PM मोदी के विमान को लेकर राहुल के तंज पर सूत्रों ने कहा- UPA सरकार में शुरू हुई थी खरीद प्रक्रिया

पटियाला में प्रेस वार्ता के दौरान राहुल गांधी (ANI)
पटियाला में प्रेस वार्ता के दौरान राहुल गांधी (ANI)

Boeing 777: राहुल गांधी ने पंजाब में एक रैली के दौरान कहा था कि पीएम मोदी ने अपने लिए 8000 करोड़ रुपये के दो विमान खरीदे हैं. राहुल के इसी तंज पर सूत्रों ने अहम जानकारी दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 10:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व सांसद और वायनाड से सांसद राहुल गांधी (Former Congress President & Waynad's MP Rahul Gandhi) के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) पर 8 हजार करोड़ रुपये के विमान खरीदने को लेकर कसे गए तंज पर सरकार के सूत्रों ने अहम जानकारी दी है. सूत्रों का कहना है कि बोइंग 777 विमान (Boeing 777 Aircraft) भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) का है न कि प्रधानमंत्री का. विमानों की खरीद प्रक्रिया भी 10 साल पहले यूपीए सरकार के दौर में शुरू हुई थी. सूत्रों ने मंगलवार को कहा कि "यूपीए सरकार के तहत लगभग एक दशक पहले इन विमानों की खरीद की प्रक्रिया शुरू हुई थी. मोदी सरकार (Modi Government) ने इस प्रक्रिया को एक तार्किक निष्कर्ष पर पहुंचा दिया है. सूत्रों ने कहा कि ये विमान पीएम के विमान नहीं हैं, लेकिन अन्य वीवीआईपी (VVIP) के लिए भी उपयोग किए जाएंगे. ये भारतीय वायुसेना के हैं न कि प्रधानमंत्री के."

बता दें राहुल गांधी ने पंजाब (Punjab) के नूरपुर (Noorpur) में कांग्रेस (Congress) की ओर से आयोजित की जा रही खेती बचाओ रैली (Kheti Bachao Rally) में कहा था कि "एक तरफ तो प्रधानमंत्री मोदी 8000 करोड़ रुपये के दो विमान खरीदते हैं. दूसरी तरफ चीन हमारी सीमा पर है और हमारे जवान सीमा की रक्षा के लिए बेहद ठंडे वातावरण में रह रहे हैं." गौरतलब है कि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की यात्रा के लिए विशेष रूप से निर्मित बी777 विमान गुरुवार को अमेरिका से भारत पहुंचे हैं. वीवीआईपी की यात्रा के लिए एक और विशेष रूप से निर्मित बी777 विमान बाद में बोइंग से प्राप्त होने की संभावना है.

ये भी पढ़ें- LAC पर तैनात सैनिकों को मिलेगी इस अमेरिकी असॉल्ट राइफल की नई खेप



ये दोनों विमान 2018 में कुछ महीनों के लिए एअर इंडिया के वाणिज्यिक बेड़े का हिस्सा थे, जिन्हें फिर वीवीआईपी यात्रा के लिए इसे विशेष रूप से पुनर्निमित करने के लिए बोइंग भेज दिया गया. अधिकारियों ने बताया कि दोनों विमानों की खरीद और इनके पुनर्निर्माण की कुल लागत लगभग 8,400 करोड़ रुपये आंकी गई है.
भारतीय वायुसेना के पायलट उड़ाएंगे ये विमान
बी777 विमानों में अत्याधुनिक मिसाइल रोधी प्रणाली होगी, जिसे लार्ज एयरक्राफ्ट इन्फ्रारेड काउंटरमेजर्स और सेल्फ-प्रोटेक्शन सूट्स (एसपीएस) कहा जाता है.

ये भी पढ़ें- बॉर्डर पर रोके जाने के बाद राहुल गांधी को मिली हरियाणा जाने की इजाजत

एक अधिकारी ने बताया कि वीवीआईपी की यात्रा के दौरान, दोनों बी777 विमानों को एअर इंडिया के पायलट नहीं, बल्कि भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के पायलट उड़ाएंगे.

वर्तमान में, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री एअर इंडिया के बी747 विमानों से यात्रा करते हैं. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज