• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पंजाब: बीजेपी ने लगाए नेताओं के साथ हिंसा के आरोप, पूछा- क्या हमें प्रचार का अधिकार नहीं है?

पंजाब: बीजेपी ने लगाए नेताओं के साथ हिंसा के आरोप, पूछा- क्या हमें प्रचार का अधिकार नहीं है?

राज्य के बीजेपी नेताओं ने सीएम को बताया है कि उनकी सुरक्षा बहुत खतरे में है. (फोटो: Twitter/@AshwaniSBJP)

राज्य के बीजेपी नेताओं ने सीएम को बताया है कि उनकी सुरक्षा बहुत खतरे में है. (फोटो: Twitter/@AshwaniSBJP)

Punjab BJP Update: राज्य के बीजेपी नेताओं ने सीएम को बताया है कि उनकी सुरक्षा बहुत खतरे में है. बीते रविवार को ही 14 बीजेपी नेताओं को किसानों ने करीब 12 घंटों के लिए बंधक बना लिया था. पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट (High Court) के दखल के बाद उन्हें छुड़ाया गया.

  • Share this:
चंडीगढ़. केंद्र सरकार (Union Government) के तीन कृषि कानूनों (Three Farm Laws) को लेकर पंजाब में भारतीय जनता पार्टी को किसानों की नाराजगी का सामना कर पड़ रहा है. हालात इतने खराब हो गए हैं कि राज्य के बीजेपी के नेताओं ने सुरक्षा को लेकर बीते सोमवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) से शिकायत की. राज्य के बीजेपी प्रमुख अश्वनि शर्मा (Ashwani Sharma) ने न्यूज18 को बताया है कि राज्य में एक राजनीतिक दल के तौर पर चुनाव प्रचार करने के लोकतांत्रिक अधिकारों पर रोक लगाई जा रही है. पंजाब में साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं.

राज्य के बीजेपी नेताओं ने सीएम को बताया है कि उनकी सुरक्षा बहुत खतरे में है. बीते रविवार को ही 14 बीजेपी नेताओं को किसानों ने करीब 12 घंटों के लिए बंधक बना लिया था. पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के दखल के बाद उन्हें छुड़ाया गया. शर्मा ने साथ ही राज्य में कानून व्यवस्था ना होने और पुलिस पर मूक दर्शक बने रहने के आरोप लगाए हैं.

न्यूज18 को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, 'क्या हमारे पास पंजाब में एक राजनीतिक दल होने के नाते प्रचार करने का लोकतांत्रिक अधिकार नहीं है? अब बीजेपी नेताओं के साथ हिंसा के 131 मामले सामने आ चुके हैं, लेकिन पुलिस हमेशा अज्ञात किसानों के खिलाफ मामला दर्ज कर लेती है और कोई गिरफ्तारी नहीं करती. जबकि, वीडियो फुटेज, अखबारों और टीवी चैनलों में किसानों के चेहरे साफ नजर आ रहे हैं. तो क्या पंजाब में यह बीजेपी के खिलाफ सरकार प्रायोजित प्रदर्शन हो रहे हैं?'



शर्मा ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री को यह बताया कि विरोध कर रहे शिक्षकों और बेरोजगार युवाओं को सीएम आवास के पास आने की अनुमति नहीं है और उन्हें हटाने के लिए पानी की बौछारें और आंसू-गैस का इस्तेमाल किया जा रहा है. उन्होंने कहा, 'तो क्यों पंजाब में किसानों को हमारे पहले से घोषित कार्यक्रम में घुसने दिया जाता है, जिसके बारे में पुलिस को सूचना दी जाती है? राजपुरा वाली घटना में जिला कलेक्टर, एसएसपी और डीआईजी सभी मूक दर्शक बने हुए थे. जहां बीजेपी नेताओं को बंधक बनाया गया था, वहां बिजली और पानी की सप्लाई भी काट दी गई थी.'

शर्मा ने न्यूज18 को बताया कि इससे यह साफ होता है कि पंजाब सरकार कानून और व्यवस्था बनाए रखने में असफल हो गई है. उन्होंने कहा, 'हम इस मुद्दे को लेकर पूरे पंजाब में धरना देंगे और अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए लड़ेंगे. पंजाब संविधान से चलेगा, डंडे से नहीं. पुलिस की मौजूदगी के बावजूद हमारे साथ घटनाएं हो रही हैं. सीएम ने हमें कुछ आश्वासन दिया है, लेकिन हम देखेंगे कि आने वाले दिनों में इनकी हकीकत क्या होगी.'

यह भी पढ़ें: पंजाब बेअदबी मामला: अमरिंदर सिंह के बाद अब नवजोत सिद्धू ने पहले की बादल सरकार को घेरा

उन्होंने कहा कि यह एकदम सामान्य बात है कि अगर राज्य सरकार कानून और व्यवस्था को सुनिश्चित करना चाहे, तो यह संभव नहीं है कि ऐसा ना हो. न्यूज18 को पता चला है कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा लगातार शर्मा से संपर्क में बने हुए हैं. साथ ही पार्टी ने इस मुद्दे पर पंजाब सरकार को घेरने का फैसला किया है. किसान मुद्दे पर शिरोमणि अकाली दल से गठबंधन टूटने के बाद भाजपा ने 2022 में सभी 117 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है.



भाजपा में भी आई दरार
किसान मुद्दे को लेकर पंजाब में बीजेपी में दरार आ गई है. कई नेताओं ने पार्टी के खिलाफ सुर मजबूत किए हैं. किसान आंदोलन का समर्थन करने के चलते बीजेपी ने वरिष्ठ नेता और अमृतसर से पूर्व मंत्री अनिल जोशी को निष्कासित कर दिया है. मास्टर मोहन लाल और राजकुमार गुप्ता जैसे बीजेपी के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने भी जोशी को समर्थन दिया था. इन्होंने पंजाब प्रमुख के तौर पर अश्वनी शर्मा के इस्तीफे की भी मांग की थी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज