होम /न्यूज /राष्ट्र /कांग्रेस का सवाल- संसद सत्र की तारीखों में क्रिसमस का ख्याल क्यों नहीं रखा; सरकार ने दिया जवाब

कांग्रेस का सवाल- संसद सत्र की तारीखों में क्रिसमस का ख्याल क्यों नहीं रखा; सरकार ने दिया जवाब

क्रिसमस को लेकर के कांग्रेस के आरोपों का सरकार ने दिया यह जवाब (अधीर रंजन चौधरी और प्रह्लाद जोशी)

क्रिसमस को लेकर के कांग्रेस के आरोपों का सरकार ने दिया यह जवाब (अधीर रंजन चौधरी और प्रह्लाद जोशी)

Parliament Winter Season: सर्वदलीय बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कह ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली: संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान क्रिसमस त्योहार के पड़ने को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर ईसाई समुदाय के पर्व को ध्यान नहीं देने का आरोप लगाया है. सत्र से पहले सरकार द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस ने सत्र की तारीखों को लेकर सवाल उठाते हुए कहा कि सत्र की तारीखों को तय करते समय सरकार को ईसाई समुदाय के त्योहार (क्रिसमस) की तारीख का ध्यान रखना चाहिए. वहीं, सरकार ने कांग्रेस द्वारा इस तरह के आरोप को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और विस्तार से जवाब दिया.

सर्वदलीय बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि कांग्रेस ने बैठक में सत्र की तारीख को लेकर सरकार से यह कहा कि उन्हें ऐसा करते समय ईसाई समुदाय के त्योहार क्रिसमस का ध्यान रखना चाहिए था. साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस सत्र को छोटा करने की मांग नहीं कर रही है, बल्कि सरकार को 7 दिसंबर की बजाय इस सत्र को पहले ही शुरू कर देना चाहिए था. उनका कहना है कि चुनावों के लिए संसद सत्र को टालने की कोई जरूरत नहीं थी.

सरकार की तरफ से कांग्रेस के आरोप का जवाब देते हुए केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कांग्रेस का आरोप दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान क्रिसमस के त्योहार के दिन 25 दिसंबर को रविवार है और उस दिन हम सब लोग क्रिसमस मनाएंगे. जोशी ने इसके साथ ही कहा कि इससे पहले 24 दिसंबर को शनिवार है और इन दोनों दिन संसद की कार्यवाही नहीं होगी. विपक्ष अगर यह चाहता है कि 25 दिसंबर के बाद कोई कामकाज ही न हो तो यह गलत है.

हालांकि, प्रह्लाद जोशी ने कहा कि अगर उनकी तरफ से बीएसी में प्रस्ताव आता है तो हम एक और दिन यानी 26 दिसंबर को भी सदन की कार्यवाही को स्थगित करने को तैयार हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता द्वारा सरकार पर यह आरोप लगाना दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमने क्रिसमस के त्योहार को इग्नोर कर दिया है और हम उनके आरोप की भर्त्सना करते हैं. शीतकालीन सत्र को लेकर सरकार का पक्ष रखते हुए जोशी ने कहा कि देश के दो महत्वपूर्ण राज्यों में विधान भा चुनाव हो रहे थे और लोकतंत्र के इस त्योहार को लेकर सत्र को 7 दिसंबर से शुरू करने का फैसला किया गया.

Tags: BJP, Congress, Parliament, Winter season

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें