लाइव टीवी

प्रियंका गांधी का आरोप, किसानों की आत्महत्या से जुड़ी रिपोर्ट से हुई छेड़छाड़

News18Hindi
Updated: November 11, 2019, 6:05 AM IST
प्रियंका गांधी का आरोप, किसानों की आत्महत्या से जुड़ी रिपोर्ट से हुई छेड़छाड़
कांग्रेस नेता ने किसानों की समस्याओं पर ट्वीट किया है.

कांग्रेस (Congress) महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने एक मीडिया रिपोर्ट के आधार पर किसानों से जुड़ी एक रिपोर्ट को लेकर ट्वीट किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2019, 6:05 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस (Congress) नेता प्रिंयका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने रविवार को सरकार पर आरोप लगाया कि वह देश में किसानों की आत्महत्या से जुड़ी रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ कर रही है और उसे ‘दबाने’ का प्रयास कर रही है.

उन्होंने अपने ट्वीट के साथ उस मीडिया रिपोर्ट को भी टैग किया है जिसमें दावा किया गया है कि किसानों की आत्महत्या से जुड़ी एनसीआरबी की ताजा रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ की गयी है और ऐसा पहली बार हुआ है.

उन्होंने ट्वीट किया है, .भाजपा सरकार के लोग सच से इतना डरते क्यों हैं? भाजपा सरकार में किसान लगातार आत्महत्या कर रहे हैं. लेकिन भाजपा सरकार ने किसानों की समस्या सुलझाने की बजाय किसान आत्महत्या की रिपोर्ट से छेड़छाड़ करना और उसे दबाकर रखना ज़्यादा सही समझा.

BJP, किसान आत्महत्या, NCRB, प्रियंका गांधी,BJP, farmer suicide, NCRB, Priyanka Gandhi

मेहनत से उगाई प्याज का सही दाम ही नहीं मिलता- प्रियंका
एक अन्य ट्वीट में किसानों को उनके उत्पाद का सही मूल्य देने की मांग करते हुए उन्होंने लिखा है, .भाजपा सरकार ने किसानों की कैसी दुर्दशा कर रखी है? प्याज के बढ़ते दाम रोकने के लिए बाहर से प्याज आयात की जा रही है मगर हमारे किसान को मेहनत से उगाई प्याज का सही दाम ही नहीं मिलता.



उन्होंने ट्वीट किया, .किसानों को सही दाम दो, सुविधा दो, सम्मान दो. किसान को मजबूर नहीं, मज़बूत करो. उन्होंने लिखा है, .किसान को एक किलो प्याज के आठ रूपये मिल रहे हैं और बाज़ार में प्याज 100 रुपये किलो है. ये हो क्या रहा है?.

यह भी पढ़ें:  SPG Cover Withdrawal: CM अशोक गहलोत ने कहा, पीएम का दुनिया में कद बढ़ेगा क्या?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 5:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...