लाइव टीवी
Elec-widget

JNU छात्रों के प्रदर्शन के कारण दिल्‍ली के इन इलाकों में लगा है जाम, इन रास्‍तों से बचकर निकलें

News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 7:41 PM IST
JNU छात्रों के प्रदर्शन के कारण दिल्‍ली के इन इलाकों में लगा है जाम, इन रास्‍तों से बचकर निकलें
फीस बढ़ोतरी के खिलाफ जेएनयू छात्रों के मार्च निकालने के कारण दिल्‍ली के कई इलाकों में जाम लग गया है. ऑफिस से निकलते समय जरा बचकर निकलें.

जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय (JNU) के छात्र पिछले कई दिन से फीस बढ़ाए जाने के खिलाफ प्रदर्शन (Protest) कर रहे हैं. आज उनके प्रदर्शन के कारण मोतीबाग, हयात होटल, एम्स, सफदरजंग रोड समेत राष्‍ट्रीय राजधानी के कई इलाकों में भारी जाम (Jammed) लग गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 7:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय (JNU) के छात्र पिछले कई दिन से फीस बढ़ोतरी (Increased Fee) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. अब इसका असर राष्‍ट्रीय राजधानी (National Capital) के यातायात (Traffic) पर भी नजर आने लगा है. दिल्ली (Delhi) के कई इलाकों में छात्रों के प्रदर्शन (Students' Protest) के कारण जाम (Jammed) लग गया है. मोतीबाग, हयात होटल, एम्स, सफदरजंग रोड, अरबिंदो मार्ग पर भारी जाम लगा है. दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) की ओर से भी कुछ स्टेशनों (Metro Stations) पर आवाजाही रोकने की जानकारी दी गई थी. हालांकि, इन स्‍टेशनों को शाम 5.30 बजे खोल दिया गया है.

कई मेट्रो स्‍टेशन फिर खोले, लोक कल्‍याण मार्ग स्‍टेशन अब भी बंद
दिल्ली मेट्रो के मुताबिक उद्योग भवन, पटेल चौक और केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन खोल दिए गए हैं. अब इन स्टेशनों पर ट्रेनें रुक रही हैं. वहीं, लोक कल्याण मार्ग मेट्रो पर आवाजाही बंद है. इससे पहले दिल्ली मेट्रो की ओर से दोपहर 3 बजे जानकारी दी थी कि दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की सलाह के बाद येलो लाइन (Yellow Line) पर उद्योग भवन और पटेल चौक मेट्रो स्‍टेशनों को अस्‍थायी (Temporary) तौर पर बंद कर दिया गया है. संसद (Parliament) की तरफ मार्च कर रहे जेएनयू छात्रों को दिल्ली पुलिस ने सफदरजंग रोड पर रोक दिया था. इसके बाद वहां बड़ी संख्या में छात्र जुट गए.

जेएनयू छात्र संघ ने अन्‍य यूनिवर्सिटी के छात्रों का किया था आह्वान

जेएनयू छात्र संघ (JNUSU) ने रविवार को अन्य विश्वविद्यालय के छात्रों का मार्च में शामिल होने के लिए आह्वान किया था. छात्र संघ ने कहा था कि देश में शिक्षा शुल्क में जबरदस्‍त वृद्धि की जा रही है. ऐसे में छात्रों को आगे आना चाहिए. हम संसद के शीतकालीन सत्र (Winter Session) के पहले दिन जेएनयू से संसद तक निकाले जाने वाले मार्च में शामिल होने के लिए सभी छात्रों को आमंत्रित करते हैं. पुलिस ने मार्च के मद्देनजर संसद मार्ग पर कड़ी सुरक्षा के इंतजाम (Security Arrangements) किए हैं. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दक्षिण-पश्चिम जिले से शुरू होने वाले सभी संभावित मार्गों से संसद की ओर जाने वाले सभी रास्‍तों पर पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए हैं.

स्‍टूडेंट्स ने आज जेएनयू से संसद तक मार्च निकाला, जिसे सफदरजंग रोड पर ही रोक दिया गया.


पुलिस बल की मौजूदगी में छात्रों ने मार्च निकालने की कोशिश की
Loading...

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University) के छात्रों का फीस वृद्धि को लेकर लगातार प्रदर्शन जारी है. सोमवार को छात्रों ने भारी पुलिस बल की मौजूदगी में विश्वविद्यालय से संसद (Parliament) की तरफ मार्च निकालने की कोशिश की. जेएनयू (JNU) के ये छात्र हॉस्टल मेन्युअल (Hostel Manual) में हुए बदलाव और फीस वृद्धि को लेकर पिछले कई दिन से मार्च कर रहे हैं. बता दें कि अब जेएनयू हॉस्टल (JNU Hostel) में अकेले रहने वाले छात्र को एक कमरे के हर माह 600 रुपये देने होंगे, जो पहले 20 रुपये थे. वहीं, टू सीटर कमरे के लिए हर महीने 100 रुपये देने होंगे, जो पहले 10 रुपये थे.

स्‍टूडेंट्स चाहते हैं फीस में की गई पूरी बढ़ोतरी ली जाए वापस
फीस वृद्धि को आंशिक रूप से कम करके 200 और 100 रुपये किया जा चुका है. लेकिन छात्र चाहते हैं कि पूरी वृद्धि वापस ली जाए. इस फीस वृद्धि को लेकर सबसे बड़ा विवाद हॉस्टल मेस (JNU Hostel Mess) की एक बार की सिक्योरिटी फीस को लेकर है, जो पहले 5,500 थी. इसे अब बढ़ाकर 12,000 रुपये कर दिया गया है. इसके अलावा स्टूडेंट्स को मेस सर्विस चार्ज के तौर पर 1700 रुपये भी देने होंगे. जहां इस बात की बहस छिड़ी हुई है कि छात्रों को फीस में इतनी छूट देनी चाहिए या नहीं, असल मुद्दा यह है कि जेएनयू में बड़ी तादाद में छात्र आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग से आते हैं.

ये भी पढ़ें:

'JNU फीस विवाद: करीब 40% छात्रों के परिवार की सालाना आय ₹ 1,44,000 से भी कम'

OPINION: 'दीपक की तेज लौ बता रही है साथी, दीया अब बुझने वाला है'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 7:16 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...