Home /News /nation /

Indian Politics: 94 साल के प्रकाश बादल ही नहीं, देश के इन 5 चर्चित राजनेताओं ने भी सियासत के नाम की जिंदगी

Indian Politics: 94 साल के प्रकाश बादल ही नहीं, देश के इन 5 चर्चित राजनेताओं ने भी सियासत के नाम की जिंदगी

1924 में जन्में एम करुणानिधि ने करीब 2 दशकों तक दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे. भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और कर्नाटक के वरिष्ठ राजनेता देवगौड़ा 89 वर्ष के हैं. (फाइल फोटोज)

1924 में जन्में एम करुणानिधि ने करीब 2 दशकों तक दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे. भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और कर्नाटक के वरिष्ठ राजनेता देवगौड़ा 89 वर्ष के हैं. (फाइल फोटोज)

Indian Politics: भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और कर्नाटक के वरिष्ठ राजनेता देवगौड़ा की उम्र 89 वर्ष के हैं. फिलहाल, वे कर्नाटक से राज्यसभा सांसद हैं. वे साल 1994 से लेकर 1996 तक राज्य के मुख्यमंत्री भी रहे. साल 1953 देवगौड़ा कांग्रेस में शामिल हुए. साल 1994 में उन्होंने जनता दल पार्टी की अगुवाई की. 1996 में हुए चुनाव में जनता दल के नेतृत्व वाले 13 दलों के गठबंधन (यूनाइटेड फ्रंट) ने सरकार बनाई. इस दौरान गौड़ा को नया प्रधानमंत्री बनाया गया. हालांकि, उनका कार्यकाल केवल अप्रैल 1997 तक ही चला, क्योंकि कांग्रेस (I) ने सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. विधानसभा चुनाव 2022 (Assembly Election 2022) में मतदान का दौर शुरू होने में कुछ ही हफ्तों का दौर बाकी है. एक ओर जहां कई पार्टियां युवा उम्मीदवार और सियासी प्रतिभाओं को मौका देने की तैयार में हैं. वहीं, पंजाब में शिरोमणि अकाली दल से 94 वर्षीय प्रकाश सिंह बादल भी अपने दावेदारी पेश करने के लिए तैयार हैं. पार्टी ने बुधवार को लंबी सीट से बादल की उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. इस ऐलान के साथ ही बादल देश के किसी भी चुनाव में लड़ने वाले सबसे बुजुर्ग उम्मीदवार हो गए हैं. इस मौके पर भारत के ऐसे कई सियासी सूरमाओं को जानना जरूरी हो गया, जिन्होंने जीवन का सबसे बड़ा हिस्सा राजनीति को समर्पित कर दिया.

    वीएस अच्युतानंद
    बादल से पहले सबसे बुजुर्ग उम्मीदवार का खिताब वीएस अच्युतानंद के पास था. उन्होंने साल 2016 में 92 वर्ष की आयु में विधानसभा चुनाव लड़ा था. उन्होंने अंतिम चुनाव में 25 हजार से ज्यादा मतों से जीत हासिल की थी. वे सीपीआई (एम) पोलितब्यूरो के साल 1985 से लेकर 2009 तक सदस्य भी रहे. अपने अंतिम चुनाव में उन्होंने जमकर प्रचार किया था. हालांकि, बढ़ती उम्र और स्वास्थ्य के चलते पिनराई विजयन को सीएम बनाया गया था.

    एम करुणानिधि
    1924 में जन्में एम करुणानिधि ने करीब 2 दशकों तक दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे. उन्होंने साल 2006 में विधानसभा चुनाव में विशाल जीत हासिल की थी. उन्होंने साल 1949 में द्रविड़ मुन्नेत्र कझगम की स्थापना की थी. करुणानिधि ने साल 2018 में अंतिम सांस ली. वे मात्र 14 साल की उम्र में ही सार्वजनिक जीवन में आ गए थे. साल 2016 में उन्होंने करियर का अंतिम चुनाव लड़ा.

    एचडी देवगौड़ा
    भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और कर्नाटक के वरिष्ठ राजनेता देवगौड़ा 89 वर्ष के हैं. फिलहाल, वे कर्नाटक से राज्यसभा सांसद हैं. वे साल 1994 से लेकर 1996 तक राज्य के मुख्यमंत्री भी रहे. साल 1953 देवगौड़ा कांग्रेस में शामिल हुए. साल 1994 में उन्होंने जनता दल पार्टी की अगुवाई की. 1996 में हुए चुनाव में जनता दल के नेतृत्व वाले 13 दलों के गठबंधन (यूनाइटेड फ्रंट) ने सरकार बनाई. इस दौरान गौड़ा को नया प्रधानमंत्री बनाया गया. हालांकि, उनका कार्यकाल केवल अप्रैल 1997 तक ही चला, क्योंकि कांग्रेस (I) ने सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था.

    यह भी पढ़ें: यूपी चुनाव से पहले बोले शायर मुनव्वर राना- अगले 5 साल में योगी आ गए तो हम जिंदा नहीं बचेंगे

    तरुण गगोई
    असम में सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री के रूप में काम करने की उपलब्धि तरुण गोगोई के नाम दर्ज है. उन्होंने साल 2001 से लेकर 2016 तक लगातार तीन कार्यकालों के लिए सीएम का पद संभाला. साल 1934 में शिवसागर जिला (अब जोरहट) में जन्में गोगोई 6 बार लोकसभा के लिए चुने गए. पूर्व पीएम पीवी नरसिम्हा राव की सरकार में भी गोगोई केंद्रीय मंत्री रहे थे. कोरोना वायरस के चलते कांग्रेस नेता ने साल नवंबर 2020 में अंतिम सांस ली.

    कैप्टन अमरिंदर सिंह
    कभी कांग्रेस के सबसे मजबूत चेहरा माने जाने वाले पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री 79 वर्षीय कैप्टन अमरिंदर सिंह विधानसभा चुनाव 2022 में कांग्रेस को ही चुनौती देते नजर आएंगे. बीते साल पंजाब में लंबे चले सियासी ड्रामे के बाद उन्होंने सीएम पद छोड़ दिय़ा था और बाद में कांग्रेस के साथ 40 सालों से ज्यादा का रिश्ता तोड़ दिया था. साथ ही उन्होंने पार्टी नेतृत्व पर भी जमकर निशाना साधा था. उन्होंने नई पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस का गठन किया है और भाजपा के साथ सियासी मैदान में उतरने के लिए तैयार हैं. सेना में अहम पदों पर रहने के बाद कैप्टन आज इस उम्र में भी राजनीति में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं.

    Tags: Assembly elections, Parkash Singh Badal

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर