Home /News /nation /

powai school principal crowdfunding helps cover 95 pending fees of her students

महाराष्ट्रः छात्रों को फीस भरने में थी दिक्कत, फिर महिला प्रिंसिपल ने निकाला रास्ता...

स्कूल की प्रिंसिपल ने क्राउडफंडिग से किया छात्रों की फीस का भुगतान (सांकेतिक तस्वीर)

स्कूल की प्रिंसिपल ने क्राउडफंडिग से किया छात्रों की फीस का भुगतान (सांकेतिक तस्वीर)

Maharashtra News: महाराष्ट्र के एक स्कूल की प्रिंसिपल शर्ली पिल्लई ने बच्चों की शिक्षा के लिए फंड जुटाया है. इस फंड से उन्होंने उन छात्रों की फीस का भुगतान किया हैं, जिनके माता-पिता नौकरी छूटने या वेतन में कटौती की वजह से फीस का भुगतान नहीं कर पा रहे थे.

अधिक पढ़ें ...

मुंबई. कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण हर क्षेत्र की व्यवस्था चरमरा गई है. खास कर शिक्षा जगत का बुरा हाल है. छात्रों को माता-पिता की नौकरी छूटने के कारण शिक्षा से हाथ धोना पड़ रहा है. ऐसे में महाराष्ट्र के एक स्कूल की प्रिंसिपल शर्ली पिल्लई ने बच्चों की शिक्षा के लिए फंड जुटाने में कामयाबी हासिल की है. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इस पहल के जरिए पिल्लई उन छात्रों की 95% से अधिक फीस का भुगतान कर चुकी हैं, जिनके माता-पिता नौकरी छूटने या वेतन में कटौती की वजह से फीस का भुगतान नहीं कर पा रहे थे.

मुंबई के पवई इंग्लिश हाई स्कूल की प्रिंसिपल पिल्लई ने कहा कि कुछ दानदाता भविष्य में भी योग्य छात्रों की पढा़ई के लिए आर्थिक मदद देने के लिए इच्छुक हैं. उन्होंने कहा कि मैं हैरान थी कि कैसे लोग स्वेच्छा से मदद के लिए आगे आए. यह हमारे लिए बहुत मायने रखता था. पिल्लई ने कहा कि वह व्यक्तिगत और गैर सरकारी संगठनों द्वारा किए गए दान की मदद से एक करोड़ रुपये जुटाने में कामयाब रही हैं.

उन्होंने कहा कि स्कूल के शिक्षकों ने जरूरतमंद छात्रों की पहचान करने में अहम भूमिका निभाई. दानकर्ता ज्यादातर अकादमिक रूप से उज्ज्वल छात्रों के लिए भुगतान करना चाहते थे. पिल्लई ने बताया कि हमारे पास कई औसत छात्र थे, जिन्हें पढ़ाई के लिए धन की आवश्यकता थी.

पढ़ें – सोने के आभूषण के शौकीन निकले सुपौल के DFO साहब, SBI का लॉकर खुला तो दंग रह गए अफसर

पिल्लई ने कहा, ‘फंड जुटाने के साथ-साथ राज्य बोर्ड स्कूल ने अभिभावकों को आंशिक शुल्क भुगतान करने के लिए प्रोत्साहित करने का काम सौंपा था. स्कूल की वार्षिक फीस लगभग 35,000 रुपये है. माता-पिता की आर्थिक तंगी वास्तविक थी, लेकिन वे फीस का भुगतान करने की आवश्यकता को समझते थे. हमने उनसे कुछ राशि का भुगतान करने और बाकी को हम पर छोड़ने के लिए कहा.’

स्कूल ट्रस्टी, प्रशांत शर्मा ने 25 फीसदी शुल्क में कटौती की, हालांकि राज्य ने स्कूलों से 15 प्रतिशत शुल्क में कटौती के लिए कहा था. पिल्लई ने कहा, ‘हमने तीन साल से फीस नहीं बढ़ाई है और 2022-23 में भी इसी तरह की फीस स्ट्रक्चर को जारी रखेंगे.’

Tags: Coronavirus, Education, Maharashtra News

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर