होम /न्यूज /राष्ट्र /हसनम्बा के बंद मंदिर में साल भर जलती है दीप की लौ, ताजा रहता है प्रसाद

हसनम्बा के बंद मंदिर में साल भर जलती है दीप की लौ, ताजा रहता है प्रसाद

हर साल कुछ ही दिनों के लिए खुलता है मंदिर, एचडी देवेगौड़ा के संसदीय क्षेत्र के इस मंदिर के चमत्कार को दी जा रही है चुनौ ...अधिक पढ़ें

    शरत शर्मा कलगारु

    कुछ प्रगतिवादी विचारक चाह रहे हैं कि कर्नाटक के हसनम्बा मंदिर के चमत्कारों को साबित किया जाय. सामाजिक जागरुकता अभियान के तहत इन लोगों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि सच को सामने लाया जाय.

    ये भी पढ़ें : 'शाप' मुक्त हुआ मैसूर का वाडियार राजवंश, 400 साल बाद राजा के घर जन्मा बेटा

    इन समाजिक कार्यकर्ताओं ने जिला प्रशासन से कहा है कि अगर उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया गया तो वे लोग हाई कोर्ट जाएंगे. ये कर्नाटक के मंदिर पुराने मैसूर स्थित हसन जिले में है, जो पूर्व प्रधानमंत्री और जेडीएस सुप्रीमो एचडी देवेगौड़ा का संसदीय क्षेत्र है.

    माना जाता है कि हसनम्बा मंदिर चमत्कारों की जगह है. कहा जाता है कि यहां जो दीप जलाए जाते हैं वो साल भर जलते रहते हैं और देवी को जो प्रसाद चढ़ाया  जाता है वो अगले साल तक ताजा रहता है. मंदिर जनता के लिए साल में कुछ ही दिन खोला जाता है.

    दलित संघर्ष समिति के नेता और सीपीएम के साथ नॉलेज कमेटी के सदस्य रहस्य से पर्दा उठाने का फैसला लिया है. इसी के लिए इन लोगों ने जिला प्रशासन से भी सहयोग मांगा है. कमेटी के सदस्य के मुताबिक–“मंदिर समिति लोगों के भोलेपन का फायदा उठा रही है. हम सच को सामने लाने की मांग कर रहे हैं.”

    ये भी देखें : कृष्ण के इस मंदिर में न्यूटन का नियम भी हो जाता है फेल, जानिए इसका रहस्य 

    मान्यताएं क्या हैं ?

    साल भर में मंदिर को एक बार ही जनता के लिए खोला जाता है. बाकी समय मंदिर बंद रहता है. एक बार जब पट खोले जाते हैं तो दिए जलते रहते हैं और पिछले साल चढ़ाया गया प्रसाद ताजा रहता है. अब प्रगतिवादी चाह रहे हैं कि इसके पीछे के रहस्य को सबके सामने लाया जाय.

    श्रद्धालुओं में गुस्सा

    हसनम्बा के श्रद्धालुओं की तरफ से अभियान चलाने वाले नेताओं पर तरह तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं. श्रद्धालु प्रगतिगामियों के इस अभियान को हिंदू विरोधी दुष्प्रचार करार दे रहे हैं. उनके मुताबिक इस अभियान को चलाने वाले मंदिर को बदनाम करने में लगे हुए हैं. कुछ का ये भी आरोप है-“मंदिर के विरुद्ध अभियान चलाने वालों को क्रिश्चियन मिशनरिज की ओर से धन दिया जा रहा है.” फिर भी सच को सामने लाने वाले अपने अभियान पर डटे हुए हैं और जिला प्रशासन पर लगातार दबाव बना रहे हैं.

    Tags: HD Deve Gowda, JDS, Karnataka, Mysore

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें