राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की देशवासियों से अपील- अंबेडकर के आदर्शों को जीवन में अपनाएं

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की देशवासियों से अपील- अंबेडकर के आदर्शों को जीवन में अपनाएं
राष्ट्रपति ने नागरिकों को बीम राव अंबेडकर के आदर्शों को आत्मसात करने का संदेश दिया (फाइल फोटो)

राष्ट्रपति (President) ने कहा कि अंबेडकर ने भारत को एक ऐसा प्रगतिशील और समावेशी संविधान दिया जो पिछले कई दशकों से देश के लोकतंत्र में नागरिकों के विश्वास को मजबूत और गहरा करता आ रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने सोमवार को देश के नागरिकों से संविधान के निर्माता डॉ बीम राव अंबेडकर (B. R. Ambedkar) की सीखों को आत्मसात करने और एक मजबूत तथा समृद्ध भारत के निर्माण में योगदान देने को कहा. अंबेडकर की जयंती की पूर्वसंध्या पर देशवासियों को बधाई देते हुए राष्ट्रपति ने लोगों से कोविड-19 के मद्देनजर ‘सामाजिक दूरी’ बनाकर रखते हुए और घरों में रहते हुए अंबेडकर जयंती मनाने को कहा.

राष्ट्रपति ने कहा कि समाज सुधारक, शिक्षाविद, न्यायविद, अर्थशास्त्री, राजनेता और कानूनी विशेषज्ञ के रूप में अंबेडकर देश औक समाज के भले के लिए लगातार प्रयत्नशील रहे. राष्ट्रपति ने अपने संदेश में कहा कि अंबेडकर ने ऐसे समाज की कल्पना की थी जहां सामाजिक सौहार्द और समानता हो. उन्होंने कहा, ‘‘इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए उन्होंने अपना पूरा जीवन समाज और राष्ट्र के प्रति समर्पित कर दिया.’’

रामनाथ कोविंद ने कहा कि अंबेडकर ने भारत को एक ऐसा प्रगतिशील और समावेशी संविधान दिया जो पिछले कई दशकों से देश के लोकतंत्र में नागरिकों के विश्वास को मजबूत और गहरा करता आ रहा है.



राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘अंबेडकर जयंती के अवसर हम डॉ अंबेडकर के महान कद, संघर्ष और मूल्यों से प्रेरणों लें, उनकी सीखों तथा आदर्शों को अपने जीवन में आत्मसात करने का संकल्प लें तथा एक मजबूत और समृद्ध भारत के निर्माण में योगदान दें.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज