पुडुचेरी में कैसे बचेगी सरकार! फ्लोर टेस्ट से पहले CM नारायणसामी ने विधायकों संग बनाई रणनीति

वी. नारायणसामी की सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं. के. लक्ष्मीनारायणन कांग्रेस के पांचवें विधायक हैं, जिन्होंने इस्तीफा दिया है. ANI

वी. नारायणसामी की सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं. के. लक्ष्मीनारायणन कांग्रेस के पांचवें विधायक हैं, जिन्होंने इस्तीफा दिया है. ANI

Puducherry Floor Test: पुडुचेरी की उपराज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने विपक्ष की मांग पर मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी को सोमवार को बहुमत साबित करने को कहा है. विपक्ष का दावा है कि मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी अपना बहुमत खो चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 9:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पुडुचेरी (Puducherry) में कांग्रेस (Congress) की अगुवाई वाली सरकार बचाने के लिए फ्लोर टेस्ट से पहले मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी (V Narayanasamy) के आवास पर पार्टी विधायकों और सहयोगी दलों के नेताओं के बीच मीटिंग हुई. केंद्रशासित प्रदेश की उपराज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी से सोमवार को बहुमत साबित करने को कहा है. इससे पहले, मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी विधानसभा पहुंचे और कांग्रेस विधायकों के साथ मीटिंग की और सरकार बचाने पर चर्चा की. बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में वी. नारायणसामी ने कहा कि कांग्रेस और द्रमुक (DMK) के विधायकों और सांसदों के साथ अन्य पार्टियों के नेताओं के साथ मीटिंग हुई है और सोमवार को विधानसभा में होने वाले फ्लोर टेस्ट के लिए रणनीति बनाई गई है. उन्होंने कहा कि हमने सदन में ही अपनी रणनीति का खुलासा करने का फैसला किया है.

इससे पहले, रविवार को दिन में कांग्रेस पार्टी के एक और विधायक ने अपना इस्तीफा विधानसभा स्पीकर को सौंप दिया. चार बार के विधायक रहे कांग्रेस नेता लक्ष्मीनारायणन (MLA K Lakshminarayanan) ने अपना इस्तीफा देते हुए कहा कि पार्टी और संगठन में उनकी 'कद्र' नहीं है और जल्द ही वे कांग्रेस छोड़ देंगे.

17 फरवरी को कांग्रेस के 4 विधायकों ने दिया था इस्‍तीफा

बता दें कि 17 फरवरी को कांग्रेस नेता राहुल गांधी के दौरे से पहले पुडुचेरी में उनकी पार्टी के 4 कांग्रेस विधायकों ने इस्तीफा दिया था, जिसके बाद नारायणसामी की सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे थे. लक्ष्मीनारायणन कांग्रेस के पांचवें विधायक हैं, जिन्होंने इस्तीफा दिया है. कांग्रेस विधायक लक्ष्मीनारायणन के इस्तीफे के थोड़ी देर बाद पुडुचेरी के डीएमके विधायक के. वेंकटेशन ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया. विधानसभा स्पीकर वीपी सिवाकोलुंधू ने दोनों विधायकों का इस्तीफा प्राप्त करने के बाद कहा, "मुझे दो विधायकों के इस्तीफे प्राप्त हुए हैं. मैंने मुख्यमंत्री और विधानसभा सचिव को इस बारे में बता दिया है. इस्तीफों का निरीक्षण कर रहा हूं."
लक्ष्मीनारायणन के इस्तीफा देने के बाद 27 सदस्यों वाली पुडुचेरी विधानसभा में कांग्रेस के विधायकों की संख्या 13 हो गई है और पार्टी अपना बहुमत खो चुकी है. लक्ष्मीनारायणन ने एक निजी टेलीविजन चैनल के साथ बातचीत में कहा, "वरिष्ठ नेता होने के बावजूद मुझे मंत्री नहीं बनाया गया. सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी अपना बहुमत खो चुकी है और मौजूदा संकट के लिए मुझे जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता."

रिपोर्ट्स के मुताबिक एनआर कांग्रेस और बीजेपी ने लक्ष्मीनारायणन से संपर्क किया है. उन्होंने कहा, "अपने समर्थकों से बातचीत के बाद मैं अपनी योजना के बारे में ऐलान करूंगा." पुडुचेरी की उपराज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने विपक्ष की मांग पर मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी को सोमवार को बहुमत साबित करने को कहा है. विपक्ष का दावा है कि मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी अपना बहुमत खो चुके हैं.

Youtube Video




अगर पुडुचेरी की मौजूदा कांग्रेस सरकार और विपक्षी पार्टियां सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत जुटाने से चूक जाती हैं तो राज्य में अगले तीन महीनों के लिए राष्ट्रपति शासन लग सकता है. केंद्रशासित प्रदेश में तीन महीने बाद विधानसभा चुनाव होने हैं. पुडुचेरी में वी. नारायणसामी की अगुवाई में कांग्रेस नीत सेक्युलर डेमोक्रेटिक अलायंस की सरकार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज