अपना शहर चुनें

States

पश्चिम बंगाल में आलू संकट ‘बनावटी’, इसके लिए तृणमूल सरकार जिम्मेदार: दिलीप घोष

भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष.
भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष.

आलू की कीमत में अचानक हुए इजाफे पर चिंता जताते हुए बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने कहा कि इससे आम आदमी की जेब पर बड़ी मार पड़ी है. घोष ने दावा किया कि टीएमसी नेता, प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) के होने से खुश नहीं हैं.

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में सियासी बयानबाजी जारी है. हाल ही में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) सरकार पर आलू की कीमते बढ़वाने के आरोप लगाए हैं. घोष ने रविवार को टीएमसी की जमकर आलोचना की. उन्होंने कहा सत्तारूढ़ दल से संरक्षण प्राप्त लोगों ने राज्य में ‘बनावटी तरीके से आलू का संकट’ (Potato Crisis) पैदा किया है.

आलू की कीमत में अचानक हुए इजाफे पर चिंता जताते हुए घोष ने कहा कि इससे आम आदमी की जेब पर बड़ी मार पड़ी है. उन्होंने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘आलू की कीमत इतनी अधिक क्यों है? यह संकट बनावटी तरीके से उन लोगों द्वारा पैदा की गई है, जिन्हें सत्तारूढ़ दल का संरक्षण प्राप्त है. यह संकट उन लोगों द्वारा पैदा की गई है जो हर चीज के लिए ‘कटमनी’ यानि किसी भी काम के लिए पैसा लेते हैं.’

दावा: टीएमसी में प्रशांत किशोर का विरोध
भाजपा नेता ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों का एक धड़ा भी पार्टी नेतृत्व की कार्यप्रणाली से नाखुश है. उन्होंने दावा किया कि बागी कार्यकर्ता ‘पीके हटाओ और तृणमूल कांग्रेस बचाओ’ नारा बुलंद कर रहे हैं. उन्होंने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता पार्टी द्वारा 2021 के विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर की सेवाएं लेने का विरोध कर रहे हैं.



जब घोष से पूछा गया कि उत्तरी बंगाल में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा नेता बिमल गुरुंग के एनडीए से अलग होने और तृणमूल कांग्रेस से मिलने से लगे झटके से क्या भगवा पार्टी उबर जाएगी, तो इसपर उन्होंने कहा कि यह दार्जिलिंग के लोगों के साथ ‘विश्वासघात’ है. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, ‘गुरुंग ने पहाड़ के लोगों के साथ विश्वासघात किया है और बिनय तमांग गुट की स्वीकार्यता नहीं है, जबकि भाजपा लंबे समय से यहां के लोगों के साथ खड़ी रही है. पहाड़ों में हमारे सांसद लोकप्रिय हैं.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज