लाइव टीवी

RSS के कार्यक्रम में राष्ट्रवाद पर भाषण देंगे प्रणब मुखर्जी

News18Hindi
Updated: May 29, 2018, 4:36 PM IST
RSS के कार्यक्रम में राष्ट्रवाद पर भाषण देंगे प्रणब मुखर्जी
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की फाइल फोटो

आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार ने NEWS 18 को बताया कि, ''हमने भारत के पूर्व राष्ट्रपति को आमंत्रित किया है और उन्होंने कार्यक्रम में भाग लेने के लिए अपनी सहमति दी है.''

  • Share this:
पल्लवी घोष

पूर्व राष्ट्रपति और कांग्रेसी रहे प्रणब मुखर्जी आरएसएस के स्वयंसेवकों को संबोधित करेंगे. पूर्व राष्ट्रपति का यह कार्यक्रम नागपुर स्थित रेशिम बाग के आरएसएस मुख्यालय में होगा. प्रणब को इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया है. यह कार्यक्रम आरएसएस के संघ शिक्षा वर्ग के तृतीय वर्ष के पूरा होने पर आयोजित किया जा रहा है.प्रणब इस दौरान राष्ट्रवाद पर भाषण देंगे. प्रणब का संबोधन राष्ट्रवाद के असल मायने पर केंद्रित होगा. माना जा रहा है कि वो राष्ट्रवाद का मायने बताने के दौरान उसके खराब हो चुके रूप पर आलोचनात्मक रुख अपनाएंगे.

बीते साल अक्टूबर में अलीगढ़ मुस्लिम विश्विविद्यालय में छात्रों को दिए संबोधन के दौरान प्रणब ने कहा था कि भारत में राष्ट्रवाद के मायनों को फिर से गढ़ने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि  "भारतीय राष्ट्रवाद यूरोपीय राष्ट्र राज्यों की अवधारणा की तरह नहीं है.''

वह राष्ट्रवाद के मायनों को फिर से परिभाषित करने के लिए समय-समय पर किए गए प्रयासों की आलोचना करते रहे हैं. संघ नेतृत्व नागपुर में रेशिम बाग में मुख्यालय में आयोजित वार्षिक आयोजन के लिए हर साल प्रतिष्ठित लोगों को बुलाता है.


आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार ने NEWS 18 को बताया कि,  ''हमने भारत के पूर्व राष्ट्रपति को आमंत्रित किया है और उन्होंने कार्यक्रम में भाग लेने के लिए अपनी सहमति दी है.'' सक्रिय राजनीति में अनुभवी कांग्रेस नेता रहे प्रणब को मिले आमंत्रण को राजनीति में उनकी रुचियों में बदलाव की तरह देखा जा रहा है. आरएसएस कार्यक्रम में प्रणब की भागीदारी से कांग्रेस के भीतर कुछ विवाद हो सकता है. राष्ट्रपति रहते हुए प्रणब ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को राष्ट्रपति भवन में भोजन के लिए बुलाया था.

ये भी पढ़ें: AMU में प्रणब- राष्ट्रवाद कानून से लागू नहीं किया जा सकता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 29, 2018, 3:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर