संसद स्थगित करने की मांग पर प्रधानमंत्री मोदी बोले- अगर डॉक्टर और रेल कर्मी भी यही कहें फिर क्या होगा!

संसद स्थगित करने की मांग पर प्रधानमंत्री मोदी बोले- अगर डॉक्टर और रेल कर्मी भी यही कहें फिर क्या होगा!
प्रधानमंत्री ने संसद स्थगित करने की मांग पर टिप्पणी की.

Coronavirusu को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi ) ने सासंदों से 15 अप्रैल तक किसी बड़े प्रदर्शन से भी परहेज करने को कहा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2020, 11:12 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने भाजपा के सांसदों से कहा कि कोरोना वायरस के बारे में जागरूकता फैलाएं और स्पष्ट किया कि संसद के बजट सत्र की अवधि कम नहीं की जाएगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि देश जब स्वास्थ्य संकट से जूझ रहा है तो सांसदों को अपना काम करते रहना चाहिए. सूत्रों ने बताया कि मोदी ने भाजपा संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए इस बात की वकालत की कि संसद को अपना काम कार्यक्रम के मुताबिक करना चाहिए. नरेंद्र मोदी ने उन लोगों की आलोचना की जो कोरोना वायरस के कारण सत्र की अवधि कम करने के लिए फोन कर रहे हैं या पत्र लिख रहे हैं.

पीएम ने मंगलवार को कहा कि अगर चिकित्सा पेशेवर, रेलवे और एयरलाइन के कर्मचारी भी स्वास्थ्य कारणों से काम नहीं करने के बारे में कहने लगें तो क्या होगा. उन्होंने कहा कि सांसदों को ऐसे वक्त में अपना काम करते रहना चाहिए जब भारत की 130 करोड़ जनता एहतियात बरतते हुए अपना काम कर रही है.

हालांकि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन भाजपा के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने लोकसभा अध्यक्ष और राज्यसभा के सभापति को पत्र लिखकर कोरोना वायरस के मद्देनजर दोनों सदनों को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की अपील की थी क्योंकि सत्र के दौरान संसद में काफी संख्या में लोग जमा होते हैं. सूत्रों ने बताया कि गोयल का पत्र मीडिया में भी आया और प्रधानमंत्री को यह अच्छा नहीं लगा.



संसद का कामकाज जारी रहना चाहिए
बजट सत्र तीन अप्रैल तक चलने वाला है. बड़ी संख्या में लोगों के जुटने के खिलाफ स्वास्थ्य परामर्श को देखते हुए कयास लगाए जा रहे थे कि सत्र को छोटा किया जा सकता है. सूत्रों के मुताबिक मोदी ने कहा कि जब देश के 130 करोड़ लोग स्वास्थ्य की समस्याओं से जूझ रहे हैं तो सांसदों को अपना काम करना चाहिए और संसद का कामकाज जारी रहना चाहिए.

संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस से मुकाबला करने में डॉक्टरों, नर्सो और स्वास्थ्य कर्मियों की कड़ी मेहनत एवं योगदान की सराहना की. उन्होंने एयरलाइन के क्रू सदस्यों की भी प्रशंसा की. प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के संबंध में जागरूकता फैलाने एवं सकारात्मक योगदान के लिए मीडिया की काफी प्रशंसा की .

भाजपा के वरिष्ठ नेता राजीव प्रताप रूडी ने बताया कि बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के संदर्भ में किये गए कार्यो को सामने लाने से डॉक्टरों, नर्सो, नगरपालिका कर्मियों, हवाई अड्डा कर्मियों, सीआईएसएफ एवं अग्रिम मोर्चे पर जुटे लोगों का मनोबल बढ़ता है. रूडी के अनुसार, मोदी ने कहा कि ऐसे में हमें कोविड-19 से मुकाबला करने के विभिन्न आयामों को रेखांकित करने वाले विभिन्न लोगों का भी अभिनंदन करना चाहिए .

कोरोना वायरस के बारे में जागरूकता फैलाने का काम करें
मोदी ने कहा कि सभी स्तर पर विभिन्न प्राधिकार समन्वय बनाकर काम कर रहे हैं ताकि यह सुनिश्चत हो कि कोविड -19 नहीं फैले. रूडी के कहा कि बैठक में प्रधानमंत्री ने पार्टी सांसदों से कहा कि शनिवार एवं रविवार को जब वे अपने क्षेत्र में जाएं तो कोरोना वायरस के बारे में जागरूकता फैलाने का काम करें.

मोदी ने सासंदों से 15 अप्रैल तक किसी बड़े प्रदर्शन से भी परहेज करने को कहा. उन्होंने सांसदों से अपने क्षेत्र में मेडिकल कर्मियों से मुलाकात करने और उनके कार्य की सराहना को भी कहा. उन्होंने प्रधानमंत्री के हवाले से बताया कि मीडिया ने काफी सकारात्मक रूप से इस अभियान को आगे बढ़ाने का काम किया है .

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्द्धन ने कोरोना वायरस से निपटने में सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से सांसदों को अवगत कराया. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यस बैंक संकट के बारे में बोला और बताया कि जमाकर्ताओं के हितों को देखते हुए सरकार इससे कैसे निपट रही है.

यह भी पढ़ें: कोरोना: अमेरिका में 100 से अधिक लोगों की मौत, क्रूज पर फंसे 1700 लोग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading