• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Analysis: पंजाब के बाद अब जयपुर और रायपुर पर सभी की निगाहें, क्या गांधी परिवार लेगा कड़ा फैसला?

Analysis: पंजाब के बाद अब जयपुर और रायपुर पर सभी की निगाहें, क्या गांधी परिवार लेगा कड़ा फैसला?

सोनिया, राहुल और प्रियंका की गांधी तिकड़ी कांग्रेस कैडर को एक कड़ा संदेश देना चाहती है. वो ये कि कांग्रेस आलाकमान का फैसला हर किसी को स्वीकार करना होगा.  (फ़ाइल फोटो)

सोनिया, राहुल और प्रियंका की गांधी तिकड़ी कांग्रेस कैडर को एक कड़ा संदेश देना चाहती है. वो ये कि कांग्रेस आलाकमान का फैसला हर किसी को स्वीकार करना होगा. (फ़ाइल फोटो)

Punjab Congress: पंजाब कांग्रेस के ताज़ा घटनाक्रम के बाद अब हर किसी की निगाहें राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ-साथ छत्तीसगढ़ में टीएस सिंहदेव और भूपेश बघेल पर टिकी हैं. पार्टी का संदेश साफ है, सुधरो या फिर बाहर जाओ.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्ली. बढ़ती उम्र के साथ पंजाब की राजनीति में लगातार कमज़ोर पड़ रहे कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) को मुख्यमंत्री पद से हटाकर कांग्रेस ने दूसरे राज्यों के नेताओं को भी कड़ा संदेश दे दिया है. अब हर किसी की निगाहें राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ-साथ छत्तीसगढ़ में टीएस सिंहदेव और भूपेश बघेल पर टिकी हैं. पार्टी का संदेश साफ है, सुधरो या फिर बाहर जाओ. कई राजनीतिक गुणा-गणित, जोखिम और साहस के बीच सोनिया, राहुल और प्रियंका की गांधी तिकड़ी कांग्रेस कैडर को एक कड़ा संदेश देना चाहती है. वो ये कि कांग्रेस आलाकमान का फैसला हर किसी को स्वीकार करना होगा. गांधी परिवार ने पूरे उत्साह के साथ काम किया है. किसी ने विद्रोह नहीं किया. पार्टी ने एक लाइन का प्रस्ताव सौंपते हुए सोनिया गांधी को कैप्टन का उत्तराधिकारी चुनने का अधिकार दिया.

कैप्टन अमरिंदर सिंह राजनीति के बड़े योद्धा हैं. उनका जाना तय था. लेकिन वो बार-बार अपनी ज़िद पर अड़े रहे. 2017 के राज्य विधानसभा चुनाव के घोषणापत्र के वादों को पूरा करने के लिए उन्हें बार-बार कहा गया. उन्हें एक टीम के रूप में काम करने, सभी को साथ लेकर चलने के लिए कहा गया. लेकिन भारतीय सेना के पूर्व कैप्टन टालमटोल करते रहे.

ये भी पढ़ें:- अंबिका सोनी के नाम पर सोनिया गांधी ने लगाई मुहर! कुछ देर में हो सकता है ऐलान

जेपी अग्रवाल, हरीश रावत और मल्लिकार्जुन खड़गे के तीन सदस्यीय कांग्रेस पैनल ने कैप्टन, नवजोत सिंह सिद्धू और अन्य 78 कांग्रेस विधायकों के साथ कई दौर की बातचीत की. सोनिया गांधी द्वारा नियुक्त पैनल ने क्रिकेटर से नेता बने नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश पार्टी अध्यक्ष नियुक्त करने के सुझाव सहित कई सिफारिशें की थीं. राजनीतिक रूप से इसे फरवरी 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए सिद्धू को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश करने के प्रयास के रूप में देखा गया.

कैप्टन विरोध करते रहे और चकमा देते रहे. एक दिन प्रियंका गांधी वाड्रा ने सिद्धू के साथ दिल्ली में सुजान सिंह पार्क स्थित अपने आवास पर फोटो खिंचवाई. सिद्धू पंजाब कांग्रेस के प्रमुख बन गए और वो कुछ राजनीतिक फैसले लेना चाहते थे. हालांकि सिद्धू और उनके सलाहकारों को कैप्टन परेशान करते रहे. एआईसीसी महासचिव हरीश रावत संतुलन बनाने की कोशिश करते रहे. रावत मूल रूप से एक संगठनात्मक व्यक्ति थे, वो कैप्टन के प्रति सहानुभूति रखते थे. लेकिन मुख्यमंत्री की उदासीनता ने रावत को फैसला लेने के लिए मजबूर कर दिया. एआईसीसी महासचिव को पार्टी विधायकों के साथ कई दौर की बातचीत के बाद सोनिया गांधी को लिखित में देना पड़ा कि कैप्टन ने पार्टी के अधिकांश विधायकों का समर्थन खो दिया है.

पंजाब के बाद अब दूसरे राज्यों और नेताओं का क्या होगा?
सबसे पहले बता दें कि ये क्षेत्रीय पार्टी, जी-23 के असंतुष्टों और बाकी लोगों के लिए एक संदेश है कि गांधी परिवार को वो हल्के में न लें. जोर-जबरदस्ती, धमकी भरे लहजे या अपमानित किए जाने की तुलना में गांधी परिवार एक पार्टी शासित राज्य नहीं रखना पसंद करेंगे. आलाकमान के फैसले का सम्मान करना होगा. सीधे शब्दों में कहें तो पंजाब कांग्रेस का ये घटनाक्रम राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए एक कड़ी चेतावनी है, जिन्होंने आलाकमान को नीचा दिखाने की हर संभव कोशिश की है. गहलोत को अपनी मंत्रिपरिषद का विस्तार करने, सचिन पायलट के कुछ समर्थकों को साथ लेकर चलने के लिए बार-बार कहा जा रहा है. गहलोत लगातार इसे टालते रहे हैं. कांग्रेस के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि वो दिन दूर नहीं जब दो केंद्रीय पर्यवेक्षक जयपुर आएंगे.

चंडीगढ़ के घटनाक्रम से पता चला है कि कांग्रेस के विधायक किसी भी क्षेत्रीय क्षत्रपों की तुलना में अनिवार्य रूप से गांधी परिवार के प्रति वफादार हैं. जयपुर और रायपुर में सत्ता पर काबिज लोगों को इस पर ध्यान देना चाहिए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज