होम /न्यूज /राष्ट्र /

कांग्रेस को लेकर प्रशांत किशोर बोले- सबसे पुरानी पार्टी की परेशानियों का तुरंत समाधान नहीं

कांग्रेस को लेकर प्रशांत किशोर बोले- सबसे पुरानी पार्टी की परेशानियों का तुरंत समाधान नहीं

कुछ समय पहले अटकलें लगाई जा रही थीं कि प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं. (फाइल फोटो/News18)

कुछ समय पहले अटकलें लगाई जा रही थीं कि प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं. (फाइल फोटो/News18)

Prashant Kishor on Congress: प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया, ‘लखीमपुर खीरी की घटना के आधार पर देश की सबसे पुरानी पार्टी की अगुवाई में विपक्ष के त्वरित और स्वाभाविक रूप से उठ खड़े होने की उम्मीद लगा रहे लोग निराश हो सकते हैं.’

    नई दिल्ली. चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने एक बार फिर कांग्रेस पार्टी को लेकर प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है कि लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) मामले से कांग्रेस की अगुवाई में विपक्ष के उठ खड़े होने की उम्मीद लगा रहे लोगों को निराशा हो सकती है, क्योंकि देश की सबसे पुरानी पार्टी से जुड़ी समस्याओं का कोई तुरंत समाधान नहीं हैं. कुछ समय पहले अटकलें लगाई जा रही थी कि किशोर कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं.

    उन्होंने यह टिप्पणी उस वक्त की है, जब कुछ हफ्ते पहले तक उनके कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही थीं. प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया, ‘लखीमपुर खीरी की घटना के आधार पर देश की सबसे पुरानी पार्टी की अगुवाई में विपक्ष के त्वरित और स्वाभाविक रूप से उठ खड़े होने की उम्मीद लगा रहे लोग निराशा हो सकते हैं.’ उन्होंने जोर देकर कहा, ‘दुर्भाग्यवश सबसे पुरानी पार्टी में लंबे समय से घर कर चुकी समस्याओं और ढांचागत कमजोरियों का कोई त्वरित समाधान नहीं है.’

    लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में प्रदर्शनकारी किसानों की मौत के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को मौके पर जाते समय हिरासत में लिया गया था और वह दो दिनों तक पुलिस अभिरक्षा में थीं. इसके बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवारों से मुलाकात की थी. कांग्रेस ने लखीमपुर हिंसा के पांच पीड़ित परिवारों 4 किसान और 1 पत्रकार को 50-50 लाख रुपये का मुआवजा देने का फैसला किया है.

    गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी जिले के तिकोनिया क्षेत्र में गत रविवार को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के दौरे के विरोध को लेकर भड़की हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी. इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. यूपी पुलिस ने मिश्रा के घर के बाहर नोटिस चस्पा कर दिया था और बेटे को पूछताछ के लिए पेश होने के लिए कहा था. (भाषा इनपुट के साथ)

    Tags: Congress, Lakhimpur Kheri, Prashant Kishor

    अगली ख़बर