PM मोदी गुजरात के हजीरा में रो-पैक्स टर्मिनल और फेरी सेवा की करेंगे शुरुआत

रो-पैक्स फेरी सेवा से यात्रा अवधि, ढुलाई लागत घट जाएगी और पर्यावरण पर पड़ने वाला असर कम होगा. (फाइल फोटो)
रो-पैक्स फेरी सेवा से यात्रा अवधि, ढुलाई लागत घट जाएगी और पर्यावरण पर पड़ने वाला असर कम होगा. (फाइल फोटो)

8 नवंबर को PM मोदी गुजरात के हजीरा (Hazira) में रो-पैक्स टर्मिनल (Ro-Pax terminal) का शुभारंभ करेंगे. साथ ही पीएम हजीरा एवं घोघा के बीच रो-पैक्स सेवा (Ro-Pax ferry service) को हरी झंडी दिखाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 10:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी (PM Narendra Modi) 8 नवंबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए से गुजरात के हजीरा (Hazira) में रो-पैक्स टर्मिनल (Ro-Pax terminal) का शुभारंभ करेंगे. साथ ही पीएम हजीरा एवं घोघा के बीच रो-पैक्स सेवा (Ro-Pax ferry service) को हरी झंडी दिखाएंगे. यह जलमार्गों के उपयोग और उन्हें देश के आर्थिक विकास के साथ एकीकृत करने के प्रधानमंत्री के विजन की दिशा में एक अहम कदम है. प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम के दौरान इस सेवा का उपयोग करने वाले स्थानीय लोगों के साथ संवाद भी करेंगे. इस अवसर पर पोत परिवहन राज्य मंत्री और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी उपस्थित रहेंगे.

टर्मिनल में कार्यालय इमारत, पार्किंग क्षेत्र, सबस्टेशन जैसी कई सुविधाएं
हजीरा में शुरू किए जा रहे रो-पैक्स टर्मिनल की 100 मीटर लंबाई और 40 मीटर चौड़ाई है, जिस पर अनुमानित रूप से 25 करोड़ रुपये की लागत आई है. इस टर्मिनल में प्रशासनिक कार्यालय इमारत, पार्किंग क्षेत्र, सबस्टेशन और वाटर टॉवर जैसी कई सुविधाएं हैं. रो-पैक्स फेरी वीसल ‘वोयेज सिम्फनी’ डीडब्ल्यूटी 2500-2700 एमटी, 12000 से 15000 जीटी विस्थापन के साथ एक तीन मंजिला जहाज है. इसकी मुख्य डेक की भार क्षमता 30 ट्रक (प्रत्येक 50 एमटी), ऊपरी डेक की 100 यात्री कार और यात्री डेक की क्षमता 500 यात्रियों व 34 क्रू एवं आतिथ्य सेवा कर्मचारियों की है.


रो-पैक्स फेरी सेवा के कई फायदे


हजीरा-घोघा रो-पैक्स फेरी सेवा के कई फायदे होंगे. यह दक्षिणी गुजरात और सौराष्ट्र क्षेत्र के द्वार के रूप में काम करेगा. इससे घोघा और हजीरा के बीच की दूरी 370 किमी से घटकर 90 किमी रह जाएगी. इसके अलावा कार्गो ढुलाई की अवधि 10-12 घंटे से घटकर लगभग 4 घंटे होने के परिणामस्वरूप ईंधन (लगभग 9,000 लीटर प्रति दिन) की भारी बचत होगी और वाहनों की रख-रखाव की लागत में खासी कमी आएगी. फेरी सेवा हजीरा-घोघा मार्ग पर प्रति दिन 3 राउंड ट्रिप के माध्यम से सालाना लगभग 5 लाख यात्रियों, 80,000 यात्री वाहनों, 50,000 दोपहिया वाहनों और 30,000 ट्रकों की ढुलाई करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज