तेलंगाना में कुएं में मृत मिले 9 प्रवासियों की साथी मजदूर ने की थी हत्या: पुलिस

तेलंगाना में कुएं में मृत मिले 9 प्रवासियों की साथी मजदूर ने की थी हत्या: पुलिस
वारंगल में एक परित्यक्त कुएं से पुलिस को नौ लोगों की लाश मिली थी (सांकेतिक फोटो)

वारंगल शहर (Warangal City) के पुलिस कमिश्नर वी रविंदर ने घोषणा की कि सभी 9 लोगों की हत्या एक अन्य प्रवासी कामगार (Migrant Worker) ने की थी. ऐसा उसने मार्च में की एक अन्य हत्या (Murder) को छिपाने के लिया किया था.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
वारंगल. तेलंगाना पुलिस (Telangana Police) ने सोमवार को कहा कि उसने नौ प्रवासी श्रमिकों (Migrant Labourers) की मौत के पीछे के रहस्य को सुलझा लिया है, जिसमें एक ही परिवार के छह लोग भी मृत मिले थे. इनके शव पिछले शुक्रवार को वारंगल शहर (Warangal City) के बाहरी इलाके में एक परित्यक्त कुएं से बरामद किए गए थे.

वारंगल शहर के पुलिस कमिश्नर वी रविंदर ने घोषणा की कि सभी 9 लोगों की हत्या एक अन्य प्रवासी कामगार (Migrant Worker) ने की थी. ऐसा उसने मार्च में की एक अन्य हत्या को छिपाने के लिया किया था. हत्यारे की पहचान बिहार (Bihar) के 24 वर्षीय संजय कुमार यादव के रूप में हुई.

मृतकों में 6 लोगों का बंगाल से आया पूरा परिवार, 2 बिहार के और 1 त्रिपुरा का प्रवासी
वारंगल के बाहरी इलाके में गीसुगोंडा ब्लॉक के गोर्रेकुंटा गांव में एक कुएं से पुलिस (Police) ने नौ लोगों के शव बरामद किए थे.



मृतकों की पहचान एमडी मकसूद (55), उनकी पत्नी निशा (48), बेटे शाहाबाद आलम (21) और सोहेल आलम (18), बेटी बुशरा (20) और उनके तीन साल के बेटे शोएब (सभी पश्चिम बंगाल के एक ही प्रवासी परिवार से) के रूप में हुई थी, इसके अलावा मृतकों में श्रीराम (21) और श्याम (22) बिहार और त्रिपुरा से शकील (30) थे.



सभी बोरा बनाने वाली एक इकाई के परिसर में रह रहे थे
मार्च में लॉकडाउन लागू होने के बाद से सभी बड़े सदस्य गेसुगोंडा में एक बोरा बनाने वाली इकाई में काम कर रहे थे और उसी कंपनी के परिसर में रह रहे थे.

पुलिस ने शुरू में सोचा था कि उन सभी ने वित्तीय समस्याओं या कुछ अन्य पारिवारिक वजहों से सामूहिक आत्महत्या (Suicide) की थी, और बिहार के युवक और बुशरा के बीच संदिग्ध तौर पर संबंध थे, जिसने एक साल पहले अपने पति को तलाक दे दिया था.

रविंदर ने कहा, “मौके पर उपलब्ध साक्ष्यों के माध्यम से जांच, क्लोज-सर्किट टेलीविज़न (CCTV) कैमरों से फुटेज की जांच और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद, हम इस नतीजे पर पहुंचे कि यह रक्तरंजित हत्या संजय कुमार यादव ने की थी. जो बिहार से छह साल पहले आया था और उसी कारखाने में काम कर रहा था.”

पुलिस ने बताया कि उसने पहले इन लोगों को नशीली गोलियां खिलाकर बेहोश किया और उसके बाद इनकी हत्या कर दी. ऐसा उसने पहले की गई एक हत्या को छिपाने के लिये किया, जिसके बारे में इन लोगों को शक हो गया था.

यह भी पढ़ें: फर्ज निभाने के लिए शादी के अगले ही दिन ड्यूटी पर लौटी ये पुलिस कॉन्स्टेबल

News18 Polls- लॉकडाउन खुलने पर ये काम कब से करेंगे आप?
First published: May 25, 2020, 11:52 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading