होम /न्यूज /राष्ट्र /नेता वोट के लिए गिफ्ट देते हैं तो सैनिटरी पैड क्‍यों नहीं, IAS से सवाल करने वाली छात्रा ने फिर पूछा

नेता वोट के लिए गिफ्ट देते हैं तो सैनिटरी पैड क्‍यों नहीं, IAS से सवाल करने वाली छात्रा ने फिर पूछा

बिहार की स्‍कूली छात्रा रिया कुमारी ने अपने सवालों से चर्चा में हैं.

बिहार की स्‍कूली छात्रा रिया कुमारी ने अपने सवालों से चर्चा में हैं.

बिहार की स्कूली छात्रा रिया कुमारी ने गुरुवार को CNN-News18 से एक्सक्लूसिव बातचीत में पूछा कि अगर राजनेता लोगों के वोट ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

IAS अफसर से सवाल करने वाली छात्रा रिया कुमारी ने फिर पूछा
कहा- मुझे संवेदनशील जवाब की उम्‍मीद थी, अफसर गुस्‍सा हो गईं
रिया कुमारी का सवाल- हम भारत में रहते हैं, पाकिस्‍तान क्‍यों बनें?

सौरभ राठौर 

पटना. बिहार की स्कूली छात्रा रिया कुमारी ने गुरुवार को CNN-News18 से एक्सक्लूसिव बातचीत में पूछा कि अगर राजनेता लोगों के वोट के लिए गिफ्ट और लाखों-करोड़ों रुपए खर्च कर सकते हैं, तो सैनिटरी नैपकिन जैसी जरूरी चीज को क्‍यों नहीं दिया जा सकता. यही सवाल रिया कुमारी ने आईएएस  अफसर (IAS Officer) हरजोत कौर भामरा से पूछा तो उन्‍होंने बेतुका सा जवाब दिया था और इस घटना का वीडियो वायरल हो गया था. इस घटना ने सुर्खियां तो बटोरी थी ही साथ ही देशव्‍यापी एक बहस को जन्‍म भी दे दिया था. दरअसल छात्रा के सवाल पर IAS अफसर ने कहा था कि कल तुम कहोगे कि सरकार जींस भी दे सकती है. और उसके बाद कुछ सुंदर जूते क्यों नहीं? अंततः उम्मीद करेंगे कि सरकार आपको परिवार नियोजन के तरीके, कंडोम भी देगी.

CNN-News18 से चर्चा में रिया कुमारी ने बताया कि वह यूनिसेफ, सेव द चिल्ड्रन, और प्लान इंटरनेशनल द्वारा 27 सितंबर को पटना के होटल मौर्य में आयोजित कार्यक्रम में मौजूद थीं. रिया ने कहा कि IAS अधिकारी अधिक संवेदनशील प्रतिक्रिया दे सकते थे. हम वहां अपनी समस्‍याओं पर चर्चा करने गए थे. हमें तो सैनिटरी पैड के बारे में जानकारी नहीं थी, लेकिन जब इसके फायदों के बारे में पता चला तो हम इसका इस्‍तेमाल कर रहे हैं. हम झुग्‍गी बस्‍ती में रहते हैं और ऐसी हजारों लड़कियां हैं जो सैनिटरी पैड नहीं खरीद सकतीं. सरकार पहले ही सब्सिडी, छात्रवृत्ति देती है, इसलिए हम चाहते थे कि कम से कम स्‍कूली छात्राओं को यह फ्री में मिले. हम अन्य नेताओं के सामने भी यह मांग उठाते रहे हैं. यह उन पर निर्भर करता है कि क्या वे इस पर विचार करते हैं.

गौरतलब है कि नवीनतम राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस -5) के अनुसार, बिहार में केवल 59 फीसदी महिलाएं मासिक धर्म की सुरक्षा की एक स्वच्छ विधि का उपयोग करती हैं. भारत में लगभग 2 करोड़ 30 लाख लड़कियां मासिक धर्म की स्वच्छता सुविधाओं तक पहुंच की कमी के कारण मासिक धर्म शुरू होने के बाद स्कूल छोड़ देती हैं.

वायरल वीडियो में IAS अफसर कहती हैं- पाकिस्‍तान बनो

वायरल वीडियो में IAS अफसर हरजोत कौर भामरा गुस्‍से में कहती हैं कि ‘ ये बेवकूफी की पराकाष्‍ठा है, .. तो वोट मत करो. पाकिस्‍तान बनो, क्‍या आप पैसे और सेवा के लिए वोट करते हैं? IAS अफसर हरजोत कौर भामरा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख सचिव के रूप में काम कर चुकी हैं. इस घटना पर रिया कुमारी ने CNN-News18 से कहा कि हम भारत में रहते हैं, पाकिस्‍तान क्‍यों बनें? मैंने वहीं कहा जो मुझे ठीक लगा. राजनेता जब वोट मांगते हैं तो गिफ्ट और लाखों रुपए बंटते हैं, फिर इतनी कम कीमत की जरूरी चीज मुफ्त में क्‍यों नहीं दी जा सकतीं? क्या सिर्फ वोट देने वालों की ही मांगें पूरी होंगी? उन लड़कियों का क्या जिन्होंने मतदान की उम्र पूरी नहीं की है? क्या उनकी समस्याएं और मांगें अनसुनी रहेंगी? इधर, राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने मामले का संज्ञान लिया है और इसकी अध्यक्ष रेखा शर्मा ने आईएएस अधिकारी से उनकी टिप्पणी पर एक सप्ताह के भीतर स्पष्टीकरण मांगा है.

अफसर ने दी सफाई कहा- पूरी क्लिप देखें और फिर निष्कर्ष पर आना चाहिए

हालांकि IAS अफसर हरजोत कौर भामरा ने CNN-News18 से कहा कि लोगों को पूरी क्लिप देखनी चाहिए और फिर अपने निष्कर्ष पर आना चाहिए. मैंने ऐसा क्यों कहा, और मेरा उद्देश्य क्या था. दरअसल कार्यशाला का उद्देश्य लड़कियों को शिक्षित करना था और यह भी जांचना था कि हम किन नीतियों का पालन कर रहे हैं. सरकार 2014-15 से डीबीटी के माध्यम से सभी लड़कियों को सैनिटरी पैड के लिए पैसा दे रही है और यहां तक ​​कि हमारा विभाग हाई स्कूल की लड़कियों को सैनिटरी वेंडिंग मशीन और सैनिटरी इंस्टॉलेशन मशीन भी दे रहा है. हम लड़कियों को सुरक्षित मासिक धर्म के बारे में शिक्षित कर रहे हैं. सैनिटरी पैड का निपटान कैसे करें, उन्हें कहां से प्राप्त हो सकता है, और सैनिटरी पैड के निपटान का सही तरीका क्या होना चाहिए.

Tags: IAS Officer, Politician

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें