CAA 2019 का विरोध: कवि कुमार विश्वास ने कहा - भारत को सिर्फ भारत ही बचा सकता है

CAA 2019 का विरोध: कवि कुमार विश्वास ने कहा - भारत को सिर्फ भारत ही बचा सकता है
कवि कुमार विश्‍वास देश के मौजूदा माहौल को लेकर काफी चिंतित हैं.

कवि कुमार विश्‍वास (Kumar Vishwas) ने नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA 2019) के खिलाफ देश भर में चल रहे विरोध-प्रदर्शन (Protest) पर चिंता जताई है. उनका कहना है कि ऐसे माहौल में राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी (Mahatma Gandhi) की आत्‍मा रो रही होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2019, 8:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA 2019) के खिलाफ देश भर में विरोध-प्रदर्शन पर हो रहा है. जगह-जगह पत्‍थरबाजी, आगजनी और तोड़फोड़ की घटनाएं हो रही हैं. पुलिस प्रदर्शन करने वाले लोगों पर लाठियां बरसा रही है. इस पूरे माहौल पर कवि कुमार विश्‍वास (Kumar Vishwas) ने चिंता जताई है. उन्‍होंने इसके लिए सभी राजनीतिक पार्टियों (Political Parties) को जिम्‍मेदार ठहराया है. उनका कहना है कि ऐसे माहौल से भारत (India) को सिर्फ भारत ही बचा सकता है. ये सब देखकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की आत्मा रो रही होगी.

'दोनों जो चाहते थे वही हो रहा है! राजघाट पर कोई खामोश रो रहा है'
कुमार विश्वास ने ट्वीट किया, 'देश लाठियां, गोलियां, गोले, आंसू, ज़ख़्म, चीखें और नुकसान गिन रहा है, पर जिन्होंने ये आग लगाई-भड़काई-फैलाई व पहुंचाई है, वे सारे बस सीटें और वोट गिन रहे हैं! जो वो दोनों चाहते थे और चाहते हैं, वही हो रहा है ! राजघाट पर कोई ख़ामोश रो रहा है ! भारत को सिर्फ़ भारत बचा सकता है." बता दें कि नागरिकता संशोधन बिल 2019 (Citizenship Amendment Bill 2019) पारित होने के बाद नागरिकता संशोधन कानून 2019 बन चुका है. कानून के विरोध में असम, बंगाल, दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश समेत देश के कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन तेज हो गए हैं.

प्रदर्शनों में आम लोगों के साथ ही पुलिसकर्मी भी हुए घायल
नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान 15 दिसंबर को जामिया मिलिया इस्‍लामिया में हिंसा हुई. इस प्रदर्शन में कई छात्रों समेत पुलिस के कुछ जवान भी घायल हो गए. जामिया की घटना के अगले दिन सीलमपुर में हिंसक प्रदर्शन हुए. प्रदर्शन के दौरान पथराव की घटना हुई. स्‍कूली बस पर भी पत्‍थर फेंके गए. कुछ प्रदर्शनकारियों समेत कई पुलिस वाले भी घायल हो गए. एक पुलिस चौकी को प्रदर्शनकारियों ने जला दिया. पुलिस ने हालात को काबू करने के लिए चौकसी बढ़ा दी है. इसके बाद देश के दूसरे हिस्‍सों में भी प्रदर्शन शुरू हो गए.



5 जनवरी के लिए देश की कई यूनिवर्सिटी कर दी गई हैं बंद
जामिया मिलिया के छात्रों के समर्थन में देश की कई यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन हुए. कई यूनिवर्सिटी को 5 जनवरी, 2020 के लिए बंद कर दिया गया है और छात्रों से हॉस्‍टल खाली करा लिए गए हैं. इस कानून के विरोध में दिल्‍ली के लाल किला पर लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. हालांकि, जामा मस्जिद के इमाम ने कहा है कि इस कानून से देश के मुसलमानों का कोई लेनादेना नहीं है. उन्‍हें डरना नहीं चाहिए. विरोध प्रदर्शन को देखते हुए 19 दिसंबर, 2019 को देश के कई हिस्‍सों में धारा-144 लागू कर दी गई. बावजूद इसके देश में अलग-अलग जगह प्रदर्शन हुए.

ये भी पढ़ें:

Q&A: जानें क्‍या है नागरिकता संशोधन कानून 2019 और नेशनल रजिस्‍टर ऑफ सिटिजंस

CAA पर विदेश मंत्रालय ने कहा- भारत पर सवाल उठाने का PAK को अधिकार नहीं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज