तूफान टाउते पर पीएम मोदी की बैठक, तैयारियों का लिया जायजा, दिए कई निर्देश

चक्रवाती तुफान टाउते के चलते तेज बारिश का दौर आ सकता है. (सांकेतिक फोटो)

चक्रवाती तुफान टाउते के चलते तेज बारिश का दौर आ सकता है. (सांकेतिक फोटो)

Cyclone ‘Tauktae’: पीएम ने वरिष्ठ अधिकारियों को बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी जरूरी सेवा को सुनिश्चित करने को कहा है.

  • Share this:

नई दिल्ली. चक्रवाती तूफान 'टाउते' आज रात कर्नाटक के तट से टकराएगा. इस बीच, पीएम नरेंद्र मोदी ने इस तूफान को लेकर एक बड़ी बैठक की है और अधिकारियों को राहत और बचाव को लेकर निर्देश दिए हैं. पश्चिम रेलवे ने तूफान के कारण कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है. मौसम विभाग ने बताया है कि यह खतरनाक तूफान गुजरात की तट से 18 मई को दोपहर को टकराएगा. उस दौरान 175 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है. टाउते से निपटने के लिए राज्य और केंद्र सरकार ने बड़ी तैयारी की है. केरल में जोरदार बारिश हो रही है. वहीं, लक्षद्वीप में तूफान के कारण कई पेड़ गिर गए हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवाती तूफान टाउते से खतरे की आशंका को देखते हुए शनिवार को समीक्षा बैठक की. प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने के लिए तमाम कदम उठाने को कहा है. साथ ही बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी जरूरी सेवा को सुनिश्चित करने को कहा है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक अरब सागर के ऊपर बना दबाव का क्षेत्र अब चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ में तब्दील हो गया है और इसके 18 मई के आसपास पोरबंदर तथा नलिया के बीच गुजरात तट को पार करने की संभावना है. ‘तौकते’ 16 से 18 मई के बीच अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में रहेगा.

आईएमडी द्वारा जारी बुलेटिन में कहा गया, ‘‘इसके (तौकते) अगले छह घंटे के दौरान ‘भीषण चक्रवाती तूफान’ में परिवर्तित होने की काफी संभावना है और फिर अगले 12 घंटे में इसके ‘अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान’ में बदलने की संभावना है. इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिमी दिशा की तरफ बढ़ने और लगभग 18 मई को अपराह्न/शाम के समय पोरबंदर और नलिया के बीच गुजरात तट को पार करने की संभावना है.’’ केंद्र और तटीय राज्यों की सरकारें चक्रवात से निपटने की तैयारी कर रही हैं.

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने चक्रवात के मद्देनजर राहत एवं बचाव कार्य के उद्देश्य से अपनी टीमों की संख्या 53 से बढ़ाकर 100 कर दी है. केंद्रीय जल आयोग ने भी चक्रवात को लेकर केरल के मध्य एवं उत्तरी हिस्सों, पास के दक्षिण तटीय एवं कर्नाटक के दक्षिण तटवर्ती क्षेत्रों के लिए मध्यम से उच्च स्तर के जोखिम का अलर्ट जारी किया है. गोवा में सरकार ने चक्रवात के मद्देनजर आवश्यक कदम उठाए हैं.


आईएमडी के अनुसार चक्रवात के चलते कोंकण और गोवा में 15 और 16 मई को भारी से अत्यंत भारी बारिश हो सकती है. गोवा अग्निशमन एवं आपात सेवा ने कहा कि इसने स्थिति से निपटने के लिए अपने कर्मियों को तैयार रखा है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के तटीय जिलों के अधिकारियों को सतर्क रहने और स्थिति से निपटने के लिए उपकरणों से लैस रहने के निर्देश दिए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज