PUBG Ban in India: पबजी बैन के बाद बोला विदेश मंत्रालय, कंपनियां करें नियमों का पालन

PUBG Ban in India: पबजी बैन के बाद बोला विदेश मंत्रालय, कंपनियां करें नियमों का पालन
सरकार ने चीन के 118 ऐप्स पर बैन लगाया है.

PUBG Ban in India: विदेश मंत्रालय (MEA) के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव (Anurag Srivastava) ने कहा कि भारत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) के लिए सबसे खुले देशों में से एक है. इनमें इंटरनेट और डिजिटल कंपनियां भी शामिल हैं. अब इन कंपनियों की जिम्मेदारी है कि सरकार द्वारा जारी नियमों और दिशानिर्देशों का पालन किया जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 8:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 118 चीनी ऐप्स पर (18 mobile apps including PUBG) प्रतिबंध के एक दिन बाद गुरुवार को विदेश मंत्रालय (MEA) ने कहा है कि नियमों का पालन करना कंपनियों की जिम्मेदारी है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव (Anurag Srivastava) ने कहा कि भारत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) के लिए सबसे खुले देशों में से एक है. इनमें इंटरनेट और डिजिटल कंपनियां भी शामिल हैं. अब इन कंपनियों की जिम्मेदारी है कि सरकार द्वारा जारी नियमों और दिशानिर्देशों का पालन किया जाए.

भारत की संप्रभुता, अखंडता, सुरक्षा और शांति-व्यवस्था का हवाला
गौरतलब है कि बुधवार को सरकार ने लोकप्रिय गेमिंग ऐप पबजी सहित चीन की कंपनियों से जुड़े 118 अन्य मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया. इन्हें भारत की संप्रभुता, अखंडता, सुरक्षा और शांति-व्यवस्था के लिए खतरनाक मानते हुए इन पर पाबंदी लगायी गयी है. इससे चीन की कंपनियों से संबंधित जिन ऐप पर भारत में प्रतिबंध लगाया गया है, उनकी संख्या बढ़कर अब 224 हो गयी है.

इन ऐप्स पर लगा प्रतिबंध
एक आधिकारिक बयान के अनुसार, बुधवार को प्रतिबंधित ऐप में बायदू, बायदू एक्सप्रेस एडिशन, अलीपे, टेनसेंट वॉचलिस्ट, फेसयू, वीचैट रीडिंग, गवर्नमेंट वीचैट, टेनसेंट वेयुन, आपुस लांचर प्रो, आपुस सिक्योरिटी, कट कट, शेयरसेवा बाइ श्याओमी और कैमकार्ड के अलावा पबजी मोबाइल और पबजी मोबाइल लाइट शामिल हैं. सरकार ने इससे पहले टिकटॉक और यूसी ब्राउजर समेत चीन के कई अन्य ऐप पर प्रतिबंध लगाया था.



भारत चीन सीमा पर बढ़ा हुआ है तनाव
बयान में कहा गया, ‘सरकार ने 118 ऐसे ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिनसे भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और शांति-व्यवस्था के लिये खतरा है.’ सरकार ने यह कदम ऐसे समय उठाया है, जब लद्दाख में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव और बढ़ गया है. बयान में कहा गया कि सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्रालय को विभिन्न स्रोतों से कई शिकायतें मिली हैं. इन शिकायतों में एंड्रॉयड व आईओएस जैसे प्लेटफॉर्म पर मौजूद कुछ मोबाइल ऐप के उपयोक्ताओं (यूजरों) का डेटा चुराकर देश से बाहर के सर्वरों पर भंडारित किये जाने की रपटें भी शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज