राम में अपने कारावास के दौरान लिखी थी. 1942 से 1946 तक हरेकृष्ण महताब अहमदनगर फोर्ट में बंद थे और उन्होंने वही पर इसे लिखा. इसे लिखने के लिए उन्होंने 2 साल तक प्रत्येक दिन लगभग 12 घंटे की कड़ी मेहनत की.

इतिहास, रियासतों और स्वतंत्रता आंदोलन की जानकारियां
दरअसल हरे कृष्ण महताब की भगवान जगन्नाथ में काफी आस्था थी और वो इससे जुड़ी हुई कई पुस्तकों को लगातार पढ़ते रहते थे. इसी क्रम में उन्होंने कई शोध किए जिसके माध्यम से उन्होंने ओडिशा इतिहास पुस्तक की रचना. ओडिशा इतिहास पुस्तक में ओडिशा के बारे में काफी जानकारियां मौजूद हैं. इस पुस्तक में महाभारत काल से लेकर के 1948 तक ओडिशा के इतिहास के बारे में जानकारी दी गई. इसमें प्रदेश के इतिहास, रियासतों के एकीकरण, स्वतंत्रता आंदोलन में ओडिशा की भूमिका, कला संस्कृति आस्था और विश्वास आदि के बारे में लिखी गई. 1948 में ही इस पुस्तक के अंग्रेजी संस्करण का प्रकाशन हुआ था.
ये भी पढ़ेंः- आप भी कराने जा रहे वैक्सीनेशन तो अब फ्री में मिलेगी Uber की राइड, इस तरह करें बुकिंग



इसलिए हो रहा है हिंदी में अनुवाद
ओडिशा के कटक से सांसद भर्तहरि महताब का कहना है कि ओडिशा इतिहास के हिंदी संस्करण से देश के बड़े वर्ग को ओडिशा के इतिहास के साथ-साथ समकालीन भारत की परिस्थितियों स्वतंत्रता आंदोलन के बारे में जानने का मौका मिलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज