अपना शहर चुनें

States

PM मोदी ने पाकिस्तान को दिखाया आईना! बोले- जब दूसरे देशों ने अपने नागरिकों को चीन में छोड़ दिया तब हमने निकाला

कोरोना वैक्‍सीन टीकाकरण की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने राष्‍ट्र को संबोधित किया.
कोरोना वैक्‍सीन टीकाकरण की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने राष्‍ट्र को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कोरोना संक्रमण के शुरुआती दिनों की याद दिलाते हुए कहा, 17 जनवरी 2020 की तारीख थी जब भारत (India) ने अपनी पहली एडवायजरी जारी की थी. भारत दुनिया के उन देशों में शामिल था जिसने सबसे पहले एयरपोर्ट पर यात्रियों की स्‍क्रीनिंग की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2021, 8:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज दुनिया के सबसे बड़े कोरोना वैक्‍सीन टीकाकरण (Corona vaccination) अभियान की शुरुआत की. इस खास मौके पर राष्‍ट्र को संबोधित करते हुए उन्‍होंने बताया कि कैसे उन्‍होंने देश को लॉकडाउन (Lockdown) के लिए तैयार किया. इस दौरान उन्‍होंने पाकिस्तान पर परोक्ष रूप से कटाक्ष करते हुए कहा कि कोरोना की जंग में जब कई देशों ने अपने नागरिकों को चीन में उनके हाल पर छोड़ दिया था उस वक्‍त हमने ऐसा नहीं किया. हमने न केवल अपने देश के नागरिकों की मदद की बल्कि दूसरे देश के नागरिकों को भी चीन से बाहर निकाला.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन के दौरान कहा, कोरोना महामारी के दौरान कुछ देशों ने अपने नागरिकों का साथ छोड़ दिया था. उन्‍हें लगता था कि चीन से अगर उनके नागरिक देश आ गए तो वो देश के लिए खतरा बन जाएंगे. ऐसे समय में हमने अपने देश के नागरिकों का साथ नहीं छोड़ा. सिर्फ भारत के ही नहीं, हम कई दूसरे देशों के नागरिकों को भी वहां से वापस निकालकर लाए.'

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में पाकिस्तान का नाम तो नहीं लिया, हालांकि याद दिला दें कि पाकिस्तान की इमरान सरकार ने कोरोना संक्रमण के शुरुआती समय में अपने नागरिकों को चीन में उनके हाल पर छोड़ दिया था. इसके बाद पाकिस्तानी छात्रों ने पीएम मोदी से गुहार लगाई थी.

प्रधानमंत्री मोदी ने याद दिलाते हुए कहा, 17 जनवरी 2020 की तारीख थी जब भारत ने अपनी पहली एडवायजरी जारी की थी. भारत दुनिया के उन देशों में शामिल था जिसने सबसे पहले एयरपोर्ट पर यात्रियों की स्‍क्रीनिंग की थी. भारत सरकार ने समय समय पर अपने फैसलों में बदलाव किया और कोरोना पर काबू पाने की कोशिश करता रहा. 30 जनवरी को भारत में कोरोना का पहला मामला सामने आया था, लेकिन इसके दो सप्ताह से भी पहले भारत एक हाई लेवल कमेटी बना चुका था.





इसे भी पढ़ें :- कोरोना वायरस पर आज होगा सबसे बड़ा प्रहार, जानें राज्‍यों की क्‍या है तैयारी और किसे लगेगा पहले टीका

पीएम मोदी ने इस दौरान जनता कर्फ्यू का भी जिक्र किया. पीएम मोदी ने कहा जनता कर्फ्यू के दौरान हमारे समाज के संयम और अनुशासन का भी परीक्षण था, जिसमें हर देशवासी सफल हुए. जनता कर्फ्यू ने देश को मनोवैज्ञानिक रूप से लॉकडाउन के लिए तैयार किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज