Home /News /nation /

जो भी हो श्री लंका की जरूरत, हम हमेशा उसके साथ:भारत

जो भी हो श्री लंका की जरूरत, हम हमेशा उसके साथ:भारत

श्रीलंका के राष्ट्रपति के साथ प्रधाननंत्री नरेंद्र मोदी (Twitter)

श्रीलंका के राष्ट्रपति के साथ प्रधाननंत्री नरेंद्र मोदी (Twitter)

भारत-श्रीलंका के संबंधों में पिछले पांच वर्षों में परिवर्तन हुए हैं. मार्च 2015 में द्वीप की अपनी ऐतिहासिक यात्रा के साथ, पीएम मोदी 28 साल के अंतराल के बाद श्रीलंका का दौरा करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री बने थे.

    श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के निमंत्रण पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 जून को श्रीलंका की यात्रा पर हैं. दूसरी बार सत्ता संभालने के बाद यह पीएम मोदी दूसरी विदेश यात्रा है. इससे पहले वह 8 जून को मालदीव गए थे.

    21 अप्रैल को श्रीलंका में हमला होने के बाद पीएम मोदी पहले विदेशी राष्ट्राध्यक्ष हैं जो वहां गए हैं. पीएम मोदी की श्रीलंका की यात्रा का उद्देश्य वहां 21 अप्रैल को ईस्टर के मौके पर हुए आतंकी हमले के मद्देनजर श्रीलंका की सरकार और जनता के साथ एकजुटता प्रदर्शित करना है.

    भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हमेशा श्रीलंका के साथ खड़ा है. यह यात्रा अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को श्रीलंका में वर्तमान सुरक्षा स्थिति में सामान्य स्थिति के संबंध में एक मजबूत संदेश देगी। इससे श्रीलंका में विदेशी पर्यटकों और श्रीलंका की अर्थव्यवस्था पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

    यह भी पढ़ें: श्रीलंका पहुंचे PM मोदी, ईस्टर धमाके में मारे गए लोगों को दी श्रद्धांजलि

    भारत ने श्रीलंका से कहा है कि

    भारत ने श्रीलंका से कहा है कि 'आतंकवाद और कट्टरवाद बड़े पैमाने पर मानवता के लिए एक सामूहिक खतरा है. हाल में हुए हमले सिर्फ श्रीलंका के खिलाफ नहीं हैं. दुनिया में कहीं भी आतंकवाद पूरी मानवता की अंतरात्मा पर हमला करता है. यह मानव आत्मा की एकजुटता पर हमला है. विभाजनकारी विचारधारा को अलग-थलग करने और खत्म करने की जरूरत है, क्योंकि यह क्षेत्रीय सुरक्षा और वैश्विक शांति के लिए खतरा है. श्रीलंका को जो भी आवश्यकता होगी पीएम मोदी ने इस संबंध में हर संभव सहायता की पेशकश की है.'

    भारत की ओर से कहा गया है कि 'भारत हमेशा से श्रीलंका की जरूरतों और प्राथमिकताओं का पहला जवाब देने वालों में से रहा है. चाहे बाढ़ हो या सूखा, भारत मानवशक्ति और सामग्री के साथ प्रतिक्रिया देने वाला पहला देश रहा है. भारत ने पूरे भारत के लोगों की ओर से उपहार के रूप में पूरे द्वीप में कई लोगों को विकासोन्मुख परियोजनाओं को पूरा किया है.'

    यह भी पढ़ें: जनता के मिजाज को भांप नहीं पाया विपक्ष : पीएम मोदी

    पांच वर्षों में हुए बदलाव

    भारत-श्रीलंका के संबंधों में पिछले पांच वर्षों में परिवर्तन हुए हैं. मार्च 2015 में द्वीप की अपनी ऐतिहासिक यात्रा के साथ, पीएम मोदी 28 साल के अंतराल के बाद श्रीलंका का दौरा करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री बने थे.

    पीएम मोदी ने मई 2017 में अंतर्राष्ट्रीय वेसाक दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में श्रीलंका का दौरा किया था. हाल के चुनावों में पीएम मोदी के लिए निर्णायक जनादेश सरकार की नीतियों को जारी रखने के लिए समर्थन का प्रतिबिंब है. इन नीतियों को जारी रखना और आगे बढ़ाना श्रीलंका के हित में भी है.

    पीएम मोदी की यात्रा भारत को उनकी ‘पड़ोसी पहले की नीति’से जुड़ी प्राथमिकता को प्रदर्शित करती है. यह श्रीलंका के लोगों को यह बताने के लिए एक यात्रा है कि वे अकेले नहीं हैं, और भारत जरूरत के समय में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है.

    यह भी पढ़ें: PM मोदी रविवार को श्रीलंका जाएंगे, ईस्‍टर हमलों में मारे गए लोगों को देंगे श्रद्धांजलि
    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Narendra modi, Sri lanka

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर