PNB Scam: भगोड़े मेहुल चोकसी को डोमिनिका से भारत लाना इतना आसान नहीं, सामने हैं कई अड़चनें

मेहुल चोकसी अभी डोमिनिका पुलिस की कस्टडी में है. ANI

मेहुल चोकसी अभी डोमिनिका पुलिस की कस्टडी में है. ANI

PNB Scam Mehul Choksi: मेहुल चोकसी ने 2017 में एंटीगा एंड बारबुडा की नागरिकता ली थी और जनवरी 2018 के पहले हफ्ते में भारत से भाग गया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय बैंक से कर्ज धोखाधड़ी के मामले में वांछित भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी इस वक्त डोमिनिका की जेल में बंद है. दरअसल कुछ दिनों पहले चोकसी एंटीगा और बारबुडा से रहस्यमयी परिस्थितियों में लापता हो गया था, जिसके बाद हरकत में आई वहां की पुलिस ने चोकसी को पड़ोस के डोमिनिका में पकड़ा था. अब भारत सरकार उसके प्रत्यर्पण की कोशिश में लगी है. हालांकि यह इतना आसान नहीं दिखता और ऐसा इसलिए क्योंकि डोमिनिका के साथ भारत की प्रत्यर्पण संधि नहीं है.


'एस्केप्डः ट्रू स्टोरीज ऑफ इंडियन फ्यूजिटिव इन लंदन' के लेखक और लंदन में पत्रकार दानिश खान ने भास्कर से बातचीत में कहा, 'क्योंकि भारत और डोमिनिका के बीच कोई प्रत्यर्पण संधि नहीं है, तो ऐसे में वहां की सरकार का मेहुल चोकसी को भारत भेजने की इजाजत देना इस बात पर निर्भर करेगा कि वर्तमान में उस देश के साथ भारत के रिश्ते कैसे हैं और पहले दोनों देशों में किस तरह के ताल्लुकात रहे हैं.'


उन्होंने बताया कि चोकसी को भारत लाने में अभी बहुत सारी दिक्कतें हैं. दानिश ने कहा, 'मेहुल चोकसी कई सालों तक एंटीगा में रहा है और उसने वहां की नागरिकता भी ले रखी है. मीडिया में पहले भी इस तरह की खबरें कई बार सामने आईं कि एंटीगा सरकार चोकसी को भारत के हवाले करने जा रही है, लेकिन ये सब बातें अफवाह ही निकलीं.'


Youtube Video

एंटीगा और बारबुडा से फरार होने के बाद डोमिनिका में गिरफ्तार हुआ चोकसी

चोकसी हाल ही में एंटीगा और बारबुडा से फरार हो गया था और उसके खिलाफ इंटरपोल के 'यलो नोटिस' के मद्देनजर पड़ोसी डोमिनिका में गिरफ्तार किया गया था. वहीं, एंटीगा और बारबुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने कहा है कि शायद चोकसी अपनी प्रेमिका को डिनर (रात्रि भोजन) कराने अथवा उनके साथ 'अच्छा वक्त' बिताने नाव के जरिए पड़ोसी देश डोमिनिका गया था. इसके साथ ही ब्राउन ने कहा कि डोमिनिका की सरकार और कानून लागू करने वाली एजेंसियां उसे भारत को प्रत्यर्पित कर सकती हैं क्योंकि वह एक भारतीय नागरिक है.


चोकसी ने लगाए ये आरोप



चोकसी ने आरोप लगाया है कि एंटीगा और भारतीय की तरह दिखने वाले पुलिसकर्मियों ने उसे एंटीगा और बारबुडा में जॉली बंदरगाह से अगवा किया और उसे डोमिनिका ले गए. डोमिनिका से चोकसी की एक तस्वीर सामने आयी है जिसमें उसकी आंखें सूजी हुई थीं और उसके हाथ पर खरोंच के निशान थे.


एंटीगा ने डोमिनिका को सीधे चोकसी को भारत सौंपने को कहा

डोमिनिका में गिरफ्तार किए जाने के बाद एंटीगा और बारबुडा के प्रधानमंत्री गेस्टॉन ब्राउनी ने कहा कि उन्होंने डोमिनिका को हीरा कारोबारी को सीधे भारत को सौंपने को कहा है. 25 मई की रात को डोमिनिका में चोकसी की गिरफ्तारी की खबर आने के बाद ब्राउनी ने मीडिया से कहा था कि उन्होंने चोकसी को भारत को भेजने के संबंध में डोमिनिका के प्रशासन को स्पष्ट निर्देश दिया है. एंटीगा न्यूज ने ब्राउनी के हवाले से कहा था, 'हमने उनसे (डोमिनिका) चोकसी को एंटीगा को नहीं भेजने को कहा है. उसे भारत वापस भेजने की जरूरत है जहां उसे अपने खिलाफ आपराधिक आरोपों का सामना करना है.'


क्या है पूरा मामला

चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपये की धनराशि का कथित तौर पर गबन किया. नीरव मोदी लंदन की एक जेल में बंद है और वह भारत प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है. चोकसी ने 2017 में एंटीगा एंड बारबुडा की नागरिकता ली थी और जनवरी 2018 के पहले हफ्ते में भारत से भाग गया था. इसके बाद ही यह घोटाला सामने आया था. दोनों ही सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज