लाइव टीवी

महाराष्ट्र की राजनीति में रामदास अठावले दलित प्रतिनिधित्तव के रूप में अव्वल नंबर

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 6:39 PM IST
महाराष्ट्र की राजनीति में रामदास अठावले दलित प्रतिनिधित्तव के रूप में अव्वल नंबर
रामदास अठावले रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष

महाराष्ट्र की राजनीति में रामदास अठावले की हैसियत दलित प्रतिनिधित्तव के रूप में अव्वल नंबर पर मानी जाती है. रामदास अठावले रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 6:39 PM IST
  • Share this:
महाराष्ट्र में प्रकाश आंबेडकर के दलित पैरोकार होने के दावों को टक्कर देने के लिए रामदास अठावले एनडीए का महत्वपूर्ण हथियार है. मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं. आज महाराष्ट्र की राजनीति में रामदास अठावले की हैसियत दलित प्रतिनिधित्तव के रूप में अव्वल नंबर पर मानी जाती है.

रामदास अठावले का जन्म 25 द‍िसंबर 1959 को सांगली ज‍िले के अगलगांव में हुआ. उनके प‍िता का नाम बंडु बापू और मां का नाम होंसाबाई अठावले है. अठावले ने मुंबई के स‍िद्धार्थ कॉलेज ऑफ लॉ से पढ़ाई की. 16 मई 1992 को अठावले की शादी हुई. अठावले के एक बेटा है ज‍िसने बौद्ध धर्म ग्रहण क‍िया हुआ है.

साल 1974 में दल‍ित पैंथर मूवमेंट के टूटने के बाद अठावले ने दलित राजनीति की नई धारा तय करने के लिए रिपब्लक‍िन पार्टी ऑफ इंड‍िया (अठावले) का गठन किया. 1990 से 1996 तक वो महाराष्ट्र व‍िधान पर‍िषद के सदस्य रहे. 1998-99 में वो पहली बार मुंबई नॉर्थ सेंट्रल से सांसद का चुनाव जीते. साल 1999 और 2004 में वो पंढरपुर लोकसभा सीट से जीतकर सांसद बने. लेकिन साल 2009 में सीट बदलना उन्हें भारी पड़ गया. साल 2009 में शिरडी से चुनाव लड़ने पर उन्हें हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद साल 2011 में बीजेपी-शिवसेना के साथ उनकी पार्टी ने बृहन्मुंबई महानगर पालिका चुनाव लड़ा. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में अठावले की पार्टी ने एनडीए के साथ मिलकर चुनाव लड़ा और वो राज्यसभा से चुनकर संसद पहुंचे. रामदास अठावले को मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय में राज्यमंत्री बनाया गया.

'भूम‍िका' नाम की एक वीकली मैग्जीन में रामदास अठावले एड‍िटर भी हैं. इसके अलावा उनका महाराष्ट्रियन फिल्मों के प्रति खास आकर्षण रहा है. मराठी फ‍िल्म 'अन्यायाचा प्रत‍िकार' में अठावले ने मुख्य भूम‍िका न‍िभाई है. इसके अलावा कई मराठी फ‍िल्मों और ड्रामे में उन्होंने काम क‍िया है.

देशभर में दलित नेता के रूप में प्रसिद्ध अठावले की एक अलग पहचान उनकी वाकपटुता और काव्यशैली से भी बनी है. संसद में उनके मजेदार भाषण स्टाइल का विरोधी भी लुत्फ उठाते हैं. केंद्र में मोदी सरकार के दोबारा बनने के बाद उन्होंने अपनी बधाई कविता से सबको हंसा-हंसा कर लोटपोट कर दिया. दरअसल,राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिरला जब लोकसभा स्पीकर बने तो उनको बधाई देने के लिए अठावले ने कविता सुनाई. उस कविता में पीएम मोदी की तारीफ के साथ ओम बिरला को जिस तरह से बधाई दी वो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 6:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...