पत्थरों पर जीवन उकेरते हैं राज्यसभा पहुंचने वाले मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा

साल 2013 में उन्हें पद्म विभूषण से नवाजा गया था. इससे पहले उन्हे पद्म भूषण, शिल्प गुरु अवार्ड जैसे कई समान मिल चुके हैं.

News18Hindi
Updated: July 14, 2018, 2:33 PM IST
पत्थरों पर जीवन उकेरते हैं राज्यसभा पहुंचने वाले मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के साथ रघुनाथ महापात्रा की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: July 14, 2018, 2:33 PM IST
राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा को राज्‍यसभा के लिए मनोनीत किया है. रघुनाथ महापात्रा अद्भुत प्रतिभा के धनी हैं. उनकी शिल्पकला का जादू देश में ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी माना जाता है. साल 2013 में उन्हें पद्म विभूषण से नवाज़ा गया था. इससे पहले उन्हें पद्म भूषण, शिल्प गुरु अवार्ड जैसे कई समान मिल चुके हैं.

अब तक उन्होंने लगभग 2000 छात्रों को ट्रेनिंग दी है. देश की पारंपरिक शिल्प कला को सहेजने में उनका बहुत बड़ा योगदान है. उनकी कला की खूबसूरती पुरी के जगन्नाथ मंदिर में देखने को मिलती है. उनके कई कामों को देश और विदेश में खूब ख्याति मिली. इसमें से एक संसद के सेंट्रल हॉल में लगी भगवान सूर्य की 6 फीट लंबी प्रतिमा है. उनके द्वारा बनाए गए लकड़ी के बुद्धा को पेरिस के बुद्धा मंदिर में रखा गया है.

ये भी पढ़ें- बिहार के राकेश सिन्हा को मिली राज्यसभा में जगह
रघुनाथ महापात्रा का जन्म ओडिशा के पुरी में एक शिल्पकार परिवार में हुआ था. उन्होंने 1959 में शिल्पकला की दुनिया में कदम रखा. 75 साल के मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा के बारे में कहा जाता है कि वे हाथ में हथौड़ा लेकर अविश्वसनीय सूक्ष्मता से पत्थरों पर जीवन को बहुत ही आसानी से उकेर देते हैं.

जानें कौन हैं राज्यसभा के लिए मनोनीत यूपी के राम सकल
मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा के साथ ही किसान नेता राम सकल, लेखक और स्तंभकार राकेश सिन्हा और शास्त्रीय नर्तक सोनल मानसिंह को राष्‍ट्रपति ने राज्‍यसभा के लिए मनोनीत किया है. राज्यसभा की यह सीटें क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, फिल्म एक्ट्रेस रेखा, अनु आगा और के पारासन का कार्यकाल समाप्त होने पर खाली हुई थीं.

बता दें कि संविधान के आर्टिकल 80 के तहत, राष्ट्रपति को राज्यसभा में 12 सदस्यों को मनोनीत करने का अधिकार दिया गया है. ये सदस्य सिनेमा, विज्ञान, खेल, कला आदि से जुड़े होने चाहिए. इसी अधिकार के तहत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने चार हस्तियों को संसद के उच्च सदन यानी राज्यसभा के लिए मनोनीत किया है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर