Home /News /nation /

prashant kishor on hindu polarisation bjp congress

देश में 80-82 फीसदी हिंदू, लेकिन भाजपा को मिलते हैं केवल 40 फीसदी वोट: प्रशांत किशोर

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने देश में ध्रुवीकरण की राजनीति को किसी पार्टी की जीत में सबसे अहम कारण मानने से इनकार कर दिया है.

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने देश में ध्रुवीकरण की राजनीति को किसी पार्टी की जीत में सबसे अहम कारण मानने से इनकार कर दिया है.

Prashant Kishor On Hindu Polarisation: चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने देश में ध्रुवीकरण की राजनीति पर कई अहम बातें कहीं हैं. उन्होंने कहा कि किसी पार्टी की जीत हार को पूरी तरह से ध्रुवीकरण के नजरिए से देखना गलत है. देश में ध्रुवीकरण के खिलाफ भी एक बड़ी आबादी है जो चुनावों में बेहद अहम भूमिका निभा सकती है.

अधिक पढ़ें ...

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कहा है कि देश की आबादी में 80 से 82 फीसदी हिंदू हैं, लेकिन भाजपा को आज भी केवल 40 फीसदी के आसपास वोट मिलते हैं. ऐसे में यह कहना कि यह पार्टी ध्रुवीकरण के दम पर चुनाव जीत जाती है, पूरी तरह से गलत है. उन्होंने ये बातें अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के एक कार्यक्रम में कहीं. देश की राजनीति में कथित तौर पर बढ़ते ध्रुवीकरण के मसले पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, “इस ध्रुवीकरण की बात को बहुत बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है. ध्रुवीकरण का तरीका बदल गया है. आप 15 साल पहले कैसे ध्रुवीकरण करते थे वह अब बदल गया है. हालांकि इसका इंपैक्ट यानी असर करीब-करीब अब भी वैसा ही है. हमने चुनावी आंकड़ों का अध्ययन किया है. इस आधार पर हम कह सकते हैं कि जिस चुनाव को सबसे अधिक ध्रुवीकरण वाला बताया जाता है उसमें भी कोई पार्टी किसी एक समुदाय के 50-55 फीसदी वोटरों को मोबलाइज नहीं कर पाती है.”

उन्होंने कहा कि उनके कहने का मतलब यह है कि ध्रुवीकरण को जो लोग चुनाव हारने का कारण बताते हैं वो गलत हैं. उन्होंने कहा कि मान लीजिए कि आप हिंदू समुदाय के ध्रुवीकरण की कोशिश करते हैं. यह समुदाय देश में बहुसंख्यक है. अगर हिंदू समुदाय में ध्रुवीकरण का स्तर 50 फीसदी तक हो जाता है यानी ये 50 फीसदी किसी एक पार्टी को इसलिए वोट करते हैं क्योंकि वे उस पार्टी से प्रभावित हैं. लेकिन यहां ध्यान देने वाली चीज यह है कि ध्रुवीकरण से प्रभावित हर एक हिंदू के साथ एक दूसरा हिंदू खड़ा है जो इससे प्रभावित नहीं है.

हिंदू-मुस्लिम का ध्रुवीकरण निर्णायक…
प्रशांत किशोर ने कहा कि यह मान लेना कि हिंदू-मुस्लिम का ध्रुवीकरण निर्णायक होता है. इस कारण कोई चुनाव जीत या हार सकता है… ऐसा मानना गलत है. बिहार की राजनीति में उतरने की घोषणा कर चुके प्रशांत किशोर ने आगे कहा कि जब बाहर निकलते हैं तो तमाम ऐसे लोग मिलते हैं जो कहते हैं कि सभी हिंदुओं का ध्रुवीकरण हो गया है. लेकिन तथ्य कुछ और बताते हैं. भारत में भाजपा को 38 फीसदी वोट मिले हैं. एक मिनट के लिए कल्पना कीजिए और बताइए कि क्या ये पूरे वोटर भाजपा के हिंदुत्व से प्रभावित होकर उसे वोट देते हैं? भाजपा को वोट करने वाले वोटरों की संख्या देश में हिंदुओं की कुल संख्या के आधे से भी कम है.

उन्होंने हाल में संपन्न उत्तर प्रदेश चुनाव का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि इस प्रदेश में भाजपा को 40 फीसदी वोट मिले हैं. जबकि राज्य में हिंदू आबादी 80-82 फीसदी है. इसका मतलब है कि आधे से कम हिंदुओं ने भाजपा को वोट किया. यहां हम कह सकते हैं कि ध्रुवीकरण असर डालता है, लेकिन यह नहीं कहा जा सकता कि कोई पार्टी केवल ध्रुवीकरण के आधार पर चुनाव जीतती या हारती है.

Tags: BJP, Prashant Kishor

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर