कृषि बिल पर विरोध के बीच प्रधानमंत्री बोले- बिचौलियों का साथ दे रहे हैं कुछ लोग, किसान इनसे रहे सतर्क

पीएम ने किसानों से अपील की है कि वे किसी भ्रम में ना पड़ें.
पीएम ने किसानों से अपील की है कि वे किसी भ्रम में ना पड़ें.

कृषि बिल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि मैं आज देश के किसानों को नम्रता पूर्वक स्पष्ट संदेश देना चाहता हूं. आप किसी भी तरह के भ्रम में मत पड़िए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 1:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शुक्रवार को बिहार में एक पुल समेत 12 रेल परियजानाओं का उद्घाटन किया. इस दौरान एक संबोधन में पीएम ने कृषि बिल (Agricultural Bills) पर भी चर्चा की. पीएम ने कहा कि कुछ लोग बिचौलियों का साथ देना चाह रहे हैं. उन्होंने कहा कि जितना काम किसानों के लिए कभी नहीं हुआ था वह इन 6 सालों में हुआ. मौजूदा विधेयकों का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि इससे किसान सभी बंधनों से मुक्त हो जाएगा और वह अपनी फसल खुद उगा कर अपनी कमाई बढ़ाएगा.

कृषि बिल पर पीएम मोदी ने कहा कि विश्वकर्मा दिवस के मौके पर ये तीनों विधेयक लोकसभा में पास हुए. इन सुधारों से किसानों को अपनी उपज बेचने में और ज्यादा विकल्प मिलेंगे और ज्यादा अवसर मिलेंगे. मैं देश भर के किसानों के किसानों को इन विधेयकों के पारित होने पर बहुत-बहुत बधाई देता हूं. ये विधेयक  किसानों और ग्राहकों को बिचौलियों से बचाने के लिए लाए गए.

पीएम ने कहा कि लेकिन कुछ लोग जो दशकों तक सत्ता में रहे हैं,  देश पर राज किया है, वो लोग किसानों को इस विषय पर भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं, किसानों से झूठ बोल रहे. चुनाव के समय किसानों को लुभाने के लिए ये बड़ी-बड़ी बातें करते थे, लिखित में करते थे, अपने घोषणापत्र में डालते थे और चुनाव के बाद भूल जाते थे. और आज जब वही चीजें एनडीए सरकार कर रही है, किसानों को समर्पित हमारी सरकार कर रही है, तो ये भांति-भांति के भ्रम फैला रहे हैं.



ये सरासर झूठ है, गलत है, किसानों को धोखा है...
उन्होंने कहा कि जिस APMC एक्ट को लेकर अब ये लोग राजनीति कर रहे हैं, एग्रीकल्चर मार्केट के प्रावधानों में बदलाव का विरोध कर रहे हैं, उसी बदलाव की बात इन लोगों ने अपने घोषणापत्र में भी लिखी थी. लेकिन अब जब एनडीए सरकार ने ये बदलाव कर दिया है, तो ये लोग इसका विरोध करने पर उतर आए हैं.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार के कृषि कानूनों में ऐसा क्या है जिसका किसान कर रहे हैं विरोध

पीएम ने कहा कि अब ये दुष्प्रचार किया जा रहा है कि सरकार के द्वारा किसानों को MSP का लाभ नहीं दिया जाएगा. ये भी मनगढ़ंत बातें कही जा रही हैं कि किसानों से धान-गेहूं इत्यादि की खरीद सरकार द्वारा नहीं की जाएगी. ये सरासर झूठ है, गलत है, किसानों को धोखा है. हमारी सरकार किसानों को MSP के माध्यम से उचित मूल्य दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है. सरकारी खरीद भी पहले की तरह जारी रहेगी.

आप किसी भी तरह के भ्रम में मत पड़िए- PM
पीएम ने कहा कि कोई भी व्यक्ति अपना उत्पाद, दुनिया में कहीं भी बेच सकता है, जहां चाहे वहां बेच सकता है. लेकिन केवल मेरे किसान भाई-बहनों को इस अधिकार से वंचित रखा गया था. अब नए प्रावधान लागू होने के कारण, किसान अपनी फसल को देश के किसी भी बाजार में, अपनी मनचाही कीमत पर बेच सकेगा मैं आज देश के किसानों को स्पष्ट संदेश देना चाहता हूं.

कहा कि आप किसी भी तरह के भ्रम में मत पड़िए. इन लोगों से देश के किसानों को सतर्क रहना है. ऐसे लोगों से सावधान रहें जिन्होंने दशकों तक देश पर राज किया और जो आज किसानों से झूठ बोल रहे हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों को अपनी उपज देश में कहीं पर भी, किसी को भी बेचने की आजादी देना, बहुत ऐतिहासिक कदम है. 21वीं सदी में भारत का किसान, बंधनों में नहीं, खुलकर खेती करेगा, जहां मन आएगा अपनी उपज बेचेगा, किसी बिचौलिए का मोहताज नहीं रहेगा और अपनी उपज, अपनी आय भी बढ़ाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज