PNB Scam: मेहुल चोकसी को भारत नहीं, सीधे एंटीगा भेजेगी डोमिनिका सरकार; जानें अब तक के 10 अपडेट्स

मेहुल चोकसी पीएनबी स्कैम का मास्टरमाइंड है (PTI)

मेहुल चोकसी पीएनबी स्कैम का मास्टरमाइंड है (PTI)

इस वक्त भारत (India) की 58 देशों के साथ प्रत्यर्पण की संधि या व्यवस्था है. डोमिनिका (Dominica) इन देशों में शामिल नहीं है. हालांकि भारत की एंटीगुआ और बारबुडा (Antigua-Barbuda) के साथ प्रत्यर्पण की व्यवस्था है. मेहुल चोकसी(Mehul Choksi) ने भारत से भागने से पहले एंटीगुआ की नागरिकता ले ली थी.

  • Share this:

नई दिल्ली. पंजाब नेशनल बैंक यानी पीएनबी स्कैम (PNB Scam)  मामले में पिछले दो साल से फरार चल रहे आरोपी मेहुल चौकसी (Mehul Choksi) को मंगलवार को डोमिनिका (Dominica) में क्रिमिनल इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (CID) ने गिफ्तार किया है. पहले खबर आई थी कि डोमिनिका सरकार मेहुल चोकसी को भारत को सौंपेगी, लेकिन अब डोमिनिका सरकार ने अपना फैसला बदल दिया है. मेहुल चोकसी को वापस एंटीगा-बारबुडा सरकार को सौंपने की तैयारी है.

बता दें कि मेहुल चोकसी कुछ दिन पहले अचानक एंटीगा से लापता हो गया था, जिसे मंगलवार को पकड़ लिया गया है. मेहुल चोकसी को कैरिबियाई देश डोमिनिका में देखा गया था. इसके बाद डॉमिनिका आइलैंड पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया और कई घंटों तक पूछताछ करने के बाद वापस एंटीगा भेजने की तैयारी की जा रही है. इसके लिए इंटरपोल की भी मदद ली जा रही है.

आइए जानते हैं कि भारत में भेजे जाने से कैसे बच गया मेहुल चोकसी :-

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) से कोरोड़ों रुपये का घोटाला कर चुके आरोपी और भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को अभी भी भारत सौंपने में कई तरह की अड़चन सामने आ रही है. खबर है कि डोमिनिका सरकार मेहुल चोकसी को वापस एंटीगुआ-बारबुडा सरकार को सौंपेंगी.
डोमिनिका सरकार ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा, मेहुल चोकसी को पहले एंटीगा सरकार को सौंपा जाएगा. डोमिनिका सरकार के इस फैसले पर एंटीगा-बारबुडा के प्रधानमंत्री गेस्टन ब्राउन ने कहा कि हमें इस बात की जानकारी मिली है, यह दुर्भाग्यपूर्ण फैसला है.
डोमिनिका की सरकार की ओर से जानकारी दी गई है कि नेशनल सिक्योरिटी मिनिस्ट्री ने एंटीगा सरकार से मेहुल चोकसी की नागरिकता और उससे जुड़ी कई और जानकारी मांगी है. उन्‍होंने बताया कि चौकसी अवैध तरीके से डोमिनिका में आया था.
डोमिनिका सरकार की ओर से बताया गया है कि मेहुल चोकसी अभी भी हमारी कस्टडी में है और उससे पूछताछ की जा रही है. मेहुल चोकसी से सभी जानकारी हासिल करने के बाद उसे वापस एंटीगा सरकार के हवाले कर दिया जाएगा.
डोमेनिका में चौकसी के वकील मार्श वेन ने कहा कि सुबह उन्होंने अपने क्लांइट से पुलिस स्टेशन में मुलाकात की है. वकील के मुताबिक चौकसी ने आरोप लगाया कि उसे डोमिनिका में अपहरण कर लाया गया है. चौकसी ने अपने साथ मारपीट का भी आरोप लगाया है. चौकसी के वकील मामले में राहत के लिए अदालत में अपील दाखिल करने वाले हैं.
इस वक्त भारत की 58 देशों के साथ प्रत्यर्पण की संधि या व्यवस्था है. डोमिनिका इन देशों में शामिल नहीं है. हालांकि भारत की एंटीगुआ और बारबुडा के साथ प्रत्यर्पण की व्यवस्था है. मेहुल चोकसी ने भारत से भागने से पहले एंटीगुआ की नागरिकता ले ली थी. ये नागरिकता उसने 2017 में इनवेस्टमेंट प्रोग्राम के तहत ली थी. अगर चोकसी एंटीगुआ में पकड़ा जाता तो उसे वापस लाने में आसानी होती.
बता दें कि मेहुल चोकसी पिछले रविवार को यानी 23 मई शाम साढ़े पांच बजे कार से निकला था, लेकिन कुछ देर के बाद उसकी कार वहीं आसपास लावारिस हालात में मिली थी. इसके बाद उसके परिजनों और मेहुल चोकसी के भारत में स्थित वकील विजय अग्रवाल के द्वारा मीडिया सहित अन्य एजेंसियों को बताया गया कि वो एंटीगा से लापता हो गया है.
हालांकि उस घटना के बाद वहां की रॉयल पुलिस फोर्स उसको तलाशने में जुट गई थी. एंटीगा के जॉली हार्बर इलाके में भारत से फरार कारोबारी मेहुल चोकसी पिछले काफी समय से रह रहा था. साल 2018 में मेहुल चोकसी भारत को छोड़कर चुपके से फरार हो गया था. उसके बाद से देश की जांच एजेंसी सीबीआई और ईडी की टीम उसे वापस भारत में प्रत्यर्पित करने की कोशिश में लगी हुईं थीं.
मेहुल चोकसी देश से फरार एक अन्य चर्चित कारोबारी नीरव मोदी का मामा है. CBI के सूत्रों के मुताबिक कई बैंकों से करीब 13,500 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा कर फरार हो चुके मेहुल चोकसी को डिफॉल्टर की सूची में सबसे ऊपर रखा गया है.
चोकसी के वकील का दावा है कि उनका मुवक्किल एंटीगा का नागरिक है. ऐसे में उसके पास एंटीगा के सभी लोगों से मिलने के अधिकार हैं. बता दें कैरेबियाई देश एंटीगा के बगल में ही डोमिनिका है जहां से अब मेहुल चोकसी को पकड़ा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज