कई राज्यों में कोरोना की बढ़ी रफ्तार, पीएमओ में बड़ी बैठक, बना एक्शन प्लान

देश के कई राज्यों में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. (Photo-AP)

Coronavirus in India: कई राज्यों में तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय ने अहम बैठक की जिसमें कोविड से लड़ाई के लिए बड़ा एक्शन प्लान तैयार किया गया. इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने भी स्थिति की समीक्षा के लिए बैठक की थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश के कई राज्यों में कोरोना वायरस के केस बढ़ रहे हैं जिसे देखते हुए मंगलवार को प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में बैठक हुई. केंद्र सरकार ने कहा है कि महाराष्ट्र और केरल समेत देश के छह राज्यों में कोरोना के मामले बढ़ने के पीछे लोगों की लापरवाही हो सकती है. केंद्र कोरोना के बढ़ते संक्रमण से निपटने के लिए वैक्सीनेशन अभियान में तेजी लाने जा रहा है जिसके लिए प्राइवेट सेक्टर्स का सहारा लिया जाएगा. बता दें देश मे कोरोना एक बार फिर पांव पसार रहा है. खासकर महाराष्ट्र और केरल में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. देश के कुल मामलों के लगभग 85 फीसदी केस महाराष्ट्र और केरल से हैं. इसके अलावा पंजाब, कर्नाटक, गुजरात, छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु में भी कोरोना के नए मामले बढ़ रहे हैं.

    केंद्र सरकार के मुताबिक बढ़ते केस के पीछे कई कारण हो सकते हैं लेकिन फिलहाल ये लग रहा है कि जब कोरोना के केस कम होने शुरू हुए तो लोगों के समझ में आया कि कोरोना का खतरा टल गया है और लापरवाही शुरू कर दी. जबकि एहतियात जारी रखने की जरूरत है. इन राज्यों में केस बढ़ने के पीछे सही कारण का पता लगाने के लिए केंद्रीय टीमें भेजी गई हैं.

    ये भी पढ़ें- गुजरात निकाय: बीजेपी की बंपर जीत, AAP का दम, कांग्रेस बेदम, समझें इसके मायने

    नए वेरियंट को लेकर केंद्र ने कही ये बात
    वहीं कोविड-19 के दो नए वेरियंट को लेकर केंद्र सरकार का मानना है कि महाराष्ट्र, तेलंगाना और केरल में मिले दो नए वेरियंट N440K और E484K को भारतीय वेरियंट कहना सही नहीं है. केंद्र का कहना है कि क्योंकि दुनिया के दूसरे देशों में भी ये वेरियंट मिल चुका है और भारत में भी यह पहली बार डिटेक्ट नहीं हुआ है बल्कि इससे पहले भी मार्च और जुलाई में बीते साल डिटेक्ट हो चुका है. सवाल ये भी उठ रहा है कि क्या नए वेरियंट के चलते केस में बढ़ोतरी हो रही है. इस पर केंद्र का कहना है कि अभी तक इसकी सही वजह का पता नहीं चल पाया है.

    वैक्सीन लगाने के लिए प्राइवेट सेक्‍टर का सहारा लेगा केंद्र
    हालांकि अब केंद्र सरकार की योजना देश मे कोरोना का टीका लगाने में तेजी लाने पर है. जिसके लिए प्राइवेट सेक्टर्स का सहारा लिया जाएगा. केंद्र सरकार अब 50 साल से ऊपर के लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने की दिशा में कदम आगे बढ़ाने वाली है. ऐसे में देश के करीब 27 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए केंद्र प्राइवेट सेक्‍टर का भी सहारा लेने जा रहा है जिससे कम समय में वैक्‍सीनेशन अभियान पूरा किया जा सके. इस चरण में 50 साल से कम उम्र के उन लोगों को भी शामिल किया जाएगा जिनमें कोरोना संक्रमण फैलने की ज्‍यादा आशंका है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.