आसियान समिट में हिस्सा लेने PM मोदी 2 नवंबर को जाएंगे थाईलैंड, बैंकॉक में भारतीयों को करेंगे संबोधित

पीएम मोदी 2 से 4 नवंबर तक बैंकॉक में रहेंगे

पीएम मोदी 2 से 4 नवंबर तक बैंकॉक में रहेंगे

विदेश मंत्रालय की सचिव विजय ठाकुर सिंह (Vijay Thakur Singh) ने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 2 से 4 नवंबर तक बैंकॉक (Bangkok) में रहेंगे. यहां पीएम भारतीय लोगों को संबोधित करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2019, 5:56 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 2 नवंबर को थाईलैंड (Thailand) के दो दिवसीय दौरे पर जा रहे हैं. विदेश मंत्रालय की सचिव विजय ठाकुर सिंह (Vijay Thakur Singh) ने इस बात की जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि पीएम मोदी 2 से 4 नवंबर तक बैंकॉक (Bangkok) में रहेंगे. यहां प्रधानमंत्री भारतीय लोगों को संबोधित करेंगे. इसके बाद बैंकॉक में 16वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे.

विजय ठाकुर सिंह (Vijay Thakur Singh) ने बताया कि पीएम मोदी  (PM Narendra Modi) बैंकॉक में 14वें पूर्वी एशिया शिखर वार्ता (ईएएस) और क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी बैठक (आरसीईपी) में भी भाग लेंगे. इसके अलावा पीएम मोदी 2 नवंबर को थाईलैंड में गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के अवसर पर एक सिक्का जारी करेंगे. हालांकि इसकी अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है.



सऊदी दौरे पर गए थे पीएम मोदी
पीएम मोदी दो दिन पहले ही सऊदी अरब की यात्रा से आए हैं. सऊदी अरब में पीएम मोदी ने शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज और युवराज मोहम्मद बिन सलमान के साथ मुलाकात की थी. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि सऊदी अरब और भारत का रिश्ता हजारों साल पुराना है. पीएम ने अपने भाषण में टेक्नोलॉजी के विकास पर जोर दिया. उन्‍होंने कहा कि टेक्नोलॉजी के विकास के लिए भारत ने स्टार्टअप, रिसर्च एंड डेवलपमेंट और स्कूल लेवल पर इनोवेशन पर जोर दिया था. उन्होंने कहा कि भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्ट अप इकोसिस्टम बन गया है.

भारत में 100 अरब डॉल का निवेश करेगा सऊदी अरब

प्रधानमंत्री मोदी की इस यात्रा के बाद सऊदी अरब भारत में 100 अरब डॉलर का निवेश करेगा, जो 2017-2018 के 27.48 अरब डॉलर के द्विपक्षीय व्यापार से करीब चार गुना है. सऊदी अरब का ये निवेश विशेष कर ऊर्जा क्षेत्र में होगा. इस निवेश से भारत में रिफाइनरी, पेट्रोकेमिकल क्षेत्र मजबूत होगा. इसके साथ ही इस विदेशी निवेश का एक बड़ा हिस्सा कृषि और खनन में क्षेत्र में भी लगेगा.

यह साफ है कि इस विदेशी निवेश से एक ओर जहां भारत ऊर्जा और पेट्रोलियम क्षेत्र में मजबूत होगा. वहीं कृषि और खनन जैसे क्षेत्रों में भी सकारात्मक बदलाव दिखेगा. भारत और सऊदी अरब के रिश्ते का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाने के दो हफ्ते के भीतर सऊदी अरब ने भारत में निवेश करने का ऐलान किया था.

यह भी पढ़ें-

रघुराम राजन बोले- बड़े रिफॉर्म्स के लिए सरकार में दम, उठाने होंगे ज़रूरी कदम

भारत की चीन को दो टूक- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का आंतरिक मामला, न दें दखल

RSS के सख्त खिलाफ थे पटेल, भाजपा के श्रद्धांजलि देने से खुशी होती है: प्रियंका

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज