• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पंजाबः पावर कट को लेकर AAP का हल्ला बोल- घेरा सीएम का फार्महाउस, बैरिकेड भी तोड़े

पंजाबः पावर कट को लेकर AAP का हल्ला बोल- घेरा सीएम का फार्महाउस, बैरिकेड भी तोड़े

भीषण गर्मी में पंजाब में बिजली संकट गहराया हुआ है. अब इस पर सियासत भी गरमा गई है

भीषण गर्मी में पंजाब में बिजली संकट गहराया हुआ है. अब इस पर सियासत भी गरमा गई है

पंजाब में गर्मी और धान सीजन में बिजली संकट गहराता जा रहा है. आमजन और किसान इससे काफी परेशान हैं. शुक्रवार दोपहर को रोपड़ थर्मल प्लांट का एक यूनिट तकनीकी खराबी के चलते बंद पड़ने से यह संकट और गहरा गया. तमाम पाबंदियों के बावजूद प्रदेश में बिजली की मांग 13500 मेगावाट रही, जिसे पावरकॉम के पूरा न कर पाने कारण कई जगहों पर लोगों को कटों का सामना करना पड़ा.

  • Share this:
    चंडीगढ़. पंजाब में बिजली का संकट (Power crisis in Punjab) गहराता ही जा रहा है. जिसके चलते कैप्टन सरकार के खिलाफ जबरदस्त मोर्चाबंदी भी जारी है. बीते शुक्रवार को शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) के धरनों के बाद शनिवार को आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) ने सूबे में लगाए जा रहे पावर कट को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह के मोहाली स्थित सिस्वां फार्म हाउस का घेराव करने की कोशिश. आम आदमी पार्टी के नेता भगवंत मान (AAP chief Bhagwantman) के नेतृत्व में हजारों कार्यकर्ताओं ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के फार्महाउस का घेराव करने की कोशिश की. हालांकि पुलिस ने आप कार्यकर्ताओं को मोहाली में ही रोक दिया.

    कार्यकर्ताओं ने इस दौरान बेरिकेड्स को तोड़ने (Break the barricades) का प्रयास भी किया लेकिन पुलिस ने उन्हें वाटर कैनन का प्रयोग कर एक ही जगह पर ठहरने को मजबूर कर दिया.

    प्रदर्शन कर रहे आप नेता भगवंत मान ने कहा कि वर्तमान में कैप्टन सरकार पूर्व अकाली सरकार के समय में किए गए बिजली के समझौतों को रद्द नहीं कर पाई है, जिसका खामियाजा पंजाब के लोगों को भुगतना पड़ रहा है. पंजाब के किसान, मजदूर, कारोबारी, उद्योगपति, कर्मचारी, विद्यार्थी और हर वर्ग पावर कट के कारण भारी परेशानियों का सामना कर रहा है. उन्होंने कहा कि समझौतों के मुताबिक प्राइवेट थर्मल कंपनियां अपनी मर्जी से थर्मल प्लांट बंद रख सकती हैं और थर्मल प्लांट बंद होने पर पंजाब सरकार की ओर से थर्मल प्रबंधकों को फिक्स चार्ज देना पड़ता है.

    उन्होंने बताया कि अब तक करीब 20,000 करोड़ रुपए फिक्स चार्ज के तौर पर प्राइवेट बिजली कंपनियों को दिए जा चुके हैं. मान ने शिरोमणि अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी की तत्कालीन सरकार को भी बिजली संकट के लिए जिम्मेदार ठहराया है. उनका कहना है कि अकालियों की सरकार के समय में प्राइवेट बिजली कंपनियों के साथ गलत समझौते किए गए हैं. उन्होंने कहा कि पंजाब में आप की सरकार बनने पर बिजली का नया मॉडल तैयार किया जाएगा. उन्होंने कहा कि आप की सरकार बनने पर कंपनियों के साथ किए गलत समझौतों की जांच की जाएगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज