नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में आने से खुद को इसलिए नहीं रोक सके उनके ये धुर विरोधी नेता!

नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में आने से खुद को इसलिए नहीं रोक सके उनके ये धुर विरोधी नेता!
शपथ ग्रहण समारोह में राहुल गांधी और सोनिया गांधी

पीएम मोदी को कोसने वाले अरविंद केजरीवाल भी थे शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद, मुलायम सिंह यादव ने मोदी को दी थी दोबारा पीएम बनने की शुभकामना, वो भी बने कार्यक्रम का हिस्सा

  • Share this:
लोकसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल और राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पानी पी-पीकर कोसा. आरोप लगाए. तीखे शब्दवाण चलाए. लेकिन बृहस्पतिवार को राष्ट्रपति भवन में हुए शपथ ग्रहण समारोह में ये दोनों नेता मौजूद थे. जानते हैं क्यों? ताकि राजनीतिक शिष्टाचार  बना रहे. यही नहीं कांग्रेस नेता एवं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और कर्नाटक के सीएम एचडी कुमार स्वामी सहित और भी कई विपक्षी नेताओं ने इस समारोह का हिस्सा बनकर अच्छी राजनीतिक मिसाल कायम करने की कोशिश की.

चुनाव में जीतता कोई एक ही है. जीत-हार लगी रहती है. इसलिए इन विपक्षी नेताओं ने इसे खेल भावना से लिया और पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह का हिस्सा बन गए. बीजेपी की बंपर जीत के बाद पार्टी के नेता नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को दोबारा प्रधानमंत्री पद की शपथ ली.  (ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए इसलिए इतने महत्वपूर्ण हैं अमित शाह?)

 modi cabinet ministers, modi oath ceremony 2019, prime minister oath ceremony, narendra modi oath ceremony, शपथ ग्रहण समारोह 2019, शपथ ग्रहण समारोह, Amit Shah, PM Modi, Swearing In ceremony, अमित शाह, पीएम मोदी, नरेन्द्र मोदी, BJP sarkar, mantri, राजनाथ सिंह, अर्जुन राम मेघवाल, मुख्तार अब्बास नकवी, स्मृति ईरानी, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, opposition leader, विपक्षी नेता, मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, मुलायम सिंह यादव, गुलाम नबी आजाद, कर्नाटक के सीएम एचडी कुमार स्वामी, Manmohan Singh, Congress President Rahul Gandhi, Sonia Gandhi, Mulayam Singh Yadav, Ghulam Nabi Azad, Karnataka CM HD Kumaraswamy      शपथ ग्रहण समारोह में गुलाम नबी आजाद



दूसरे दलों के नेताओं पर कीचड़ उछालने वाले इस दौर में शपथ ग्रहण समारोह की ये तस्वीर सुखद संदेश देती है. राजनीतिक विरोधी भी मोदी का राजतिलक देखने पहुंचे. इसे देखकर लगा रहा है कि सियासत में शिष्टाचार कितना जरूरी है. चुनाव समाप्त हो चुका है. सरकार का गठन हो रहा है. अब राजनीतिक दलों में उतनी तल्खी भी नहीं है. इसीलिए स्वस्थ परंपरा को कायम रखने के लिए एक दूसरे के खिलाफ जहरीला बयान देने वाले नेता भी शपथ ग्रहण में पहुंचने से खुद को नहीं रोक सके.



हालांकि मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में आने को लेकर पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने यू टर्न ले लिया. पहले उन्होंने आने के लिए हामी भरी थी लेकिन बाद में उन्होंने मना कर दिया. बंगाल में बीजेपी ने 18 सीटें जीतकर ममता बनर्जी के गढ़ को हिला दिया है. टीएमसी कार्यकर्ता लगातार टूट कर बीजेपी की ओर आ रहे हैं. ऐसे में ममता बीजेपी से काफी नाराज हैं और वो शपथ ग्रहण समारोह में नहीं आईं.

हालांकि प्रधानमंत्री ने चुनाव के दौरान एक इंटरव्यू में ममता बनर्जी के बारे में कहा था कि भले ही हम लोग एक दूसरे के खिलाफ कुछ भी बोलें, लेकिन ममता दीदी हर साल मुझे एक या दो कुर्ते भेजती हैं...वो मेरे लिए बंगाली मिठाईयां भी भेजती हैं. ममता ने इसका जवाब भी दिया था. ममता बनर्जी भले ही नहीं आईं लेकिन मोदी पर हमेशा हमलावर रहने वाले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल यहां जरूर पहुंचे.

modi cabinet ministers, modi oath ceremony 2019, prime minister oath ceremony, narendra modi oath ceremony, शपथ ग्रहण समारोह 2019, शपथ ग्रहण समारोह, Amit Shah, PM Modi, Swearing In ceremony, अमित शाह, पीएम मोदी, नरेन्द्र मोदी, BJP sarkar, mantri, राजनाथ सिंह, अर्जुन राम मेघवाल, मुख्तार अब्बास नकवी, स्मृति ईरानी, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, opposition leader, विपक्षी नेता, मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, मुलायम सिंह यादव, गुलाम नबी आजाद, कर्नाटक के सीएम एचडी कुमार स्वामी, Manmohan Singh, Congress President Rahul Gandhi, Sonia Gandhi, Mulayam Singh Yadav, Ghulam Nabi Azad, Karnataka CM HD Kumaraswamy       शपथ ग्रहण समारोह में अरविंद केजरीवाल

धुर विरोधी पार्टी से होने के बावजूद पीएम मोदी के संबंध पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से बहुत अच्छे हैं. वो अपने पहले कार्यकाल में उनके घर भी गए थे. ऐसे में मनमोहन सिंह भी समारोह में पहुंचे. राजनीतिक विरोध के बावजूद मुलायम सिंह यादव से पीएम मोदी के संबंध बहुत अच्छे हैं. वो उनके घर भी जा चुके हैं, ऐसे में मुलायम सिंह ने भी आने में देर नहीं की. 16वीं लोकसभा के आखिरी सत्र के अंतिम दिन मुलायम सिंह यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दोबारा पीएम बनने की शुभकामना दी थी.

ये भी पढ़ें:

पीएम किसान सम्मान निधि योजना: अब देश के सभी किसानों को मिलेंगे सालाना 6000 रुपये!

नोटा: बिहार के वोटरों में ‘नेताओं’ खिलाफ क्यों है इतना गुस्सा? 

किसानों के अच्छे दिन, खेती-किसानी से जुड़ा है 17वीं लोकसभा का हर चौथा सांसद!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading