बदल जाएगा भारत के प्रधानमंत्री की वेबसाइट का रंग रूप, होंगे बड़े बदलाव

बदल जाएगा भारत के प्रधानमंत्री की वेबसाइट का रंग रूप, होंगे बड़े बदलाव
पीएम मोदी.

भारत सरकार द्वारा प्रबंधित की जाने वाले प्रधानमंत्री की आधिकारिक वेबसाइट (Prime minister Website) में बड़े बदलाव किए जाएंगे. अब प्रधानमंत्री (Prime Minister Of India) की वेबसाइट नये रंग रूप में दिखेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 24, 2020, 11:38 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत सरकार द्वारा प्रबंधित की जाने वाले प्रधानमंत्री की आधिकारिक वेबसाइट- pmindia.gov.in में बड़े बदलाव किए जाएंगे. अब प्रधानमंत्री (Prime Minister Of India)  की वेबसाइट नये रंग रूप में दिखेगी. सरकार की ओर से जारी किये प्रपोजल के अनुसार अब वेबसाइट को संयुक्त राष्ट्र की 6 आधिकारिक भाषाओं के साथ-साथ 22 भारतीय भाषाओं में देखा जा सकता है. फिलहाल भारत के प्रधानमंत्री की वेबसाइट को 12 भाषाओं में पढ़ा जा सकता है.

प्रस्ताव में संयुक्त राष्ट्र की 6 भाषाएं अरबी, चीनी, अंग्रेजी, फ्रेंच, रूसी और स्पेनिश शामिल है, वहीं  22 भारतीय भाषाओं में असमिया, बंगाली, बोडो, डोगरी, गुजराती, हिंदी, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मैथिली, मलयालम, मणिपुरी, मराठी , नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत, संथाली, सिंधी, तमिल, तेलुगु और उर्दू शामिल है.

प्रस्तावित वेबसाइट जियो लोकेशन और लैंग्वेज सेलेक्शन हिस्ट्री समेत अन्य कारकों के आधार पर भाषा का संकेत बताने में सक्षम होगी. वेबसाइट के लिए बनाए गए रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल यानी RFP में कहा गया है कि पोर्टल पर स्टैटिक और डायनामिक कंटेंट का अनुवाद होना चाहिए. प्रस्ताव में कहा गया है कि चयनित एजेंसी को अंग्रेजी या हिंदी में कंटेंट दिया जाएगा.



सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के साथ  रियल टाइम इंटीग्रेशन का प्रस्ताव
नई वेबसाइट के लिए सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म के साथ रियल टाइम इंटीग्रेशन का प्रस्ताव है. दस्तावेज़ में कहा गया है, 'प्रधानमंत्री के सोशल मीडिया हैंडल से फ़ीड को इन प्लेटफार्म्स पर फेच किया जाएगा और वेबसाइट पर उपलब्ध कराया जाएगा.' सरकार ने प्रोजेक्ट के लिए प्रश्नों को जमा करने की अंतिम तारीख 7 अगस्त तय की है. वहीं 30 जुलाई तक इसके लिए प्रपोजल दिया जा सकता है.

राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिवीजन (NeGD) द्वारा दिये गये RFP के अनुसार, सरकार डिजाइन, डेवलपमेंट और वेबसाइटों के मेंटेनेंस के लिए एक योग्य और अनुभवी एजेंसी को काम पर रखना चाहती है. कहा गया है, 'एजेंसी को विस्तृत सॉफ्टवेयर स्पेसिफिकेशन तैयार करने, वेबसाइट के डेवलपमेंट और मेंटनेंस के लिए एंड-टू-एंड सर्विस और 22 आधिकारिक भारतीय भाषाओं समेत संयुक्त राष्ट्र  की छह आधिकारिक भाषाओं में पीएम इंडिया पोर्टल को बनाने की आवश्यकता होगी.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज