हम आर्थिक क्षेत्र में दुनिया के लिए मिसाल बनेंगे- देश के नाम चिट्ठी में पीएम मोदी की लिखी 10 खास बातें

पीएम नरेंद्र मोदी के पत्र के साथ बीजेपी का घर-घर संपर्क अभियान
पीएम नरेंद्र मोदी के पत्र के साथ बीजेपी का घर-घर संपर्क अभियान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने सरकार के दूसरे कार्यकाल की पहली वर्षगांठ पर देश के नाम एक चिट्ठी (PM Modi's Letter) लिखी. यहां जानें प्रधानमंत्री की देश के नाम चिट्ठी की 10 खास बातें...

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अपनी सरकार के दूसरे कार्यकाल की पहली वर्षगांठ पर देश के नाम एक चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार की सफलताओं, देश की अर्थव्यवस्था के प्रति उनका दृष्टिकोण और आगे की चुनौतियों का जिक्र किया है. मौजूदा समय में कोरोना वायरस महामारी का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार 'एकजुट और निर्धारित तरीके से' काम कर रही है ताकि राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की वजह से अपनी नौकरियां खो चुके दिहाड़ी मजदूरों की मुश्किलों को कम किया जा सके. प्रधानमंत्री मोदी ने देश की जनता के नाम लिखी चिट्ठी में पिछले एक साल के दौरान सरकार की उपलब्धियों का जिक्र किया. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस एक साल में लिए गए फैसले बड़े सपनों की उड़ान है.

प्रधानमंत्री की देश के नाम चिट्ठी की 10 खास बातें-


1- बहुतों को डर था कि जब कोरोना भारत आएगा तो भारत दुनिया के लिए एक समस्या बन जाएगा. लेकिन आज विश्वास और लचीलेपन के माध्यम से आपने दुनिया को हमारी ओर देखने के तरीके को बदल दिया है. आपने साबित कर दिया है कि दुनिया के शक्तिशाली और समृद्ध देशों की तुलना में भारतीयों की सामूहिक ताकत और क्षमता अद्वितीय है.

2- इस परिमाण के संकट में, यह निश्चित रूप से दावा नहीं किया जा सकता है कि किसी को भी असुविधा नहीं हुई. हमारे मजदूर, प्रवासी कामगार, कारीगर और शिल्पकार लघु उद्योगों में, फेरीवाले और ऐसे साथी देशवासियों ने बहुत कष्ट झेले हैं. हम उनकी परेशानियों को कम करने के लिए एकजुट और दृढ़ तरीके से काम कर रहे हैं.
3- पिछले कुछ दिनों में सुपर चक्रवात ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कुछ हिस्सों में कहर बरपाया है. यहां भी इन राज्यों के लोगों की तत्परता प्रशंसनीय है. उनका साहस भारत के लोगों को प्रेरित करता है.



4- ऐसे समय में भारत सहित विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्थाएं कैसे ठीक होंगी इस पर व्यापक बहस चल रही है. हालांकि, भारत ने जिस तरह से दुनिया को अपनी एकता के साथ आश्चर्यचकित किया है और कोरोनो वायरस के खिलाफ लड़ाई का सामना किया है, उसे लेकर दृढ़ विश्वास है कि हम आर्थिक क्षेत्र में भी एक उदाहरण स्थापित करेंगे. आर्थिक क्षेत्र में अपनी ताकत से 130 करोड़ भारतीय न केवल दुनिया को आश्चर्यचकित कर सकते हैं, बल्कि प्रेरित भी कर सकते हैं.

5- हमारे श्रमिकों के पसीने, कड़ी मेहनत और प्रतिभा के साथ-साथ भारतीय मिट्टी की खुशबू ऐसे उत्पाद बनाएगी जो आयात पर भारत की निर्भरता को कम करेंगे और आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ेंगे.

6- आज के दिन पिछले साल भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक सुनहरा अध्याय शुरू हुआ. कई दशकों के बाद देश के लोगों ने पूर्ण बहुमत के साथ पुरानी सरकार को वापस वोट दिया. आपके स्नेह, सद्भावना और सक्रिय सहयोग ने नई ऊर्जा और प्रेरणा दी है. आपने जिस तरह से लोकतंत्र की सामूहिक ताकत का प्रदर्शन किया है वह पूरी दुनिया के लिए एक मार्गदर्शक का काम कर रही है.

7- साल 2014 से 2019 तक भारत का कद काफी बढ़ा. गरीबों की गरिमा को बढ़ाया गया. राष्ट्र ने वित्तीय समावेशन मुफ्त गैस और बिजली कनेक्शन स्वच्छता पर जोर और 'हाउसिंग फॉर ऑल' सुनिश्चित करने की दिशा में प्रगति की.

8- भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के माध्यम से अपनी सूक्ष्मता का प्रदर्शन किया.वहीं, OROP, वन नेशन वन टैक्स- GST जैसी दशकों पुरानी मांगें, किसानों के लिए बेहतर MSP आई.

9- धारा 370 को खत्म करने ने राष्ट्रीय एकता और एकीकरण की भावना को आगे बढ़ाया. भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा सर्वसम्मति से दिया गया राम मंदिर का फैसला, सदियों से चली आ रही बहस का एक सौहार्दपूर्ण अंत लेकर आया. ट्रिपल तालाक की बर्बर प्रथा को इतिहास के कूड़ेदान में फेंक दिया. नागरिकता अधिनियम में संशोधन भारत की करुणा और सबको साथ लेकर चलने की भावना की अभिव्यक्ति थी.

10- ऐसे कई अन्य निर्णय हैं जिन्होंने राष्ट्र के विकास को गति दी है. रक्षा कर्मचारियों के प्रमुख का पद एक लंबे समय से लंबित सुधार था, जिसने सशस्त्र बलों के बीच समन्वय में सुधार किया है. इसके साथ ही भारत ने मिशन गगनयान की तैयारियों को भी तेज कर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज