• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • PRIME MINISTER NARENDRA MODI REACHED GUJARAT TO KNOW THE SITUATION AFTER CYCLONE TAUKTAE

Cyclone Tauktae: चक्रवात टाउते से हुए नुकसान का जायजा लेने गुजरात पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी

गुजरात पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

चक्रवात 'टाउते' (Cyclone Tauktae) से गुजरात में हुए जान और माल के नुकसान का जायजा लेने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) भावनगर पहुंचे.

  • Share this:
    अहमदाबाद. चक्रवात 'टाउते' (Cyclone Tauktae) से गुजरात में हुए जान और माल के नुकसान का जायजा लेने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) बुधवार को भावनगर पहुंचे जहां मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने उनका स्वागत किया. रूपाणी ने ट्वीट कर कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावनगर पहुंच गए हैं. वह चक्रवात टाउते से प्रभावित अमरेली, गिर सोमनाथ और भावनगर जिलों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे.' प्रभावित इलाकों का मुआयना करने के बाद प्रधानमंत्री अहमदाबाद में एक बैठक भी करेंगे जिसमें मुख्यमंत्री के अलावा उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहेंगे.

    गुजरात में चक्रवाती तूफान के कारण तटीय इलाकों में भारी नुकसान हुआ, बिजली के खंभे तथा पेड़ उखड़ गए तथा कई घरों व सड़कों को भी नुकसान पहुंचा. इस दौरान हुई घटनाओं में करीब 13 लोगों की मौत भी हुई है. चक्रवाती तूफान के कारण 200 से अधिक तालुकाओं में बारिश हुई. एहतियाती तौर पर राज्य सरकार ने पहले ही दो लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया था.

     5951 गांवों में बिजली गुल
    मौसम विभाग ने कहा कि टाउते गुजरात के तट से 'बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान' के तौर पर आधी रात के करीब गुजरा और धीरे-धीरे कमजोर होकर 'गंभीर चक्रवाती तूफान' तथा बाद में और कमजोर होकर अब 'चक्रवाती तूफान' में बदल गया है. रुपाणी ने मंगलवार को कहा था कि 16000 से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचा, 40 हजार से ज्यादा पेड़ और 70 हजार से ज्यादा बिजली के खंभे उखड़ गए जबकि 5951 गांवों में बिजली चली गई.

    यह राज्य में आया, अब तक का सबसे भयावह चक्रवात बताया जा रहा है. टाउते के कारण सौराष्ट्र से लेकर उत्तरी गुजरात के तट तक भारी बारिश देखने को मिली और कम से कम 46 तालुका में 100 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हुई जबकि 12 में 150 से 175 मिलीमीटर तक बारिश दर्ज की गई. चक्रवात टाउते दोपहर बाद अहमदाबाद जिले की सीमा से लगते हुए उत्तर की तरफ बढ़ गया . इससे पहले और इस दौरान भी यहां लगातार भारी बारिश हुई जिससे शहर के कई इलाकों में घुटनों तक जलभराव हो गया.