गरीब छात्र को हॉस्टल खाली करने को कहा गया, जाने के लिए कोई जगह नहीं

गरीब छात्र को हॉस्टल खाली करने को कहा गया, जाने के लिए कोई जगह नहीं
विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा कि छात्रों को कोरोना वायरस महामारी के कारण छात्रावास में रहने की इजाजत नहीं दी जा रही है

जॉनी बिश्वास, विश्वविद्यालय (Johny Biswas University) में स्नातक पूर्व में बंगाली का द्वितीय वर्ष का छात्र है. उसने बताया कि उसकी मां बांग्लादेश (Bangladesh) में अपने भाई के यहां रहती हैं. उसके पिता ने उन्हें भी छोड़ दिया था.

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल(West Bengal) में प्रेसिडेंसी विश्वविद्यालय (Presidency University) के एक गरीब छात्र ने बुधवार को दावा किया कि छात्रावास अधिकारी तत्काल कमरा खाली करने के लिए उसपर दबाव बना रहे हैं, लेकिन उसके पास जाने के लिए कोई स्थान नहीं है. कई साल पहले उसके पिता ने उससे छोड़ दिया था. जॉनी बिश्वास, विश्वविद्यालय (Johny Biswas University) में स्नातक पूर्व में बंगाली का द्वितीय वर्ष का छात्र है. उसने बताया कि उसकी मां बांग्लादेश (Bangladesh) में अपने भाई के यहां रहती हैं. उसके पिता ने उन्हें भी छोड़ दिया था. उसने कहा कि अगर उसे इडेन हिंदू हॉस्टल (Hindu Hostel) से जाने को मजबूर किया गया तो वह फुटपाथ पर रहेगा या खुद को मार लेगा.

विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा कि छात्रों को कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) के कारण छात्रावास में रहने की इजाजत नहीं दी जा रही है लेकिन वे बिश्वास की दशा का पता लगाएंगे. बिश्वास ने बताया कि उसका कोई रिश्तेदार नहीं है जिससे वह मदद मांग सकें. उसे छात्रवृत्ति मिली थी. उसके पिता ने कई साल पहले दूसरी शादी कर ली थी और उसे तथा उसकी मां को छोड़ दिया था. वह स्कूल में पढ़ाई के दौरान अपने दोस्त के साथ रहता था लेकिन अब वह भी उसे साथ रखने को राजी नहीं है. डीन प्रो अरूण मैती ने संपर्क करने पर कहा, " मैं मामले का पता लगवाऊंगा. "

बंगाल में 65 हजार से ज्यादा मामले, लॉकडाउन में सड़कों पर पसरा सन्नाटा
बता दें पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़कर 65,258 हो गई है. बंगाल में एक्टिव मामलों की संख्या 19,652 है जबकि यहां 44116 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं. पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के चलते 1490 लोगों की जान जा चुकी है. कोरोना वायरस संक्रमण की कड़ी तोड़ने के लिए पश्चिम बंगाल में सप्ताह में दो दिन बंद के नियम के मद्देनजर बुधवार को सार्वजनिक स्थलों पर सन्नाटा पसरा हुआ है.
राज्य में परिवहन के सभी सार्वजनिक साधन, सरकारी और निजी कार्यालय, बैंक और कारोबारी प्रतिष्ठान बंद हैं. सिर्फ अनिवार्य सेवा जारी हैं. कोलकाता अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर आने वाली और यहां से जाने वाली उड़ानों का परिचालन भी बंद है. लंबी दूरी वाली ट्रेनों के परिचालन की तारीखें भी बंद की वजह से बदल दी गई हैं.



बंद के बीच दवा दुकानें और अस्पताल, नर्सिंग होम खुले हैं. इन्हें बंद के दायरे से बाहर रखा गया है. राज्य में पेट्रोल पंप भी खुले हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading