अब लोगों से ऑनलाइन जुड़ेंगी ममता, बूथ लेवल पर पार्टी को करेंगी मजबूत

तृणमूल के सूत्रों ने कहा कि 'दीदी के बोलो' अभियान को पहले चरण में राज्‍य के 1,000 जगहों पर चलाया जाएगा. यह अभियान 100 दिनों तक चलेगा.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 6:03 PM IST
अब लोगों से ऑनलाइन जुड़ेंगी ममता, बूथ लेवल पर पार्टी को करेंगी मजबूत
तृणमूल के सूत्रों ने कहा कि दीदी के बोलो अभियान को पहले चरण में राज्‍य के 1,000 जगहों पर चलाया जाएगा. यह अभियान 100 दिनों तक चलेगा.
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 6:03 PM IST
(सुजीत नाथ

लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने एक चुनावी कैंपेन 'दीदी के बोले' लॉन्‍च किया है. 2021 में विधानसभा चुनाव फतह के मकसद से इसे लॉन्‍च किया गया है. इसके माध्‍यम से पार्टी को बूथ स्‍तर पर मजबूत करना और ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को पार्टी से जोड़ना इस अभियान का लक्ष्‍य है.

'दीदी के बोलो' अभियान के तहत आम जनता की समस्‍याएं सुनी जाएंगी और उसका समाधान किया जाएगा. इस अभियान को सुचारू रूप से चलाने के लिए एक टीम का गठन किया जाएगा. ये टीम लोगों द्वारा दर्ज की गई शिकायत को देखकर उसे मुख्‍यमंत्री के सामने रखेगी और सीएम सोशल मीडिया के माध्‍यम से इन शिकायतों का जवाब देंगी.

तृणमूल के सूत्रों ने कहा कि 'दीदी के बोलो' अभियान को पहले चरण में राज्‍य के 1,000 जगहों पर चलाया जाएगा. यह अभियान 100 दिनों तक चलेगा. राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने इसकी रणनीति तैयार की थी.

इसपर टीएमसी के एक वरिष्‍ठ नेता ने कहा कि एक विशेष आईटी टीम ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म पर इसकी निगरानी करेगी. ये टीम बंगाल के लोगों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर तत्‍काल संज्ञान लेकर उसे मुख्‍यमंत्री के जानकारी में डालेगी. लोगों की शिकायतों के उत्‍तर फेसबुक, व्हाट्सएप, वॉयस और टेक्स्ट मैसेज के माध्‍यम से दिया जाएगा.

हमें अपने बूथ मजबूत करने की जरूरत- ममता
हाल ही में 21 जुलाई, शहीद दिवस पर टीएमसी की रैली के दौरान ममता बनर्जी ने कहा था, 'हमें अपने बूथों को मजबूत करने की जरूरत है. हमें ग्रामीणों के लिए काम करना है. मैं चाहती हूं कि पार्टी के कार्यकर्ता अपने क्षेत्रों में घर-घर जाकर लोगों की समस्‍याओं को सुने. हमें हर ब्‍लॉक, बूथ और जिले में कड़ी मेहनत करने की जरूरत है. हमें बीजेपी की विभाजनकारी रणनीति के खिलाफ लड़ने की जरूरत है.'
Loading...

बता दें कि 9 अगस्‍त को टीएमसी बीजेपी के खिलाफ 'भारत छोड़ो अभियान' की शुरुआत करेगी और 28 अगस्‍त को पार्टी कोलकाता के मेयो रोड पर 'टीएमसी फाउंडेशन डे' मनाएगी. लोकसभा चुनाव के बाद 7 जून को ममता बनर्जी ने राज्‍य सचिवालय में प्रशांत किशोर के साथ एक बैठक की.

ये भी पढ़ें: मॉब लिंचिंग: बच्चा चोरी के शक में एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या

2014 के लोकसभा चुनाव में टीएमसी ने राज्‍य की 42 में से 34 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जबकि पिछले लोकसभा चुनाव में टीएमसी केवल 22 सीटों पर ही सिमट गई. जबकि 2014 में बीजेपी को 2 सीटें मिली थीं और 2019 में वो 18 सीटों तक पहुंच गई.

ये भी पढ़ें: भीड़ ने भगवान के नाम को हत्या की चीख में बदल दिया है: नुसरत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 5:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...