पीएम मोदी की लंबी चुनावी राजनीति ने बनाए नए कीर्तिमान

पीएम मोदी की लंबी चुनावी राजनीति ने बनाए नए कीर्तिमान
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनाए नए कीर्तिमान.

पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) प्रधानमंत्री (Prime Minister) के पद पर बने रहने की लिस्ट में चौथे नंबर पर आ गए हैं. खास बात ये है कि पीएम मोदी सबसे लंबे समय तक इस पद पर बने रहने वाले पहले गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 12:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इसे बढ़ता हुआ जनाधार समझे या फिर उनके काम पर जनता का भरोसा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अपने दूसरे कार्यकाल में कई कीर्तिमानों को पीछे छोड़ते जा रहे हैं. पीएम मोदी प्रधानमंत्री (Prime Minister) के पद पर बने रहने की लिस्ट में चौथे नंबर पर आ गए हैं. खास बात ये है कि पीएम मोदी सबसे लंबे समय तक इस पद पर बने रहने वाले पहले गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री हैं. पीएम मोदी ने इस रेस में पूर्व प्रध्रानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) को पीछे छोड़ दिया है.अटल बिहारी वाजपेयी ने पहले 13 दिन, फिर 13 महीने और कारगिल युद्ध के बाद का एक पूरा कार्यकाल समाप्त कर कुल 2268 दिनों तक प्रधानमंत्री पद संभाला था. अपने दूसरे कार्यकाल में दूसरी बार लाल किले की प्राचीर से झंडा फहराने के साथ पीएम मोदी इस रिकार्ड को पीछे छोड़ते हुए लंबे कार्यकाल पूरे करने की सूचि में चौथे नंबर पर आ गए हैं.

प्रधानमंत्री पद पर लंबे कार्यकाल की लिस्ट में पीएम मोदी से आगे पहले नंबर पर हैं देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू जो 16 साल 286 दिन पीएम के पद पर रहे यानि कुल 6130 दिन. दूसरे नंबर पर इंदिरा गांधी रहीं जिन्होंने 15 साल 350 दिनों तक पीएम का पद संभाला था यानि 5829 दिन. तीसरे नंबर पर हैं मनमोहन सिंह जिन्होंने 2004-14 तक 10 साल 4 दिन यानि 3656 दिनों तक प्रधानमंत्री का पद संभाला. अब चौथे नंबर पर पीएम मोदी आ गए हैं. साल 2024 में जब मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल खत्म हो रहा होगा तो पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को पीछे छोड़ पीएम मोदी तीसरे नंबर पर जरूर पहुंच रहे होंगे. साथ ही तीसरे कार्यकाल के लिए भी मैदान में कूद पड़े होंगे.

रिकॉर्डों की बात करें तो मुख्यमंत्री मोदी के बारह सालों की तुलना में बंगाल मे ज्योति बाबू, यूपी में गोविंद वल्लभ पंत. त्रिपुरा में नृपेण चक्रवर्ती ने उनसे ज्यादा लंबा समय सीएम के पद पर बिताया. लेकिन बतौर पीएम रहे और सीएम पद भी संभालने को लेकर अगर इन शीर्ष नेताओं की तुलना की जाए तो बाकी 14 प्रधानमंत्रियों के मुकाबले पीएम मोदी सबसे आगे निकल गए हैं. लेकिन अगर चुनावी राजनीति कर पीएम पद पर पहुंचे इन शीर्ष नेताओं में जितने भी मुख्यमंत्री रहे उनके कार्यकाल को पीएम मोदी ने पीछे छोड़ दिया है यानि लॉन्गेस्ट सर्विंग इलेक्टेड हेड ऑफ दी गवर्नमेंट बन गए हैं. पीएम मोदी 12 साल 227 दिन मुख्यमंत्री रहें और अब तक के उनके पीएम के कार्यकाल को जोड़ दें तो 18 साल, 306 दिन यानि 6878 दिन बनते हैं.



इसे भी पढ़ें :- लाल किले से पीएम मोदी ने दिया नया नारा, कहा- अब मेक इन इंडिया के साथ मेक फोर वर्ल्ड भी होगा
पीएम मोदी ने जनता का भरोसा जीता
इस रेस में दूसरे नंबर पर हैं जनता पार्टी की सरकार के मुखिया रहे मोरारजी देसाई हैं. मोरारजी देसाई 4 साल 194 दिन मुख्यमंत्री भी रहे और 2 साल 126 दिन प्रधानमंत्री रहे. यानि 6 साल 320 दिन वो सीएम और पीएम रहे. तीसरे नंबर पर हैं आर्थिक सुधारों के जनक नरसिम्हा राव. राव 1 साल 102 दिन सीएम रहे और 4 साल 330 दिन पीएम यानि 6 साल 39 दिन. इसी कड़ी में वीपी सिंह और देवे गौड़ा भी आते हैं.
लेकिन पीएम मोदी जनता का भरोसा जीत कर शीर्ष पर पहुंचने वालों में कहीं आगे निकल गए हैं.

इसे भी पढ़ें :- पीएम मोदी ने लाल किले से चीन और पाकिस्तान को दी चेतावनी, 'आंख दिखाने वालों को देंगे करारा जवाब'

हर संकट की घड़ी में जनता के साथ खड़े दिखे पीएम मोदी
कोरोना का संकट हो या चीन का पैंतरा या फिर महामारी की मारी अर्थव्यवस्था हो, पीएम मोदी न थके हैं और ना ही थमे हैं. दुनिया भर में भारत का झंडा बुलंद करना हो या फिर गांव लौट रहे आप्रवासी मजदूरों के लिए रोजमर्रा की जरूरतों को उपलब्ध कराना, पीएम मोदी ने दिन रात एक कर दिया. रिकॉर्ड तो बनते ही हैं टूटने के लिए लेकिन जनता का पीएम मोदी पर ये भरोसा आने वाले दिनों में कितने कीर्तिमान बनाएगा शायद वो इतिहास पन्ने में ही दर्ज होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज