यास' चक्रवात को लेकर तैयारी जोरों पर, गृहमंत्री अमित शाह आज ओडिशा के CM के साथ करेंगे बैठक

यास से निपटने के लिए वायुसेना तैयार है. (सांकेतिक तस्वीर/AP)

यास से निपटने के लिए वायुसेना तैयार है. (सांकेतिक तस्वीर/AP)

'यास' चक्रवात (Yaas Cyclone) के बुधवार को ओडिशा (Odisha) और पश्चिम बंगाल (West Bengal) के पूर्वी तटीय इलाकों में दस्तक देने का अनुमान है. IMD ने रविवार को कहा कि बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र अब दबाव वाले क्षेत्र में बदल गया है और 26 मई को पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा तटों को पार करेगा.

  • Share this:

कोलकाता/भुवनेश्वर/नई दिल्ली. भारत में 'यास' चक्रवात (Yaas Cyclone) के खतरे को देखते हुए तैयारियां जोरों पर हैं. बचाव और राहत टीमों को वायुमार्ग से एक स्थान से दूसरे स्थानों पर भेजा जा रहा है और रक्षा विमानों तथा नौसैनिक पोतों को सतर्क रखने को कहा गया है. यास चक्रवात के खतरे को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) आज ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक करेंगे. इसके साथ ही आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल चक्रवात यास के मद्देनजर तैयारियों की समीक्षा करेंगे.

'यास' चक्रवात के बुधवार को ओडिशा और पश्चिम बंगाल के पूर्वी तटीय इलाकों में दस्तक देने अनुमान है. इससे एक सप्ताह पहले ही पश्चिमी तट पर आया 'टाउते' चक्रवात बर्बादी की दास्तान छोड़ गया है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने रविवार को कहा कि बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र अब दबाव वाले क्षेत्र में बदल गया है और वह 'बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान' के रूप में 26 मई को पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा तटों को पार करेगा.

Youtube Video
v>

इसे भी पढ़ें :- Cyclone Yaas: चक्रवात यास से निपटने के लिए NDRF की 85 टीमें तैनात, वायुसेना भी तैयार
उसने कहा कि दबाव वाले क्षेत्र के सोमवार तक चक्रवाती तूफान 'यास' में बदलने की संभावना है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवात यास से निपटने के लिए रविवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में राज्यों एवं केंद्र सरकार की एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा की और समुद्री गतिविधियों में शामिल लोगों को समय से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश दिए. प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक बयान में बताया कि मोदी ने अधिकारियों से राज्यों के साथ करीबी समन्वय स्थापित कर काम करने को कहा, ताकि अत्यधिक जोखिम वाले इलाकों से लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके.

इसे भी पढ़ें :- Cyclone Yaas Update: 'टाउते' की तरह आज चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा 'यास', मचाएगा भारी तबाही!

उन्होंने यह सुनिश्चित करने पर जोर दिया कि बिजली आपूर्ति या संचार नेटवर्क बाधित होने पर उसे तेजी से दुरुस्त किया जाए. मोदी ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे यह सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकारों के साथ उचित समन्वय स्थापित करें और योजना बनाएं कि अस्पतालों में कोविड-19 उपचार एवं टीकाकरण बाधित नहीं हो. भारतीय वायुसेना ने चक्रवात ‘यास’ से उत्पन्न स्थिति से निपटने की तैयारियों के तहत मानवीय सहायता और आपदा राहत कार्यों के लिए 11 परिवहन विमान और 25 हेलीकॉप्टर तैयार रखे हैं.

334 कर्मियों को हवाई मार्ग से कोलकाता और पोर्ट ब्लेयर पहुंचाया गया

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज