• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पंजाब कांग्रेस में फिर बदल सकता है अध्यक्ष, रवनीत बिट्टू को मिल सकती है कमान- रिपोर्ट

पंजाब कांग्रेस में फिर बदल सकता है अध्यक्ष, रवनीत बिट्टू को मिल सकती है कमान- रिपोर्ट

सिद्धू को 19 जुलाई को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. (फोटो-@sherryontopp)

सिद्धू को 19 जुलाई को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. (फोटो-@sherryontopp)

Punjab Congress Crisis: मंगलवार को राज्य के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के दिल्ली दौरे पर थे. कहा जा रहा है कि इस दौरान उनके साथ रवनीत बिट्टू (Ravneet Bittu) और कार्यकारी अध्यक्ष कुलजीत नागरा भी मौजूद थे.

  • Share this:

    चंडीगढ़. पंजाब कांग्रेस में फिर बड़ा बदलाव हो सकता है. खबर है कि कांग्रेस हाईकमान पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) का इस्तीफा स्वीकार कर सकती है. वहीं, उनके स्थान पर सांसद रवनीत सिंह बिट्टू को प्रदेश कांग्रेस की कमान दी जा सकती है. कुछ दिनों पहले ही सिद्धू ने एक वीडियो मैसेज जारी कर अपनी नाराजगी जाहिर की थी. पंजाब सरकार के कैबिनेट विस्तार के कुछ दिनों बाद ही सिद्धू ने इस्तीफा दे दिया था, लेकिन अब तक आलाकमान ने इसपर कोई फैसला नहीं लिया है. इसी बीच सीएम चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) ने भी नाराज कांग्रेस नेता से मुलाकात की थी, जिसके बाद कयास लगाए जाने लगे थे कि वे पद छोड़ने का फैसला वापस ले सकते हैं.

    रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को राज्य के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के दिल्ली दौरे पर थे. कहा जा रहा है कि इस दौरान उनके साथ रवनीत बिट्टू और कार्यकारी अध्यक्ष कुलजीत नागरा भी मौजूद थे. सीएम चन्नी की गृहमंत्री अमित शाह के साथ मुलाकात तय थी. बैठक में किसान आंदोलन के अलावा लखीमपुर खीरी कांड पर भी चर्चा की गई और सीएम चन्नी ने हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है. हालांकि, सूत्रों ने इशारा किया है कि पुलिस महानिदेशक को लेकर जारी तनाव भी चर्चा का हिस्सा रहा.

    सिद्धू को 19 जुलाई को पीपीसीसी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था, लेकिन कैबिनेट विस्तार के बाद सीएम चन्नी के साथ उनरके मतभेद सामने आए. कांग्रेस नेताओं ने इस बात का जिक्र किया था कि सिद्धू अपने प्रतिद्विंदी कहे जाने वाले एसएस रंधावा को बड़ा मंत्रालय मिलने से नाराज थे. साथ ही उन्होंने एपीएस देओल को एड्वोकेट जनरल और इकबाल सहोता को पंजाब की डीजीपी बनाए जाने पर आपत्ति जताई थी. इन दोनों के तार बेअदबी मामलों से जुड़े हुए हैं. जब सीएम चन्नी इनकी नियुक्ति के लिए तैयार हुए, तो सिद्धू ने पद छोड़ दिया था.

    खबर है कि वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह बाजपा और बिट्टू दिल्ली में हैं और कांग्रेस नेताओं का कहना है कि नेतृत्व में बदलाव होता है, तो उन्हें हैरानी नहीं होगी. प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने भी सिद्धू के बर्ताव पर आपत्ति जताई थी और कहा था के वे सीएम की ताकतों को कम कर रहे हैं. इधर, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रहे कैप्टन अमरिंदर सिंह भी कांग्रेस पार्टी पर निशाना साध रहे हैं. कहा जा रहा था कि वे जल्द ही नए राजनीतिक दल का ऐलान कर सकते हैं. साथ ही उनके संपर्क में कांग्रेस के कई नेता हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज