Exclusive: क्या 2024 में केंद्र की सत्ता पर होगा तीसरा मोर्चा? प्रशांत किशोर ने किया खुलासा

पिछले दो हफ्ते में शरद पवार से प्रशांत किशोर दो बार मिल चुके है. ऐसे में राजनीतिक गलियारे में चर्चा तेज हो गई कि प्रशांत किशोर की कोशिश थर्ड फ्रण्ट निर्माण में अपनी भूमिका निभाने की है.

किशोर ने कहा कि शरद पवार के साथ उनकी बैठक निजी शिष्टाचार मुलाकात थी और 22 जून को शरद पवार के घर होने वाली राष्ट्रमंच की बैठक से उनका कोई लेना देना नहीं. प्रशांत किशोर ने कहा कि जब भी वो कुछ करेंगे उसकी घोषणा पहले करेंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र की सत्तासीन मोदी सरकार के खिलाफ विपक्षी दलों को एकजुट करने की कवायद एक बार फिर शुरू हो गई है. इसी बीच रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात (Prashant kishor meets Sharad pawar) की. प्रशांत किशोर और शरद पवार की इस मुलाकात के बाद तीसरे मोर्चे की सरकार बनेगी क्या इस बात की सुगबुगाहट तेज हो गई है.

क्या वाकई तीसरे मोर्चे की सरकार (Third Front Planning For 2024 Assembly Elections ) बनाने की तैयारियां हो रही हैं ये जानने के लिए न्यूज 18 इंडिया ने रणनीतिकार प्रशांत किशोर से खास बातचीत की. एक्सक्लूसिव बातचीत में प्रशांत किशोर ने कहा है कि तीसरे मोर्चे के निर्माण या भविष्य में थर्ड फ्रंट निर्माण से कोई लेना देना नहीं है. दिल्ली में एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के साथ बैठक को थर्ड फ्रंट से जोड़ने को प्रशांत किशोर ने सिरे से खारिज किया है.
22 जून को होने वाली बैठक से कोई लेना-देना नहीं

किशोर ने कहा कि शरद पवार के साथ उनकी बैठक निजी शिष्टाचार मुलाकात थी और 22 जून को शरद पवार के घर होने वाली राष्ट्रमंच की बैठक से उनका कोई लेना देना नहीं. प्रशांत किशोर ने कहा कि जब भी वो कुछ करेंगे उसकी घोषणा पहले करेंगे.

प्रशांत किशोर ने शरद पवार से दो हफ्ते में दो बार मिले
दरअसल पिछले दो हफ्ते में शरद पवार से प्रशांत किशोर दो बार मिल चुके है. ऐसे में राजनीतिक गलियारे में चर्चा तेज हो गई कि प्रशांत किशोर की कोशिश थर्ड फ्रण्ट निर्माण में अपनी भूमिका निभाने की है. हालांकि उन्होंने ऐसी किसी भी चर्चा को सिरे से खारिज कर दिया. प्रशांत किशोर शरद पवार से मुंबई में मिले थे और फिर दिल्ली में मुलाकात की.

ये भी पढ़ेंः- UP से नदी में बहकर आ रही लाशें, हम करवा रहे अंतिम संस्कार: ममता बनर्जी

बंगाल चुनाव के बाद चुनाव प्रबंधन से की थी संन्यास की घोषणा
पश्चिम बंगाल में टीएमसी की जीत के बाद प्रशांत किशोर ने चुनाव प्रबंधन से संन्यास की घोषणा कर दी है और भविष्य में वो किसी पार्टी के लिये चुनाव रणनीतिकार की भूमिका में नहीं होंगे. बंगाल से पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी की जीत और इसके बाद 2015 में बिहार में महागठबंधन, आंध्र प्रदेश में जगन मोहन रेड्डी की जीत के अलावा प्रशांत किशोर बतौर चुनावी रणनीतिकार अपनी भूमिका निभा चुके हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.