कैप्टन ने कर्ज माफी के लिए PM को लिखी चिट्ठी, कहा- भारत सरकार को यह कड़वी गोली निगलनी पड़ेगी

इस चिट्ठी में कैप्टन अमरिंदर ने लिखा है कि खेती के कर्ज की एक बार की माफी इसलिए ज़रूरी है ताकि किसानों के संकट को कम किया जा सके और कृषि को उच्च वृद्धि के रास्ते पर लाया जा सकेगा.


Updated: June 5, 2019, 8:58 PM IST
कैप्टन ने कर्ज माफी के लिए PM को लिखी चिट्ठी, कहा- भारत सरकार को यह कड़वी गोली निगलनी पड़ेगी
इस चिट्ठी में कैप्टन अमरिंदर ने लिखा है कि खेती के कर्ज की एक बार की माफी इसलिए ज़रूरी है ताकि किसानों के संकट को कम किया जा सके और कृषि को उच्च वृद्धि के रास्ते पर लाया जा सकेगा.

Updated: June 5, 2019, 8:58 PM IST
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर संकट में घिरे देश के किसानों का राष्ट्रीय स्तर पर कर्ज माफ करने की अपील की है.

इस चिट्ठी में कैप्टन अमरिंदर ने लिखा है कि खेती के कर्ज की एक बार की माफी इसलिए ज़रूरी है ताकि किसानों के संकट को कम किया जा सके और कृषि को उच्च वृद्धि के रास्ते पर लाया जा सकेगा.

सिंह ने लिखा, भारत सरकार को एक बार के लिए तो यह कड़वी गोली निगलनी पड़ेगी.

कैप्टन ने आगे लिखा ने लिखा है कि इस बात को व्यापक स्तर पर स्वीकार किया जा रहा है कि देश के अधिकतर अन्नदाता भारी कर्जे के दबाव में है और इसके चलते कुछ किसानों ने आत्महत्या करने जैसा कदम भी उठाया.

उन्होंने आगे लिखा कि पंजाब सरकार ने अपने बूते पर उन सभी लघु और सीमांत किसानों का दो लाख रुपये का कृषि कर्ज माफ कर दिया है जो उन्होंने विभिन्न संस्थाओं से लिया था. 5.52 लाख किसानों को 4,468 करोड़ रूपये की कर्ज सहायता अभी तक दे चुकी है. बाकी इसमें योजना में पात्रता के हिसाब से राहत निकट भविष्य में दी जाएगी.

उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार ने यह सहायता अपने सीमित संसाधनों से दी है और यह पर्याप्त नहीं है. इसमें भारत सरकार के सहयोग की आवश्यकता है.

मुख्यमंत्री ने लिखा है कि केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत वित्तीय सहायता और किसानों के लिए पेंशन योजना शुरू की है पर ये उपाय मौजूदा आर्थिक संकट से निपटने के लिए पर्याप्त नहीं है. प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत किसानों को प्रति वर्ष छह हजार रूपये की आय सहायता दी जाती है.
Loading...

एक अन्य पत्र में मुख्यमंत्री ने मोदी को अपील की है कि वे केंद्रीय कृषि मंत्रालय को यह सलाह दे कि वह प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में आवश्यक सुधार करें.

सिंह ने कहा कि हालांकि यह योजना पहले से बेहतर है और पर अभी तक इसमें कई कमियां हैं. उन्होंने कहा कि इस बीमा योजना को खेत या भूखंड आधारित होना चाहिये न कि क्षेत्रफल आधारित. इसके अलावा मुआवजा 90 फीसदी से अधिक होना चाहिये और यह बीमित किसान की पिछली उपज के आधार पर मिलना चाहिये. साथ ही फसल कटाई के बाद मंडियों में प्राकृतिक आपदा के चलते होने वाले नुकसान को इस योजना में कवर किया जाना चाहिए.

इसके अलावा फसल बीमा योजना में स्थानीय प्राकृतिक आपदाओं को भी जोड़ा जाना चाहिये. जैसे रबी फसल में गैर मौसमी बारिश और खरीफ फसल में कम बारिश के कारण बढ़ने वाली लागत को शामिल किया जाना चाहिये.

दोबारा आतंकवाद के उभरने की रिपोर्ट को मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने किया खारिज

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 5, 2019, 8:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...