अपना शहर चुनें

States

CAA विरोधी रैली में शामिल होने पर पोलैंड के छात्र को मिला भारत छोड़ने का आदेश

जाधवपुर यूनिवर्सिटी के छात्र कंप्यूटर साइंस डिपार्टमेंट के छात्र इस ऐप को बनान के लिए काम कर रहे हैं.
जाधवपुर यूनिवर्सिटी के छात्र कंप्यूटर साइंस डिपार्टमेंट के छात्र इस ऐप को बनान के लिए काम कर रहे हैं.

जाधवपुर विश्वविद्यालय के एक सूत्र ने बताया कि पोलैंड (Polish) के छात्र सिएदसिंस्की को FRRO ने एक नोटिस थमा दिया और दो हफ्ते के भीतर भारत छोड़कर जाने को कहा है.

  • Share this:
कोलकाता. जाधवपुर यूनिवर्सिटी (Jadavpur University) में पढ़ने वाले पोलैंड (Polish) के एक छात्र को विदेशी नागरिक क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय (FRRO) ने देश छोड़कर जाने को कहा है. यूनिवर्सिटी के सूत्रों ने रविवार को बताया कि कोलकाता में संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में निकाली गई रैली में छात्र के हिस्सा लेने के बाद यह कदम उठाया गया है.

इस घटना से ठीक पहले विश्व भारतीय यूनिवर्सिटी की बांग्लादेशी छात्रा को एफआरआरओ ने इसी तरह का निर्देश जारी किया था जब छात्रा ने परिसर में सीएए विरोधी प्रदर्शन की तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी थी.

FRRO ने थमाया नोटिस
जाधवपुर विश्वविद्यालय के एक सूत्र ने बताया कि तुलनात्मक साहित्य के छात्र पोलैंड के कामिल सिएदसिंस्की को एफआरआरओ ने अपने कोलकाता कार्यालय में आने को कहा था और वह 22 फरवरी को गया भी था. सूत्र ने बताया, ‘सिएदसिंस्की को एफआरआरओ ने एक नोटिस थमा दिया और नोटिस की तारीख से दो हफ्ते के भीतर देश छोड़कर जाने को कहा. छात्र वीजा पर भारत में रह रहे विदेशी नागरिक के कथित आचरण को अनुचित बताते हुए यह नोटिस दिया गया.’
यूनिवर्सिटी के सूत्र ने कहा कि कई शिक्षक और वामपंथी छात्रों का मानना है कि सिएदसिंस्की को पिछले साल दिसंबर में शहर के मोलाली इलाके में सीएए विरोधी रैली में शामिल होने की कीमत चुकानी पड़ रही है, जहां एक बंगाली दैनिक ने उसका साक्षात्कार लिया था और अगले दिन पर उस पर एक छोटी सी खबर छपी थी.



छात्र को 3rd सेमेस्टर की देनी थी परीक्षा
सूत्र ने कहा, “कुछ लोगों ने संभवत: एफआरआरओ की रिपोर्ट की प्रति आगे भेजी है. सिएदसिंस्की का किसी राजनीतिक विचारधारा के प्रति झुकाव नहीं है लेकिन प्रदर्शन रैली में उसका उत्साह और तस्वीरें खींची जाने के कारण उसके लिए मुसीबत खड़ी हो गई है.” सिएदसिंस्की को इस साल तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा देनी थी. उससे संपर्क नहीं हो पाया. विश्वविद्यालय के कुलपति सुरंजन दास और रजिस्ट्रार स्नेहामंजु बसु ने भी फोन नहीं उठाया.

ये भी पढ़ें-

सलवार-कुर्ता पहन गर्लफ्रेंड से मिलने जा रहा था प्रेमी, बच्चा चोर समझ हुई पिटाई

मोदी सरकार दे रही 1 करोड़ ​जीतने का मौका, आपको बस करना होगा ये सिंपल काम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज